बीकॉम के बाद क्या करें B.com ke baad kya kare

आज के समय में हर कोई बिजनेस की तरफ ज्यादा रुचि दिखा रहा हैं बीकॉम का कोर्स इसीलिए करते हैं क्योंकि इसमें एकाउंटिंग बिजनेस मार्केटिंग आदि के बारे में जानकारी विस्तार से दिया जाता है तो बीकॉम के बाद अगर अपना कैरियर आगे बढ़ाना चाहते हैं लेकिन सोच रहे हैं कि बीकॉम के बाद क्या करें B com ke baad kya kare बीकॉम के बाद कौन सी नौकरी है किस क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं तो इसके लिए इस लेख को अंत तक जरूर पढ़ें.

बीकॉम कोर्स करने के बाद अगर आगे भी कोई डिग्री प्राप्त करना चाहते हैं कोई कोर्स करना चाहते हैं तो उसके लिए कई कोर्स है जैसे कि एमकॉम, एमबीए, सीपीए, एलएलबी, डिजिटल मार्केटिंग आदि. इसके साथ ही कई तरह के प्राइवेट नौकरी और सरकारी नौकरी के भी अवसर मिल सकते हैं.

अगर बैंकिंग रेलवे आयकर विभाग आदि क्षेत्रों में जाना चाहते हैं तो इसके लिए बीकॉम के बाद कोई कोर्स कर सकते हैं और अपना कैरियर स्कोप बना सकते हैं. बीकॉम के बाद क्या करें जानने के लिए या बीकॉम के बाद अलग-अलग कोर्स के बारे में आइए नीचे विस्तार से जानते हैं.बैचलर डिग्री क्या होती हैं, प्रकार और फायदे

बीकॉम के बाद क्या करें

बीकॉम एक ग्रेजुएशन डिग्री है जो कि 12th करने के बाद किया जाता है बीकॉम का फुल फॉर्म बैचलर ऑफ कॉमर्स होता है इस कोर्स में एकाउंटिंग कंप्यूटर मार्केटिंग बिज़नेस आदि के Skil के बारे में पढ़ाई होता है.बीकॉम के बाद क्‍या कारे जानने से पहले आइये जानते हैं कि बीकॉम क्‍या हैं.

बीकॉम क्या है

ट्वेल्थ पास करने के बाद बीकॉम एक ग्रेजुएशन कोर्स है इसे अंडर ग्रैजुएट कोर्सेज कहा जाता है. इसे बैचलर ऑफ कॉमर्स कहते है जिसे हिंदी में वाणिज्‍य स्‍नातक कहा जाता हैं. यह 3 साल का डिग्री होता है जैसे इंटर के बाद आर्ट्स से b.a. किया जाता है साइंस से बीएससी किया जाता है उसी तरह कॉमर्स सब्जेक्ट से बीकॉम किया जाता है.

B com ke baad kya kare

बीकॉम में इकोनॉमिक्स, कॉरपोरेट, अकाउंटिंग, बिजनेस मैनेजमेंट, बैंकिंग लॉ, मार्केटिंग मैनेजमेंट, कॉस्ट अकाउंटिंग, बिजनेस मैथमेटिक्स, फाइनेंस मैनेजमेंट, पर्सनल मैनेजमेंट आदि सब्जेक्ट का पढ़ाई होता है बीकॉम का कोर्स करने के बाद एक छात्र पूरी तरह से बिजनेस को हैंडल करने लायक हो जाता है. बिजनेस को आगे बढ़ाने के लिए उसके पास हर तरह के आईडीयाज मालूम होते हैं

इस कोर्स को करने के लिए 12वीं में कम से कम 50 परसेंट मार्क्स होना जरूरी होता है उसके बाद ही कॉमर्स से ग्रेजुएशन कर सकते हैं इस कोर्स को करने के बाद कई क्षेत्र में कैरियर बनाने का मौका मिल जाता है अगर चाहे तो आगे चलकर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट बैंकिंग क्षेत्र के काउंटिंग आदि में अपना फ्यूचर बहुत ही आसानी से बना सकते हैं.

