Jivan Kya hai – जीवन क्या हैं

जीवन क्या हैं जीवन के बारे में सभी लोगों का अपना अपना अलग नजरिया होता हैं Jivan kya hai in hindi जीवन जीने का सभी लोगों का अपना अलग तरीका होता हैं. कोई ज्यादा मेहनत करता हैं और मेहनत करके ही जीवन जीने में सुख प्राप्त करता हैं.

लेकिन कोई व्यक्ति ऐसा होता हैं जो कि चाहता हैं कि मेरे पास बहुत सारा पैसा हो और मैं बहुत ही आराम से रह सकूं और मेहनत भी नहीं करना पडे. लेकिन जो सही में जीवन का क्या मकसद होना चाहिए क्या उद्देश्य होना चाहिए.

इसके बारे में भी जानना बहुत आवश्यक हैं. जब यह जीवन मिला हैं तो इसमें कुछ करना भी जरूरी हैं. इस लेख में जीवन क्या हैं जीवन का उद्देश्य क्या हैं. जीवन जीने की काला क्या होती हैं. जीवन का महत्व क्या हैं  यह सारी जानकारी आइए नीचे प्राप्त करते हैं.

Jivan kya hai in hindi

जब किसी भी व्यक्ति का जन्म होता हैं तो उसके जन्म से लेकर मृत्यु के बीच का जो समय होता हैं. उसी को जीवन कहते हैं. अब उस व्यक्ति के ऊपर निर्भर करता हैं कि वह अपना जीवन किस तरह से व्यतीत करेगा. उसके हाथों में ही अपने जीवन के बारे मेंअच्छा या बुरा निर्णय लेना हैं. वह इस अवसर का लाभ कैसे उठाता हैं.

क्योंकि किसी भी व्यक्ति के जीवन का निर्णय कोई दूसरा नहीं ले सकता हैं. अपने बारे में भला और बुरा सोचना खुद अपने हाथों में होता हैं.जीवन भगवान का दिया हुआ एक बहुत ही अनमोल वरदान होता हैं. जिसका हमेशा सदुपयोग करना चाहिए. इसका दुरुपयोग करने से जीवन जीते जी नर्क हो जाता हैं.

Jivan kya hai in hindi

जीवन के बारे में हर किसी का अपना एक अलग मतलब होता हैं. जैसे किसी का मानना हैं कि जीवन एक रेस हैं. जिंदगी भर दौड़ते रहना हैं यही जीवन जीने का तरीका हैं लेकिन जिस दिन यह रेस रुक जाएगा उसी दिन जीवन का अंत हो जाएगा. 

जीवन का अर्थ क्या होता हैं 

Jivan में कभी भी किसी भी विषय पर सोच समझकर सही निर्णय लेना चाहिए. क्योंकि सोच समझ कर लिया गया निर्णय कभी भी गलत नहीं होता हैं और अगर सही निर्णय लिया जाएगा तभी जीवन में आगे चलकर सही अवसर और दिशा मिल पाएगा. जो कि हमारे जिंदगी के लिए बहुत ही लाभकारी हो सकता हैं. जीवन एक अवसर होता हैं.

कभी-कभी ऐसा समय आता हैं कि कुछ अच्छा करना हैं उस टाइम अगर हम लोग नहीं कर पाते हैं तो आगे चलकर उसका पछतावा भी होता हैं. इस लिए कभी भी कोई अच्छा अपॉर्चुनिटी मिले उसे छोड़ना नहीं चाहिए.

सोच समझकर उस पर विचार करना चाहिए. क्योंकि कभी-कभी गलत निर्णय लेने से अपने साथ-साथ दूसरों को भी उस से हानि पहुंच सकता हैं.

जीवन का उद्देश्य क्या हैं 

पृथ्वी पर बहुत से ऐसे जीव हैं प्राणी हैं.जो कि जीवन जीते हैं लेकिन उनका कोई भी उद्देश्य या जीवन का मतलब नहीं होता हैं. भगवान ने कई तरह के जीव को बनाया हैं लेकिन इंसान को शायद इसी लिए बनाया हैं कि वह अपने जीवन का उद्देश्य पूरा कर सके या अपने जीवन के उद्देश्य को समझ सके. जिंदगी में कभी भी किसी से बेईमानी नफरत नहीं करना चाहिए.

लोगों के साथ परोपकार करना चाहिए.ईमानदारी के पथ पर चलकर जो भी अपना कर्म करता हैं उसे भगवान हमेशा सुखी रखते हैं. और इसका लाभ मिलता हैं.

