Gopal Krishna Gokhale – गोपाल कृष्ण गोखले का जीवन परिचय

गोपाल कृष्ण गोखले का भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में क्या योगदान हैं Gopal Krishna Gokhale in hindi language कौन थे उन्‍होंने कौन कौन से सामाजिक कार्य किये हैं। उन्होंने भारत को स्वतंत्र कराने के लिए कौन कौन कार्य किया हैं यह सारी जानकारी हम लोग इस लेख में जानेंगे

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के बहुत ही प्रसिद्ध महत्वपूर्ण नेता और स्वतंत्रता सेनानी के रूप में जाने जाते हैं लेकिन महात्मा गांधी अपने राजनीतिक गुरु के रूप में गोपाल कृष्ण गोखले को मानते थे भारत को आजादी दिलाने में राष्ट्र का निर्माण करने में गोपाल कृष्ण गोखले का एक बहुमूल्य योगदान है

उन्होंने भारत के स्वतंत्रता सेनानियों में स्वाधीनता का एक ऐसा मंत्र फूंक दिया था जिससे कि अंग्रेज भी डरने लगे थे तो ऐसे स्वतंत्रता सेनानी समाज सेवक और राष्ट्रीय कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता गोपाल कृष्ण गोखले के जीवन परिचय के बारे में आइए नीचे विस्तृत रूप से जानते हैं।

Gopal Krishna Gokhale in hindi language

Gopal Krishna Gokhale एक महान स्वतंत्रता सेनानी समाज सुधारक उन्होंने सर्वेंट ऑफ इंडिया सोसाइटी की स्थापना की थी जिससे समाज में बेरोजगारी खत्म हो भारत के युवा या हर वर्ग के लोग शिक्षित हो जिससे की भारत में विकास हो।

जब भारत का विकास होगा तभी भारत आजाद होगा। गोपाल कृष्ण गोखले एक ऐसे शख्सियत थे जिन्हें राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने भी अपना राजनीतिक गुरु माना था Gopal Krishna Gokhale भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के सबसे प्रसिद्ध नरमपंथी नेता माने जाते थे

Gopal Krishna Gokhale अहिंसा वादी लड़ाई में विश्वास रखते थे इसीलिए महात्मा गांधी उन्‍हें अपना राजनीतिक गुरु मानते थे अपने किसी भी काम में महात्मा गांधी गोपाल कृष्ण गोखले का राय मशवरा जरूर लेते थे।

Gopal Krishna Gokhale in hindi language

1857 के स्वतंत्रता संग्राम के बाद भारत वासियों के दिलों में एक निराशा फैल गया था क्योंकि 1857 का स्वतंत्रता संग्राम था वह असफल हो गया था लेकिन कई भारतवासी थे जिनके दिलों में स्वतंत्रता का आग जल रहा था

स्वतंत्रता दिलाने के लिए वह प्रयासरत रहते थे जिनमें लोगों को उत्साहित करने का कार्य गोपाल कृष्ण गोखले ने किया गोपाल कृष्ण गोखले में बहस करने की इतनी क्षमता थी कि उन्हें भारत का ग्लेडस्टोन भी कहा गया है

भारतीयों के अधिकारों के लिए महिलाओं पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ उन्होंने आवाज उठाया गोपाल कृष्ण गोखले एक सच्चे राष्ट्रवादी और उदारवादी नेता थे स्वाधीनता संग्राम के कई स्वतंत्रता सेनानी गोपाल कृष्ण गोखले से प्रेरणा लेकर स्वाधीनता आंदोलन में सहयोग करने लगे थे

नाम गोपाल कृष्ण गोखले
जन्‍म 9 मई 1866
जन्‍म स्‍थान महाराष्ट्र के रत्नागिरी
पिता का नाम कृष्ण राव श्रीधर गोखले

 

माता का नाम वालू बाई गोखले
पत्नि का नाम सावित्रीबाई
शिक्षा एलफिंस्टन कॉलेज से स्नातक की डिग्री
कार्यक्षेत्र स्वतंत्रता सेनानी समाज सुधारक और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के नरपंथी नेता
संस्‍थापक 1905 में सर्वेंट ऑफ़ इंडिया सोसाइटी
उपाधी भारत का ग्लेडस्टोन
मृत्‍यु 19 फरवरी 1915