बीकॉम करने के बाद आगे कई पोस्ट ग्रेजुएशन,मास्टर डिग्री  आदि भी कर सकते हैं. भारत में कई कॉलेज है जहां की बीकॉम का कोर्स कराया जाता है.बीकॉम के बाद भी अगर आगे अपना पढ़ाई जारी रखना चाहते हैं अपना कैरियर और भी उज्जवल बनाने के लिए बेहतर से बेहतर नौकरी पाने के लिए और भी बेहतरीन कोर्स करना चाहते हैं तो आइए नीचे जानते हैं. बीकॉम का फुल फॉर्म क्‍या होता हैं 

M.Com

बीकॉम के बाद अगर कॉमर्स से ही आगे का कोर्स करना चाहते हैं बिजनेस मैनेजमेंट अकाउंटिंग फाइनेंस मार्केटिंग आदि के बारे में और भी ज्यादा जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो उसके लिए एमकॉम कोर्स बहुत ही बेहतरीन है. एमकॉम का फुल फॉर्म मास्टर ऑफ कॉमर्स होता है यह एक मास्टर डिग्री है. इस कोर्स का समय अवधि 2 वर्ष का होता है. इस कोर्स को करने के बाद प्राइवेट या सरकारी क्षेत्र में नौकरी के कई बेहतरीन ऑप्शन मिलेंगे.

B.ed

B.ed एक 2 साल का कोर्स होता है b.ed का फुल फॉर्म बैचलर ऑफ एजुकेशन होता है इस कोर्स को करने के बाद किसी भी मिडिल स्कूल प्राइमरी स्कूल हाई स्कूल या शिक्षा के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो आसानी से बना सकते हैं.

डिजिटल मार्केटिंग

वर्तमान समय में हर काम ऑनलाइन किया जा रहा है डिजिटली किया जा रहा है तो ऐसे में आज के युवा के लिए पहला पसंद लगभग डिजिटल मार्केटिंग कोर्स हो गया है. डिजिटल मार्केटिंग का कोर्स लगभग 6 महीना या एक साल में पूरा किया जाता है.

डिजिटल मार्केटिंग का मतलब ऑनलाइन तरीके से बिजनेस को आगे बढ़ाना होता है. इस कोर्स में एसीईओ, ब्रांडिंग, एडवरटाइजमेंट आदि के बारे में बताया जाता है. डिजिटल मार्केटिंग का कोर्स करने के बाद भारत में ही नहीं बल्कि अन्य देशों में भी अपना कैरियर बनाने का अवसर मिल सकता है.

CA

सीए का फुल फॉर्म चार्टर्ड अकाउंटेंट होता है. यह कोर्स 4 से 5 साल में पूरा कर सकते हैं. 12वीं के बाद चार्टर्ड अकाउंटेंट का कोर्स कर सकते हैं लेकिन बीकॉम के बाद भी अगर इस कोर्स को करना चाहे तो कर सकते हैं. सीए कोर्स में टैक्स और फाइनेंस से संबंधित जानकारियों को पढ़ाया जाता है.

सीए की पढ़ाई बहुत ही कठिन होती हैं इस कोर्स को करने के लिए कड़ी मेहनत और लग्न की जरूरत होती है लेकिन इस कोर्स को करने के बाद कैरियर स्कोर बहुत ही अच्छा है.

LLB

एलएलबी को बैचलर ऑफ लेजिसलेटिव लॉ कहा जाता है. अगर किसी को आगे चलकर वकालत करना है कानून की पढ़ाई करना है तो उनके लिए एलएलबी की डिग्री बहुत ही बेहतरीन है. इसमें कानून से संबंधित शिक्षा दिया जाता है. एलएलबी कोर्स का समय अवधि 2 साल का होता है और भारत में कई ऐसे बेस्ट कॉलेज है जहां से एलएलबी का कोर्स कर सकते हैं. एलएलबी का फुल फॉर्म क्या होता हैं 

CFA

सीएफए जिसका पूरा नाम चार्टर्ड फाइनेंशियल एनालिस्ट होता है यह एक पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स है इस कोर्स की समय अवधि 2 साल से 3 साल तक होती है बीकॉम करने के बाद एकाउंटिंग से संबंधित जानकारियों को आगे बढ़ाना चाहते हैं और भी ज्यादा जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो सीएफए कोर्स कर सकते हैं. सीएफए कोर्स के बाद कई क्षेत्र में कार्य करने का मौका मिलता है जैसे कि म्यूच्यूअल कंपनी, इंश्योरेंस कंपनी या बैंक में कई पोस्ट हासिल कर सकते हैं.

CPA

सीपीए का फुल फॉर्म सर्टिफाइड पब्लिक अकाउंटेंट होता है. इस कोर्स को 18 महीने में पूरा किया जाता है. अगर किसी के पास बीकॉम की डिग्री है बीकॉम का कोर्स पूरा कर लिए हैं तो सीपीए कोर्स कर सकते हैं और अंतरराष्ट्रीय लेवल पर अकाउंटिंग और फाइनेंस से संबंधित कार्यों को करने के लिए अनुमति भी मिल जाती है.

