IAS ka Full Form – आईएएस का फुल फॉर्म क्या होता हैं

IAS ka full form in hindi language आईएएस का फुल फॉर्म क्या होता हैं और आईएस पास करने के लिए क्वालिफिकेशन क्या होना चाहिए।

आईएएस का परीक्षा देने के लिए उम्र कितना होना चाहिए यह सारी जानकारी हम लोग इस लेख में जानेंगे तो आप लोग यह लेख अंत तक जरूर पढियेगा तभी आप लोगों को आईएएस का फुल फॉर्म अच्छे से पता चल पाएगा आइए नीचे जानते हैं आईएएस के फुल फॉर्म के बारे में।

IAS भारत के सिविल सर्विसेज में कार्य करने वाले लोगों का एक पद होता हैं पोस्ट होता हैं जिसको आईएएस के नाम से जाना जाता हैं आईएएस को हिंदी में भारतीय प्रशासनिक सेवा कहा जाता हैं।

IAS ka full form in hindi language 

आईएएस अधिकारी भारतीय सिविल सर्विसेस के सबसे श्रेष्ठ अधिकारी के रूप में जाने जाते हैं आईएएस ऑफिसर का एग्जाम पास करने के बाद एक आईएएस का नियुक्ति किसी भी जिला में सरकार के द्वारा किया जाता हैं।

हर एक छात्र युवा का आईएस बनने का शौक होता हैं क्योंकि आईएस का पद बहुत ही सरकार के सबसे प्रमुख अंग के रूप में काम करते हैं समय-समय पर आईएएस अधिकारी के द्वारा ही किसी भी क्षेत्र में काम के बारे में या उस को आगे बढ़ाने के लिए काम का चयन करने के लिए एक आईएएस अधिकारी ही सरकार को समय समय पर उचित मार्गदर्शन करते हैं जिससे जिला राज्य और देश का विकास होता हैं।

IAS ka full form in hindi language

IAS ka Full form in hindi  

IAS का फुल फॉर्म इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विसेज होता हैं आईएएस का हिंदी में मतलब होता हैं भारतीय प्रशासनिक सेवा। आईएएस परीक्षा एक बहुत ही महत्वपूर्ण और कठिन परीक्षा होता हैं इसमें भाग लेने वाले परीक्षार्थियों में से लगभग कम ही परीक्षार्थी पास हो पाते हैं।

क्योंकि इस परीक्षा में छात्रों में बहुत ही ज्यादा कंपटीशन होता हैं हमारे देश में पढ़ने वाले लगभग हर छात्र या छात्राएं आइएएस बनने का सपना देखते हैं आईएएस की परीक्षा में हर साल 600000 उम्मीदवार होते हैं लेकिन उनमें से 1000 ही चुने जाते हैं क्योंकि इसमें सिलेक्शन बहुत मुश्किल होता हैं।

आईएएस का परीक्षा किस आयोग द्वारा लिया जाता हैं

IAS का परीक्षा UPSC यानि कि संघ लोक सेवा आयोग के द्वारा हर साल लिया जाता हैं। संघ लोक सेवा आयोग के द्वारा ही लगभग सभी सिविल सेवा परीक्षा लिया जाता हैं UPSC के द्वारा आईएएस आईपीएस आईएफओएस परीक्षा लिया जाता हैं।

आईएएस परीक्षा कब शुरू हुआ

IAS परीक्षा भारत के अन्य सिविल सर्विस में से एक बहुत ही महत्वपूर्ण परीक्षा होता हैं जिसमें बहुत सारे छात्र छात्राएं भाग लेते हैं और उन्हें पास होने में बहुत कठिनाई भी होती हैं इस परीक्षा का शुरुआत 1893 में हुई थी

लेकिन उस समय आइएएस का नाम भारतीय साही सेवा था 1947 में जब भारत आजाद हुआ उसके कुछ समय पहले भारतीय शाही सेवा का नाम बदलकर आईएएस रखा गया ।

तब से आज तक आईएएस के नाम से ही यह परीक्षा जाना जाता हैं। 1950 में हमारा संविधान बना इसी साल से यूपीएससी के द्वारा आईएएस का परीक्षा होता आ रहा हैं हमारे भारत देश के सबसे पहले आईएएस ऑफिसर जो बने थे उनका नाम सत्येंद्र टैगोर हैं और सबसे पहली महिला आईएएस ऑफिसर जो बनी थी उनका नाम श्रीमती अन्ना राजम मल्होत्रा हैं।