गोपाल कृष्ण गोखले का जन्म

Gopal Krishna Gokhale महाराष्ट्र के रत्नागिरी के रहने वाले थे उनका जन्‍म 9 मई 1866 को हुआ था महाराष्ट्र के रत्नागिरी के एक गांव के रहने वाले थे गोपाल कृष्ण गोखले के पिताजी का नाम कृष्ण राव श्रीधर गोखले था

उनकी माता का नाम वालू बाई गोखले था। गोपाल कृष्ण गोखले के पिता जी का मृत्यु उनके बचपन में ही हो गया था इस वजह से उनके घर की सारी जिम्मेदारी गोपाल कृष्ण गोखले के कंधे पर आ गया था

गोपाल कृष्ण गोखले बहुत ही ईमानदार और मेहनती व्यक्ति थे उन्हें बचपन से ही मेहनत करना अच्छा लगता था।गोपाल कृष्ण गोखले एक गरीब परिवार से थे उनके माता पिता चाहते थे कि वह अच्छे से पढ़ कर कोई सरकारी नौकरी करें ताकि उनका परिवार अच्छे से चल सके।

Gopal Krishna Gokhale in hindi का शिक्षा 

गोपाल कृष्ण गोखले बचपन से ही पढ़ने में बहुत तेज थे उन्हें पढ़ाई करना अच्छा लगता था वह बचपन से ही बहुत लगन शील और मेहनती व्यक्ति थे उनके पिता की मृत्यु होने के बाद घर की जिम्मेदारी उन्हीं के ऊपर हो गया था इस वजह से उनका परिवार चाहता था कि वह पढ़ाई करके सरकारी नौकरी में लग जाए गोपाल कृष्ण गोखले ने एलफिंस्टन कॉलेज से शिक्षा प्राप्त किया था

एलफिंस्टन कॉलेज से स्नातक की डिग्री प्राप्त की और उसके बाद डेक्कन एजुकेशन सोसायटी के सदस्य बन गये। पढ़ाई पूरी करने के बाद न्यू इंग्लिश हाई स्कूल पुणे में अध्यापक के पद पर नौकरी करने लगे बाद उन्होंने एक कॉलेज में इतिहास और अर्थशास्त्र के शिक्षक के पद पर काम करने लगे।यह कॉलेज पुणे का सबसे प्रसिद्ध कॉलेज फर्गुसन कॉलेज था।

गोपाल कृष्ण गोखले का विवाह

Gopal Krishna Gokhale ने दो शादियां की थी पहली शादी उन्होंने 1880 में सावित्रीबाई से किया था । दूसरी शादी 1887 में किया था गोपाल कृष्ण गोखले ने जब दूसरी शादी किया उसके कुछ ही दिनों बाद उनकी दूसरी पत्नी का मृत्यु हो गया लेकिन उनकी पहली पत्नी जीवित थी उनकी दूसरी पत्नी से दो बेटी थी उनकी पत्नी के मृत्यु के बाद दोनों बच्चों का पालन पोषण गोपाल कृष्ण गोखले के रिश्तेदार ने किया था।

गोपाल कृष्ण गोखले का व्यक्तित्व

Gopal Krishna Gokhale बहुत ही सहनशील नरम दिलवाले कर्मठ मेहनती व्यक्ति थे वह शुरू से ही भारत को स्वतंत्र कराने के लिए कार्यरत थे गोपाल कृष्ण गोखले नरम दल के नेता थे

उन्हें छुआछूत से बहुत ही नफरत था जो लोग जात पात और हिंदू मुस्लिम छुआछूत करते थे उनसे गोपाल कृष्ण गोखले बहुत घृणा करते थे गोपाल कृष्ण गोखले ने लोगों को शिक्षित करने के लिए भारत में विकास लाने के लिए कई तरह के कार्य किए हैं।