MBA

एमबीए एक मास्टर डिग्री है जिसका फुल फॉर्म मास्टर आफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन होता है. बिजनेस के हर एक गुण सीखने के लिए व्यापार के बारे में जानने के लिए एमबीए एक अच्छा कोर्स है यह कोर्स 2 साल में कंप्लीट किया जाता है. इस कोर्स में इन्वेस्टमेंट, कॉरपोरेट रिस्क, एनालिसिस के साथ-साथ बिजनेस को कैसे आगे बढ़ा सकते हैं

अपना बिजनेस व्यापार किस तरह से चला सकते हैं के बारे में बताया जाता है. एमबीए करने के बाद कई क्षेत्रों में कैरियर बना सकते हैं चाहे वह गवर्नमेंट हो या प्राइवेट हो कहीं भी अच्छी कंपनी में नौकरी आसानी से मिल सकती है. एमबीए का फुल फॉर्म क्या होता हैं

MCA

मास्टर ऑफ कंप्यूटर एप्लीकेशन जिसे एमसीए कहा जाता है. इस कोर्स को पूरा करने के लिए समय अवधि 3 साल का होता है आज के समय में कंप्यूटर की जानकारी हर किसी के लिए आवश्यक है एमसीए कोर्स में कंप्यूटर साइंस, कंप्यूटर ऑर्गेनाइजेशन, अकाउंटिंग, फाइनेंसियल, मैनेजमेंट, प्रोग्रामिंग, मैथमेटिकल फाउंडेशन आदि पढ़ाया जाता है.

यह कोर्स करने के बाद कई तरह के कैरियर स्कोप है जैसे कि सॉफ्टवेयर डेवलपर, प्रेशर आदि. किसी भी आईटी कंपनी में कार्य कर सकते हैं. कंप्यूटर के क्षेत्र में कई तरह के कंपनियों में कार्य आसानी से मिल सकते हैं.

M.Fin

एमफिन का फुल फॉर्म एमबीए इन फाइनेंस होता है. अगर फाइनेंसियल सेक्टर के बारे में पूरी जानकारी चाहते हैं तो एमबीए इन फाइनेंस एक अच्छा कोर्स है. इसमें एक बेहतरीन कैरियर का ऑप्शन मिलता है मैनेजमेंट संस्थानों में फाइनेंस से संबंधित कई तरह के नौकरी प्राप्त हो सकते हैं.

इस कोर्स को ऐसे कॉलेज से करना चाहिए जहां की प्लेसमेंट अच्छा हो इस डिग्री को प्राप्त करने के बाद फाइनेंस के क्षेत्र में एक से बढ़कर एक कंपनियों में नौकरी आसानी से मिल सकता है.

Bat

Accounting and taxation कोर्स में उद्योग से संबंधित एकाउंटिंग बिजनेस से संबंधित शिक्षा दिया जाता है ताकि अगर कोई आगे चलकर बिजनेस अकाउंटिंग में अपना करियर बनाना चाहता है खुद का बिजनेस करना चाहता है तो वह आसानी से कर सके. अगर चाहे तो किसी भी बड़ी कंपनी में बेहतरीन नौकरी का भी ऑप्शन मिल सकता है बीकॉम के बाद इस कोर्स को किया जा सकता है.

CMA

सीएमए का फुल फॉर्म कॉस्ट मैनेजमेंट अकाउंटेंट होता है इस कोर्स को करने के बाद बिजनेस मैनेजमेंट और बिजनेस लीडरशिप की पूरी जानकारी मिल जाती है. यह कोर्स 3 से 4 साल में पूरा किया जाता है इस कोर्स को करने के बाद अगर चाहे तो खुद का बिजनेस भी शुरू कर सकते हैं या किसी भी कंपनी में अच्छे पद पर नौकरी कर सकते हैं.

FRM

एफआरएम का पूरा नाम फाइनेंशियल रिस्क मैनेजर होता है जिसे हिंदी में वित्तीय जोखिम प्रबंधक कहा जाता है इस कोर्स को करने के बाद व्यवसाय में जोखिमों को समझने में उसको सुधारने में मदद मिलता है. इस कोर्स को करने के बाद जोखिम प्रबंधन के रूप में एक बेहतरीन करियर स्कोप है.