आईएएस की परीक्षा के लिए क्वालिफिकेशन क्या होना चाहिए

IAS की परीक्षा देने के लिए सबसे पहली जो बात हैं वो यह हैं कि भारतीय नागरिकता का पहचान होना चाहिए। अगर आप भारत से बाहर के किसी दूसरे देश के नागरिक हैं तो आप आईएएस का परीक्षा नहीं दे सकते हैं इसलिए सबसे जरूरी हैं कि आपको भारत का नागरिकता होना चाहिए तभी आप आईएएस के परीक्षा में बैठ सकते हैं या परीक्षा दे सकते हैं।

आईएएस परीक्षा देने के लिए किसी भी सरकारी कॉलेज से ग्रेजुएशन होना चाहिए अगर कोई ग्रेजुएशन के लास्ट ईयर में भी हैं तो यह परीक्षा दे सकता हैं लेकिन सर्टिफिकेट जांच होने के समय ग्रेजुएशन पूरा हो जाना चाहिए और सारे सर्टिफिकेट्स सही होना चाहिए वैसे इस परीक्षा में डॉक्टर इंजीनियर वैज्ञानिक कोई भी हो इस परीक्षा में भाग ले सकता हैं।

आईएएस परीक्षा के लिए उम्र क्या होना चाहिए

IAS परीक्षा देने के लिए सबसे कम उम्र 21 साल होना चाहिए और अधिक से अधिक आरक्षण के अनुसार उम्र अलग-अलग होता हैं। जैसे कि

  • जनरल के लिए अधिक से अधिक 32 साल का उम्र होना चाहिए।
  • ओबीसी के लिए अधिक से अधिक 35 वर्ष का उम्र होना चाहिए।
  • एससी एसटी के लिए अधिक से अधिक उम्र का कोई लिमिट नहीं हैं।

आईएएस परीक्षा पास करने के बाद कौन कौन सा पद मिलता हैं 

IAS परीक्षा देने के बाद जो भी पद मिलता हैं वह बहुत ही पावरफुल और शक्तिशाली कौन होता हैं आईएएस परीक्षा देने के लिए बहुत ही मेहनत करना पड़ता हैं इस परीक्षा में जो छात्र पढ़ने में तेज और प्रतिभाशाली होते हैं वही आईएएस के परीक्षा पास कर पाते हैं

क्योंकि इसमें बहुत ही ज्यादा कंपटीशन छात्रों के बीच होता हैं आईएएस परीक्षा पास करने के बाद हर कैंडिडेट को अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग पद मिलता हैं यह पद उनके परीक्षा में मिले रैंक के अनुसार मिलता हैं आईएएस पास करने के बाद जो पद मिलता हैं वह इस प्रकार हैं

  • किसी भी जिला में जिला कलेक्टर यानी की डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट DM का पद मिलता हैं। जिसका हिंदी होता हैं जिला पदाधिकारी।
  • किसी भी सब डिवीजन में SDM का पद मिलता हैं जिस का फुल फॉर्म होता हैं सब डिविजनल डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट।
  • जैसा कि हम लोग जानते हैं कि किसी भी जिला में जो जिला के मालिक होते हैं जिनको जिला अधिकारी के नाम से जाना जाता हैं वह एक आईएएस अधिकारी होते हैं।

 

  • आईएएस अधिकारी का उनके काम के अनुसार उनको सरकार के द्वारा प्रमोशन किया जाता हैं और वही आईएएस अधिकारी राज्य का सबसे प्रमुख पद मुख्य सचिव के रूप में भी काम करते हैं।
  • आईएएस अधिकारी ही देश के सबसे श्रेष्ठ पद भारत के अलग-अलग विभाग के मुख्य सचिव के रूप में भी काम करते हैं।

सारांश 

IAS का फुल फॉर्म क्या होता हैं आईएएस का फुल फॉर्म के बारे में ऊपर पूरी जानकारी दी गई हैं वैसे आईएएस को हिंदी में भारतीय प्रशासनिक सेवा के नाम से जाना जाता हैं

और अंग्रेजी में इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस के नाम से जाना जाता हैं एक लाइन में यदि आईएएस का मतलब समझा जाए तो आईएएस का मतलब सिविल सर्विसेज का सबसे मुख्य सेवा में कार्य करने वाले लोगों को आईएएस कहा जाता हैं।

आईएएस के फुल फॉर्म के बारे में दी गई पूरी जानकारी आप लोगों को कैसा लगा कृपया कमेंट करके अपना राय जरूर दें और अपने दोस्त मित्रों के साथ ही इस जानकारी को शेयर भी करें।

 

Leave a Comment