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में जितनी भी नेता थे उनमें गोपाल कृष्ण गोखले सबसे नरमपंथी नेता माने जाते थे वह महादेव गोविंद रानाडे के शिष्‍य थे गोपाल कृष्ण गोखले बहुत ही तीव्र बुद्धि वाले व्यक्ति थे उन्हें वित्तीय मामलों की समझ और उस के बारे में बहस करने की अद्वितीय क्षमता थी

भारत में सुधार करने के लिए भारत का विकास करने के लिए उन्नति करने के लिए उनका मानना था कि भारत में वैज्ञानिक और तकनीकी शिक्षा का विकास होना चाहिए भारत के नौजवानों को शिक्षित करने के लिए उन्होंने सर्वेंट ऑफ़ इंडिया सोसाइटी का स्थापना किया था

उनकी राष्ट्रीय भावनाओं को देखते हुए नीति निर्धारण के समझ को देखते हुए गोपाल कृष्ण गोखले को ठक्कर बापा के नाम से भी जाना जाता है गोखले विश्वास था कि अगर भारत में शिक्षा का विकास होगा तो लोग आत्मनिर्भर बनेंगे

अपनी जिम्मेदारियों को समझते हुए भारत को स्वतंत्र कराने के लिए स्वाधीनता संग्राम में लोग आवाज उठाएंगे सहयोग करेंगे इसीलिए उन्होंने कई शिक्षण संस्थान का भी स्थापना किया था

ब्रिटिश सरकार की नीतियों के खिलाफ भारत के लोगों को उनका हक दिलाने के लिए गोपाल कृष्ण गोखले हमेशा आवाज उठाते थे 1909 में जो मिंटो मार्ले सुधार हुआ था उसमें सबसे ज्यादा श्रेय गोपाल कृष्ण गोखले को दिया जाता है उन्होंने बंग भंग आंदोलन का नेतृत्व किया था

भारत में छुआछूत जातिवाद का आंदोलन चलाया था दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद नीति के खिलाफ गोपाल कृष्ण गोखले ने आवाज उठाई थी कई स्वतंत्रता सेनानियों के साथ मिलकर गोपाल कृष्ण गोखले हिंदू मुस्लिम एकता के लिए भी हमेशा कार्यरत रहते थे।

भारत में जो राष्ट्रीय आंदोलन चल रहा था उसमें अन्य आंदोलनकारियों के लिए एक मार्गदर्शक के रुप में गोपाल कृष्ण गोखले थे गांधीजी भी उन्हें अपना राजनीतिक गुरु मानते थे।

गोपाल कृष्ण गोखले का स्वतंत्रता आंदोलन में सहयोग 

Gopal Krishna Gokhale भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस पार्टी के नेता थे जब Gopal Krishna Gokhale फर्गुसन कॉलेज में शिक्षक के पद पर कार्यरत थे उसी समय उनका मुलाकात श्री एमजी रानाडे से हुआ गोपाल कृष्ण गोखले श्री एम जी राणा जी से बहुत प्रभावित हुए और वह डेक्कन एजुकेशन सोसायटी से जुड़ गए

इसके बाद गोपाल कृष्ण गोखले 1890 में कांग्रेस पार्टी के सदस्य बने गोपाल कृष्ण गोखले कांग्रेस पार्टी के सदस्य बन गए उसके बाद इंग्लैंड गए वहीं पर उनका महात्मा गांधी से भी मुलाकात हुआ Gopal Krishna Gokhale को महात्मा गांधी अपना राजनीतिक गुरु मानते थे

जब महात्मा गांधी बैरिस्टर की पढ़ाई करके भारत वापस आए भारत के आंदोलन के बारे में जानकारी पाने के लिए और उस पर विचार करने के लिए उन्होंने गोपाल कृष्ण गोखले से परामर्श लेना शुरू कर दीया।

गोपाल कृष्ण गोखले का स्वतंत्रता आंदोलन

महात्मा गांधी ने अपनी आत्मकथा में भी गोपाल कृष्ण गोखले को अपना राजनीतिक गुरु कहकर लिखा हैं Gopal Krishna Gokhale को कुछ दिनों के बाद भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के ज्वाइंट सेक्रेटरी बना दिया गया गोपाल कृष्ण गोखले और बाल गंगाधर तिलक दोनों एक साथ थे