CIB

सीआईबी का फुल फॉर्म सर्टिफिकेट इन इन्वेस्टमेंट बैंकिंग होता है यह एक बैंकिंग कोर्स है इस कोर्स मैं बैंकिंग से संबंधित हर तरह के जानकारियों को प्राप्त किया जा सकता है रिस्क मैनेजमेंट, बैंकिंग मैनेजमेंट, फाइनेंस, होम लोन, बैंकिंग आदि के बारे में जानकारी प्राप्त होता है.

CS

सीएस को कंपनी सेक्रेटरी कहा जाता है बीकॉम के बाद सीएस एक बेहतरीन कोर्स है जिसको करने के बाद कई तरह के कैरियर ऑप्शन मिल जाते हैं. सीएस कोर्स में कंपनी को किस तरह से हैंडल किया जाता है कंपनी का रिकॉर्ड कैसे अच्छा बनाया जा सकता है के बारे में जानकारी दिया जाता है.

CFP

सर्टिफाइड फाइनेंशियल प्लानर सीएसपी का पूरा नाम होता है. एक फाइनेंसर के तौर पर कार्य करने के लिए किसी भी कंपनी में बड़े पद पर नौकरी करने के लिए यह कोर्स बहुत ही अच्छा होता है. इस कोर्स को करने के बाद इंश्‍योरेंस कंपनी म्यूचुअल फंड प्राइवेट बैंक आदि में आसानी से नौकरी मिल सकता है.

बीकॉम करने के बाद कैरियर ऑप्शन

बीकॉम एक ऐसा कोर्स है जिसमें फाइनेंस अकाउंटिंग आदि के बारे में जानकारी दिया जाता है बीकॉम करने के बाद किसी भी बैंक में सबसे ज्यादा कैरियर का ऑप्शन रहता है.

अगर कोई चाहे तो बीकॉम करने के बाद ऊपर दिए गए कई कोर्स है वह कोर्स कर सकते हैं या अगर चाहे तो आगे कई तरह के जॉब है उसको भी कर सकते हैं. बीकॉम करने के बाद कैरियर ऑप्शन बहुत ही ज्यादा मिल जाते हैं.टीचर कैसे बने, योग्यता, कोर्स एवं कार्य 

  • वित्त सलाहकार 
  • अकाउंटेंट 
  • बैंकर 
  • कंपनी सेक्रेटरी 
  • एडिटर 
  • टैक्स सलाहकार 
  • व्यापार विश्लेषक 
  • सेल्स एनालिस्ट 
  • वित्त अधिकारी 
  • सलाहकार 
  • मार्केट रिसर्चर.

बीकॉम के बाद करियर स्कोप

कई लोगों को ऐसा लगता है कि बीकॉम का कोर्स करने के बाद सिर्फ बैंक की नौकरी कर सकते हैं बैंक में ही हर तरह के पोस्ट प्राप्त कर सकते हैं लेकिन ऐसी कोई जरूरी नहीं है कि बीकॉम कोर्स के बाद एक ही क्षेत्र में जा सकते हैं. इस कोर्स को करने के बाद कई क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं भविष्य उज्जवल बना सकते हैं. बीकॉम के बाद कई करियर स्कोप है.

  • बैंकिंग 
  • फाइनेंस 
  • इंश्योरेंस 
  • एकाउंटिंग 
  • वेल्थ मैनेजमेंट 
  • एजुकेशन 
  • गवर्नमेंट सर्विस 
  • कॉमर्स

बीकॉम के बाद सरकारी नौकरी

कई व्यक्ति बीकॉम के बाद सिर्फ प्राइवेट सेक्टर में ही जाना चाहते हैं या उन्हें लगता है कि सिर्फ प्राइवेट सेक्टर में ही उन्हें अच्छी नौकरी मिल सकती है. लेकिन अगर सरकारी नौकरी में जाना चाहते हैं तो सरकारी नौकरी में भी कई कैरियर स्कोप है जो कि बीकॉम के बाद अच्छी से अच्छी नौकरी प्राप्त कर सकते हैं.

  • बैंक मैनेजर 
  • सब इंस्पेक्टर 
  • इनकम टैक्स ऑफिसर 
  • बैंक क्लर्क 
  • बैंक पियो 
  • रेलवे 
  • आई एफ एस 
  • वीडियो अधिकारी 
  • एसडीओ अधिकारी 
  • वायु सेना 
  • पुलिस 
  • डाक विभाग 
  • वन विभाग ‌ 
  • आईएएस आ
  • ईपीएस 
  • इंस्पेक्टर.

