अटल पेंशन योजना क्या है पात्रता,लाभ और उद्देश्‍य

Atal Pension Yojana kya hai जो व्यक्ति किसी गवर्नमेंट जॉब में नहीं है 60 साल के बाद उसे किसी भी तरह का पेंशन का लाभ नहीं मिल सकता है, उनके लिए भारत सरकार के द्वारा एक पेंशन योजना चलाया गया है, जिसका नाम अटल पेंशन योजना है. Atal Pension Yojana के द्वारा असंगठित क्षेत्र के हर एक भारतीय नागरिक को 60 साल के बाद रिटायरमेंट के बाद पेंशन का लाभ मिल सकता है.

वैसे भारत में कई तरह के सरकार की तरफ से योजना चलाए गए हैं ताकि आम नागरिक को अपना जीवन बसर करने में आसानी हो. जैसे कि वृद्धा पेंशन, विकलांग पेंशन, विधवा पेंशन आदि. लेकिन युवाओं के लिए किसी भी तरह का पेंशन का सुविधा नहीं था.

इसीलिए भारत सरकार के द्वारा 18 साल से 40 साल तक के उम्र के व्यक्ति अपने रिटायरमेंट के बाद पेंशन पाने के लिए प्रीमियम राशि जमा कर सकती है. जोकि 60 साल के बाद 1000 से लेकर 5000 तक का मासिक पेंशन प्राप्त कर सकते हैं.Atal Pension Yojana के बारे में जानकारी नीचे विस्तार रूप से प्राप्त करेंगे. लाईफ इंश्योरेंस क्या है 

Atal Pension Yojana kya hai

अटल पेंशन योजना भारत सरकार के द्वारा शुरू किया गया युवाओं के लिए एक रिटायरमेंट योजना है. इस योजना के तहत 18 साल के से 40 वर्ष तक जिस व्यक्ति का उम्र है, वह इस पेंशन योजना में प्रवेश कर सकते हैं.

इस योजना का परिपक्वता 60 वर्ष कंप्लीट होने के बाद होती है यानी कि जब आप अटल पेंशन योजना के तहत प्रीमियम जमा करते हैं, तो उसको निकालने का समय आपके जब 60 वर्ष पूरे हो जाएंगे तब होगा.

Atal Pension Yojana kya hai

60 साल के बाद 1000 से लेकर 5000 तक पेंशन प्राप्त किया जा सकता है. वैसे पेंशन का प्रीमियम राशि जमा किए प्रीमियम राशि के अनुसार ही मिलता है.

अगर कोई व्यक्ति कम उम्र में अपना अटल पेंशन योजना शुरू करके प्रीमियम राशि भरना शुरू करते है तो उसे 60 साल के बाद ज्यादा से ज्यादा पेंशन मिलेगा. 

वहीं अगर कोई व्यक्ति ज्यादा उम्र से प्रीमियम राशि जमा करना शुरू करते हैं तो पेंशन भी कम राशि में मिलेगा. Atal Pension Yojana को शॉर्टकट में APY भी कहा जाता है.

एपीवाई के तहत 20 साल तक निवेश किया जाता है, जो कि 60 साल पूरे होने के बाद पेंशन के तौर पर प्राप्त कर सकते हैं. पॉलिसी बाजार क्या हैं 

योजना का नाम अटल पेंशन योजना
शुरुआत 1 जुन 2015
लाभार्थी भारत के नागरिक
किसके द्वारा शुरू हुआ भारत सरकार
योजना में प्रवेश का समय 18 साल से 40 साल तक
योजना का उद्देश्‍य पेंशन प्रदान कराना

 

अटल पेंशन योजना की पात्रता क्या है

इस योजना से जुड़ने के लिए कम से कम उम्र 18 साल और ज्यादा से ज्यादा 40 वर्ष होना चाहिए. अगर आप 18 साल से कम उम्र के हैं और 40 साल से ज्यादा उम्र के हैं तो इस योजना से नहीं जुड़ सकते हैं.

Atal Pension Yojana में कई प्लान है, उस प्लान के अनुसार आपको हर महीने कुछ पैसे प्रीमियम राशि के तौर पर जमा करने होते हैं. 

जिसके पश्चात 60 साल की उम्र के बाद हर महीने 1000 से 5000 तक का पेंशन दिया जाता है.