लेकिन बाल गंगाधर तिलक और गोपाल कृष्ण गोखले दोनों का मत दो तरह का था गोपाल कृष्ण गोखले एक शांतिपूर्ण ढंग से आंदोलन करके अंग्रेजों को भारत से भगाना चाहते थे लेकिन बाल गंगाधर तिलक क्रांतिकारी ढंग से लड़ाई करके अंग्रेजों को अपने देश से खदेड़ना चाहते थे

जब 1905 में बंगाल विभाजन हुआ इसी समय बंग भंग आंदोलन शुरू किया हुआ इस आंदोलन में भारत के हर राज्य हर जगह में विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार किया जाने लगा और स्वदेशी आंदोलन चलाया गया

इस वजह से दोनों अलग हो गए वही बाल गंगाधर तिलक लाला लाजपत राय और बिपिन चंद्र पाल ने मिलकर गरम दल का गठन किया और Gopal Krishna Gokhale नरम दल के नेता बन गए।

गोपाल कृष्ण गोखले का स्वतंत्रता आंदोलन

Gopal Krishna Gokhale भारत को आजाद तो करवाना चाहते थे लेकिन शांतिपूर्ण ढंग से । Gopal Krishna Gokhale के वजह से ही महात्मा गांधी ने दक्षिण अफ्रीका में हो रहे रंगभेद के खिलाफ आंदोलन चलाया था भारत को आजाद करवाने के लिए गोपाल कृष्ण गोखले ने कई विदेशी यात्राएं भी की

ताकि लोगों के सहयोग से भारत को आजाद कराया जा सके गोपाल कृष्ण गोखले ने भारत को पूरी तरह से स्वराज दिलाया जा सके।जब वह इंग्लैंड गए तो वहां पर 49 दिनों में 45 सभाएं की और इन सभाओं में उन्होंने इतना अच्छा भाषण दिया कि वहां के लोग उनसे बहुत प्रभावित हुए

इसके बाद गोपाल कृष्ण गोखले का सार्वजनिक हितों में आवाज ज्यादा सुनी जाने लगी और लोग उनकी बातों को सुनने लगे ध्यान देने लगे Gopal Krishna Gokhale मराठा सप्ताहिक पत्रिका में भी लेख लिखा करते थे इस लेख के माध्यम से भारत के लोगों को जगाना चाहते थे

उनकी यह लेख देश भक्ति हुआ करती थी गोपाल कृष्ण गोखले नगरपालिका के दो बार सदस्य भी रहे थे और इसमें अपने देश को आजाद कराने के लिए उनके जो भी विचार थे अपना विचार रखा था।

गोपाल कृष्ण गोखले का सामाजिक कार्य 

Gopal Krishna Gokhale स्वतंत्रता सेनानी होने के साथ ही एक समाज सेवक भी थे उन्होंने भारत में शिक्षा के क्षेत्र में बहुत प्रचार प्रसार किया था भारतीयों को शिक्षित करने के लिए ही उन्होंने 1905 में सर्वेंट ऑफ़ इंडिया सोसाइटी की स्थापना की थी

इस सोसाइटी का मुख्य उद्देश्य भारतीयों को शिक्षित करना था Gopal Krishna Gokhale चाहते थे कि इस सोसायटी के द्वारा भारत के हर समाज में रहने वाले लोग शिक्षित हो ताकि भारत में पूरी तरह से विकास होने लगे।

उनका मानना था कि जब समाज शिक्षित होगा तभी देश शिक्षित होगा और जब देश शिक्षित होगा तभी भारत आजाद होगा Gopal Krishna Gokhale सर्वेंट ऑफ इंडिया सोसाइटी के द्वारा भारतीयों में आजादी की लहर फैलाना चाहते थे

वह चाहते थे कि भारत वासियों का संपूर्ण विकास हो और भारत पूरी तरह से ब्रिटिश सरकार से आजाद हो जाए वह भारतीयों में राजनीतिक शिक्षा को फैलाना चाहते थे।