बीकॉम के बाद शॉर्ट टर्म कोर्स

बीकॉम के बाद 6 महीना से लेकर 1 साल तक के कई शॉर्ट टर्म कोर्स भी है इस कोर्स से कई तरह के कौशल गुण आदि भी बढ़ते हैं साथ ही कई तरह के कमाई का रास्ता भी निकल जाता है। कई लोग ऐसे होते हैं जिन्हें 2 साल 3 साल का कोर्स करने के लिए पैसे नहीं होते हैं या उनके पास समय नहीं रहता है तो वह ज्यादा कर भी कम कोर्स करने के बाद अपने स्किल को बढ़ाने के लिए किसी अच्छी कंपनी में नौकरी करने के लिए शॉर्ट टर्म कोर्स भी कर लेते हैं।

  • Certificate in disaster management 
  • Certificate in accounting
  • Certificate in public relations
  • Certificate in digital marketing
  • Certificate in office management 
  • certificate in banking and financial service 
  • certificate in event management 
  • certificate in web designing 
  • certificate in supply chain
  • certificate in retail management 
  • certificate in stock market 
  • certificate in wealth management
  • Certificate in rural development 
  • certificate is library and information sciences 
  • certificate in e-commerce 
  • certificate in banking 
  • PG certificate in banking and financial services

बीकॉम करने के फायदे

आज के समय में हर क्षेत्र में बहुत ही ज्यादा कंपटीशन हो गया है हर व्यक्ति एक दूसरे से आगे निकलने की होड़ में लगा रहता है लोग अपने और अपने परिवार का भविष्य सही तरीके से जीने के लिए शुरू से ही सेटल करना चाहते हैं तो ऐसे में बीकॉम के बाद कई फायदे होते हैं.

  • इस कोर्स को करने के बाद एक बेहतर मैनेजमेंट स्किल व्यापार बिजनेस सेटल करने की गुण व्यापार को आगे बढ़ाने का गुण आदि बेहतर हो जाता है.
  • अगर कोई चाहे तो प्राइवेट सेक्टर में या गवर्नमेंट सेक्टर में कई तरह के बड़े पद पर बैंक में कई पदों पर बीकॉम करने के बाद नौकरी कर सकते हैं.
  • अपना खुद का बिजनेस व्यापार कर सकते हैं.
  • वर्तमान समय में कई बड़ी-बड़ी कंपनियों में अकाउंटेंट फाइनेंस सेक्टर मार्केटिंग आदि के लिए एंप्लॉई को तलाशते रहते हैं तो अगर बीकॉम का कोर्स पूरा कर लिए हैं तो बड़ी कंपनियों में एक अकाउंटेंट के रूप में फाइनेंसियल सेक्टर में आसानी से जॉब प्राप्त कर सकते हैं.
  • मार्केटिंग और मैनेजमेंट सेल्स आदि का बहुत ही अच्छे से समझ हो जाता है जिससे कि बड़ी बड़ी कंपनी में जॉब प्राप्त करने का अवसर मिल जाता है.
  • अगर चाहे तो शिक्षा के क्षेत्र में भी बीकॉम करने के बाद कई अवसर मिल सकते हैं.
  • बीकॉम कोर्स करने के बाद कई फायदे मिलते हैं इसके साथ ही यह कोर्स बहुत ही कम पैसों में भी पूरा किया जा सकता है.
  • इस कोर्स को पूरा करने के बाद अगर चाहे तो आगे की कई कोर्स कर सकते हैं और अपने अकाउंट एंड फाइनेंसियल आदि स्किल को और भी आगे बढ़ा सकते.
  • बीकॉम का कोर्स करने के समय उसे स्टूडेंट का पर्सनालिटी और कम्युनिकेशन स्किल को भी बेहतर बनाने के लिए गुण सिखाए जाते हैं.

निष्कर्ष

अक्सर स्टूडेंट सोचते रहते हैं कि बीकॉम के बाद क्या करें. बीकॉम के बाद कोई अच्छी कंपनी में नौकरी करता है कोई अपना बिजनेस शुरू करता है कोई आगे का कोर्स करता है. इस लेख में बीकॉम के बाद क्या करें के बारे में पूरी जानकारी दी गई है

उससे क्या फायदा है बीकॉम के बाद कौन-कौन से कोर्स है इस कोर्स करने के बाद किस क्षेत्र में करियर स्कोप है किस किस क्षेत्र में अपना कार्य कर सकते हैं के बारे में पूरी जानकारी दी गई है अगर B.com ke baad kya kare से संबंधित कुछ सवाल लिया सुझाव है तो कृपया कमेंट करके जरूर. ऑनलाइन एग्जाम कैसे होता है 

 

Leave a Comment