2022 में Atal Pension Yojana में कुछ बदलाव किया गया जिसके अनुसार अगर कोई व्यक्ति कानूनी तौर पर आयकर दाता है या पहले भी रह चुका है तो वह इस योजना का आवेदन करने के लिए पात्र नहीं माना जाएगा.अटल पेंशन योजना शुरू करने के लिए बैंक में बचत खाता होना चाहिए.

Atal Pension Yojana का शुरुआत

इस योजना का शुरुआत 1 जून 2015 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा किया गया. यह एक ऐसा सरकारी योजना है जिसके द्वारा अपने चयन किए हुए प्लान के अनुसार जितना प्रीमियम राशि जमा करेंगे उतना ही रिटायरमेंट के बाद हर महीने पेंशन प्राप्त कर सकते हैं.

इसका खास बात यह है कि जितना जल्दी इस योजना के तहत निवेश कर पाएंगे उतना ही जल्दी इसका फायदा भी प्राप्त हो पाएगा.

अटल पेंशन योजना में किया जाने वाला निवेश

इस योजना में निवेश हर महीने 210 रूपये किया जाता है. जोकि 60 साल के बाद 60000 रू सालाना पेंशन के रूप में प्राप्त कर सकते हैं.

अगर इस योजना का लाभ प्राप्त करते हैं तो इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80 के द्वारा निवेश करने पर कई टैक्स का छूट भी मिलता है.

अपने रिटायरमेंट के बाद हर महीने एकमुश्त राशि प्राप्त करके सही तरीके से जीवन यापन कर सकते हैं. साथ ही अपनी पत्नी बच्चों के लिए भी एक उचित फ्यूचर बना सकते हैं.

एपीवाई का निकासी करने का नियम

वैसे Atal Pension Yojana का लाभ 60 साल पूरे होने के बाद ही प्राप्त कर सकते हैं. लेकिन अगर आवेदक को 60 साल से पहले ही किसी भी तरह का गंभीर बीमारी है और उस बीमारी का इलाज करने के लिए पैसों की जरूरत है, तो इसका निकासी कर सकते हैं. 

अगर आवेदक जो अपना अटल पेंशन योजना का प्लान शुरू किए हैं और उसमें आगे निवेश नहीं कर पा रहे हैं या उसके लिए सक्षम नहीं है तो जो भी अभी तक प्रीमियम राशि जमा किए हैं उसका निकासी कर सकते हैं.

लेकिन समय से पहले इस योजना का निकासी करने से जो बाद में ब्याज मिलने वाला रहता है उसका लाभ नहीं मिल सकता है.

Atal Pension Yojana के आवेदक का अगर किसी बीमारी से या किसी दुर्घटना में 60 साल से पहले मृत्यु हो जाती है, तो उसने जो भी प्रीमियम राशि जमा की है उसका लाभ उसके जीवन साथी को मिल सकता है.

अगर उसका जीवन साथी भी नहीं है तो जो भी व्यक्ति का नाम नॉमिनी में दिया गया रहता है उसको 1,70000 से लेकर आठ लाख तक रुपए किश्त के रूप में मिल सकता है.

Atal Pension Yojana के लिए आवेदन कैसे करें

इस योजना का आवेदन जिस व्यक्ति का उम्र 18 साल से 40 साल तक है वही कर सकते हैं. अटल पेंशन योजना के तहत आवेदन करने के लिए किसी भी बैंक में बचत खाता होना चाहिए.

जिस बैंक में आपका बचत खाता है वहीं पर अटल पेंशन योजना का आवेदन फॉर्म प्राप्त कर सकते हैं. उस फॉर्म में आवेदक का उम्र, बैंक का अकाउंट नंबर, मोबाइल नंबर आदि भरना होता है. 

इसके साथ ही उस आवेदन में जो भी जरूरी दस्तावेज मांगा जाता है उसको उसी फॉर्म के साथ अटैच करके बैंक में जमा किया जाता है.

फॉर्म जमा करने के बाद जो भी सर्टिफिकेट आपने जमा किया है उसको verified किया जाता है और Atal Pension Yojana के तहत खाता खुल जाता है. जिसमें आप हर महीने प्रीमियम राशि जमा कर सकते हैं और 60 साल के बाद इसका लाभ उठा सकते हैं.