गोपाल कृष्ण गोखले का सेवा भाव

Gopal Krishna Gokhale इस सोसाइटी के द्वारा कई स्कूल कॉलेजों का स्थापना किया था और कई जगह बैठ बैठ कर भी लोगों को पढ़ाया जाता था वह चाहते थे कि भारत में हर एक व्यक्ति शिक्षित हो और अपने देश को आजाद कराने का क्षमता उसमें पूरी तरह हो यह सोसाइटी आज भी अपना कार्य करती हैं

लेकिन पहले से और इसमें सदस्य कम हैं Gopal Krishna Gokhale शिक्षा के क्षेत्र में बहुत विकास करना चाहते थे वह पश्चिमी शिक्षा प्रणाली से बहुत प्रभावित रहते थे वह चाहते थे कि भारत में भी पश्चिमी शिक्षा प्रणाली का विकास हो ताकि भारतीयों का विकास हो लेकिन महात्मा गांधी उनके इस विचार से सहमत नहीं थे।

गोपाल कृष्ण गोखले के नाम से कई शिक्षण संस्थान 

Gopal Krishna Gokhale ने भारत में शिक्षा के क्षेत्र में भी बहुत सारे विकास किया उन्होंने भारतीयों को शिक्षित कराने के लिए कई तरह के सोसाइटी और संस्थान चलाया हैं इन संस्थानों का नाम कुछ इस तरह हैं

  • गोखले मेमोरियल गर्ल्स कॉलेज इन कोलकाता
  • gokhale हॉल इन चेन्नई
  • गोखले सैंटनरी कॉलेज इन अंकोला
  • गोपाल कृष्ण गोखले कॉलेज इन कोल्हापुर
  • gokhale इंस्टीट्यूट ऑफ पॉलिटिक्स एंड इकनोमिक इन पुणे
  • गोखले इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक अफेयर्स इन बैंगलोर

गोपाल कृष्ण गोखले का मृत्यु 

Gopal Krishna Gokhale का मृत्यु 19 फरवरी 1915 में हुआ था Gopal Krishna Gokhale शुगर और सांस के रोगी थे उन्हें ज्यादा बोलने से परेशानी होता था लेकिन वह भारत को आजाद कराने के लिए कई जगह जाते थे और भाषण देते थे

ज्यादा बोलने की वजह से ही उनका रोग ज्यादा बढ़ गया और उनका स्वास्थ्य खराब रहने लगा जिस वजह से उनकी मृत्यु हो गई।गोपाल कृष्ण गोखले का जब मृत्यु हुआ था उस समय उनका उम्र सिर्फ 49 साल ही था जब उनकी मृत्यु हुई तो बाल गंगाधर तिलक उनके अंतिम संस्कार में आए और उन्होंने कहा कि हमने भारत का हीरा महाराष्ट्र का आभूषण और श्रमिकों का राजकुमार खो दिया।

सारांश

भारत के युवाओं को शिक्षा के प्रति प्रोत्‍साहित करने के लिए युवाओं को शिक्षित होकर अपने राष्ट्रप्रेम को समझने के लिए गोपाल कृष्ण गोखले ने कई शिक्षण संस्थान स्थापित किए भारत में कई तरह के समाज सुधार कार्य किए स्वतंत्रता आंदोलन में कई आंदोलन का उन्होंने नेतृत्व किया

इस लेख में गोपाल कृष्ण गोखले का जीवन का लक्ष्य क्या था उन्होंने स्वाधीनता संग्राम में किस तरह से भारत वासियों को प्रोत्साहित किया भारत में शिक्षा का विकास करने के लिए देशवासियों को उन्नति करने के लिए महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिए कौन से समाज सुधार कार्य किए के बारे में पूरी जानकारी दी गई है अगर इस लेख से संबंधित कोई सवाल है तो कृपया कमेंट करके जरूर पूछें

इस लेख में हमने भारतीय स्वतंत्रता सेनानी और एक महान समाज सुधारक गोपाल कृष्ण गोखले के जीवन परिचय Gopal Krishna Gokhale के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की हैं Gopal Krishna Gokhale in hindi language आप लोगों की यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं और शेयर भी जरूर करें।

Leave a Comment