दूसरों के साथ परोपकार करने से उस व्यक्ति का खुद का जीवन हमेशा सुखमय बना रहता हैं. लोग ऐसे होते हैं जो चाहते हैं कि हमें मेहनत नहीं करना पड़े और बहुत सारा धन मेरे पास आ जाए कि जीवन बहुत ही सुख से जी सकें.

लेकिन उनका यह सोच बहुत ही गलत होता हैं. क्योंकि जब मेहनत से पैसा कमाया जाता हैं तभी किसी के जीवन सुखमय होता हैं.कभी भी किसी से ईर्ष्‍या नहीं करना चाहिए.

जीवन का लक्ष्‍य

हर किसी को अपने जीवन में एक लक्ष्य रखना चाहिए कि हमें आगे चलकर क्या करना हैं. जीवन हो एक संघर्ष कहा जाता हैं संघर्ष करने पर ही आगे चलकर जीत मिल सकता हैं. कई व्यक्ति ऐसे हैं जो चाहते हैं कि हम कुछ मत करें और आसानी से हमें कोई भी लक्ष्य मिल जाए. लेकिन ऐसा कभी भी नहीं हो सकता.

क्योंकि जीवन में कठोर साधना करने की आवश्यकता हैं. तभी कोई भी कार्य सरलता से और आसानी से हो सकता हैं. क्योंकि जीवन में हार और जीत दोनों ही होते रहते हैं. जीवन एक बाजी की तरह होता हैं.

जीवन जीने की कला क्या हैं 

कोई भी मनुष्य अपने आगे के भविष्य के बारे में हमेशा सोचता रहता हैं कि हम क्या ऐसा काम करें कि जो हमारा आगे का जो फ्यूचर हैं. वह सुरक्षित हो सके कई लोग ऐसे होते हैं जो पीछे कोई ऐसी घटना घटा रहता हैं जो उन्हें बहुत ही कष्टदायक होता हैं. उसको याद करके हमेशा चिंतित रहते हैं.

लेकिन जीवन जीने का सही कला यही हैं कि पीछे जो घट गया उसके बारे में मत सोचिए आगे जो आने वाला हैं. उसके बारे में सोचना बहुत ही जरूरी हैं. जीवन भगवान के तरफ से अनमोल अवसर मिला हैं. इसको हमेशा खुशी से और आनंदमय होकर जीना चाहिए. वर्तमान में जो चल रहा हैं उस समय को अच्छा बनाना चाहिए.

जीवन का महत्व क्या हैं 

जीवन बहुत ही अनमोल होता हैं इसलिए इसके महत्व को समझना चाहिए. जीवन में हमेशा परोपकार करना चाहिए. जीवन का महत्व वहीं समझ सकते हैं जिसको किसी तरह का दुर्घटना होता हैं और फिर से वह ठीक हो जाते हैं. अपने परिवार से मिल पाते हैं तो वहीं जीवन का महत्व समझ पाते हैं.

जीवन में हमेशा ही आगे बढ़ते रहना चाहिए. जीवन का हमेशा सदुपयोग करना चाहिए जो जितना में हैं उसी में जीवन जीना सीखना चाहिए.

पैसों का बर्बादी नहीं करना चाहिए नहीं तो इससे व्यक्ति को आगे चलकर बहुत ही दुख होता हैं. दूसरे को देख कर कभी भी कोई ऐसा कार्य नहीं करना चाहिए जिससे कि आप आगे चलकर कोई परेशानी न हो जाए.

इसे भी पढ़ें

सारांश 

जीवन भगवान के तरफ से मिला हुआ एक अनमोल रत्न हैं. इसका हमेशा सदुपयोग करना चाहिए. क्योंकि हमें यह ईश्वर के तरफ से मिला हुआ एक बहुत ही बड़ा वरदान होता हैं. हमारा जन्म और मृत्यु कभी भी किसी व्यक्ति के मर्जी से नहीं हो सकता हैं. इसलिए इस जीवन का महत्व लक्ष्य उद्देश्य सभी समझना चाहिए.

इसको सुखमय बनाने के बारे में हमेशा सोचना चाहिए. इस लेख में जीवन क्या हैं जीवन का उद्देश्य क्या हैं इसका महत्व क्या हैं. लक्ष्य क्या हैं जीवन जीने का कला क्या हैं. इसके बारे में पूरी जानकारी दी गई हैं. यह जानकारी कैसा लगा हमें कमेंट करके जरूर बताएं और शेयर भी जरूर करें.

Leave a Comment