अटल पेंशन योजना का लाभ

इस योजना का लाभ तभी मिल सकता है जबकि आप अटल पेंशन योजना के सभी प्रीमियम सही तरीके से भुगतान किए हैं. हर महीने कितने राशि का प्रीमियम आपने भुगतान किया है उसी के अनुसार पेंशन प्राप्त होता है.

अगर 2000 रू का पेंशन प्राप्त करना चाहते हैं तो हर महीने 100 रू का प्रीमियम भरना होता है. अगर 5000 रू का पेंशन लेना चाहते हैं तो हर महीने 248 रू का प्रीमियम भरना जरूरी है. 

  • इस योजना का लाभ आवेदक के साथ-साथ उसके परिवार को भी मिलता है.
  • Atal Pension Yojana का लाभ सिर्फ भारत के नागरिक ही ले सकते हैं.
  • 60 साल के बाद सरकार के द्वारा 1000 से लेकर 5000 तक रुपए का हर महीने पेंशन मिलता है.
  • अगर किसी आवेदक का 60 साल से पहले मृत्यु हो जाता है तो उसके जीवनसाथी को इस योजना का लाभ मिल सकता है.
  • पति पत्नी दोनों में से कोई नहीं है तो जिस व्यक्ति का नाम नॉमिनी में दिया गया है उसको इस योजना का लाभ मिलता है.
  • अगर 60 साल से पहले किसी तरह का खतरनाक बीमारी हो जाता है या दुर्घटना होती है और उसके लिए पैसों की जरूरत है तो जमा किए हुए पैसे निकाल सकते हैं.

Atal Pension Yojana का उद्देश्य

इस योजना को 2015 में भारत सरकार के द्वारा शुरू किया गया इस योजना का उद्देश्य भारत में जो भी असंगठित क्षेत्र के नागरिक हैं उनको लाभ पहुंचाना है.

देश के जो आम नागरिक है जिनके पास किसी भी तरह का नौकरी नहीं है उनको आत्मनिर्भर बनाना है.असंगठित क्षेत्र के कामगारों व्यक्तियों का भविष्य सुरक्षित करना है.

जो व्यक्ति Atal Pension Yojana के तहत हर साल प्रीमियम राशि जमा करता है उसको 60 साल के बाद पेंसिल देकर सामाजिक सुरक्षा प्रदान करना इस योजना का उद्देश्य है.इस योजना के माध्यम से लोग सशक्त बनेंगे.

FAQ

अटल पेंशन योजना क्या है

यह एक सरकार के द्वारा शुरू किया जाने वाला रिटायरमेंट पेंशन योजना है.

एपीवाई का शुरुआत कब हुआ

इसका शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा 1 जून 2015 में किया गया.

इस योजना के पात्र कौन है

Atal Pension Yojana का शुरुआत वही कर सकते हैं जिसका उम्र 18 साल से 40 वर्ष का है.

अटल पेंशन योजना के द्वारा जमा किया गया राशि कब मिलता है.

Atal Pension Yojana kya में 18 साल से 42 साल तक के उम्र के व्‍यक्ति हर महीने  प्रीमियम राशि जमा करते हैं और 60 साल के उम्र के बाद 1000 से 5000 तक रुपए हर महीने पेंशन के रूप में प्राप्त कर सकते हैं.

इस योजना में हर महीने कितना निवेश किया जाता है

Atal Pension Yojana के अंतर्गत हर महीने 210 रू का निवेश अगर करते हैं तो 60 साल के बाद 60000 रू सालाना पेंशन के रूप में प्राप्त कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें

सारांश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा 2015 में शुरू किया जाने वाला Atal Pension Yojana का लाभ 60 साल के बाद प्राप्त कर सकते हैं. जिसे इस योजना का लाभ मिलता है, वह अच्छे से अपना जीवन यापन कर सकता है.

अगर उसकी मृत्यु 60 साल से पहले ही हो जाती है तो उसके जीवनसाथी को या उसके नॉमिनी को भी प्राप्त हो सकती है.

इस लेख में Atal Pension Yojana kya hai अटल पेंशन योजना क्या है, इस योजना का लाभ किसको मिल सकता है, इसका निकासी कब किया जा सकता है के बारे में पूरी जानकारी दी गई है. अगर इस लेख से संबंधित किसी भी तरह का सवाल है या सुझाव है तो जरूर बताएं.

Leave a Comment