M.A. ka Full Form – एमए का फुल फॉर्म क्या होता हैं

M.A. का फुल फॉर्म क्या होता हैं Ma ka full form kya hota hai in hindi एमए को हिंदी में क्या कहा जाता हैं एमए क्या हैं एमए करने के लिए कौन-कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए एमए का फुल फॉर्म के फुल फॉर्म के बारें में सारी जानकारी हम लोग इस लेख में जानेंगे।ट्वेल्थ पास करने के बाद कोई भी छात्र ग्रेजुएशन जरूर करता हैं लेकिन ग्रेजुएशन कंप्लीट होने के बाद किसी भी स्टूडेंट के मन में यह होता हैं

कि अब आगे कौन सा पढ़ाई करें ग्रेजुएशन के बाद कौन सा डिग्री प्राप्त करें जो कि आगे चलकर उसका फ्यूचर अच्छा बने।बीए के बाद यानी कि ग्रेजुएशन करने के बाद जो पढ़ाई ज्यादातर लोग करते हैं कई छात्र ऐसे होते हैं जो कि पढ़ाई करने के साथ-साथ नौकरी का भी तलाश करते रहते हैं लेकिन किसी भी नौकरी को करने के लिए उसमें अच्छा डिग्री चाहिए किसी अच्छा कोर्स का सर्टिफिकेट चाहिए

हर कोई चाहता है कि अच्छा पढ़ाई करके अपना जीवन सुरक्षित कर ले अधिक से अधिक बेस्ट डिग्री हासिल कर ले आगे चलकर किसी भी गवर्नमेंट या प्राइवेट जॉब को आसानी से पा सके एमकॉम करते हैं तो m.a. में क्या योग्यता होनी चाहिए m.a. का फुल फॉर्म क्या है और किस सब्जेक्ट से किया जाता है इसके बारे में पूरी जानकारी नीचे जानते हैं

Ma ka full form kya hota hai in hindi

एमए का कोर्स स्नातक करने के बाद किया जाता है हमारे देश में कई प्रसिद्ध विश्वविद्यालय है जिसमें कि मास्टर डिग्री प्राप्त किया जाता हैकई विभागों में मास्टर डिग्री का मांग होता है

जिसके पास मास्टर डिग्री होता है उन्हें नौकरी प्राप्त करने में भी आसानी होती है तो उसके लिए कुछ लोग m.a. करते हैं एमएसी करते हैं एमए की डिग्री प्राप्त करने के बाद कई प्राइवेट और सरकारी नौकरी का रास्ता बहुत ही आसानी से मिल जाता है

Ma ka full form kya hota hai in hindi

तो जिसको जिस क्षेत्र में ज्यादा रूचि है उस क्षेत्र में कार्य करना चाहता है उसी सब्जेक्ट से उन्हें कोर्स करने में आसानी से अपना कोर्स पूरा कर सकता है एमए करने के बाद कई अच्छे कैरियर का ऑप्शन मिल जाता है

इसमें किसी भी मनपसंद सब्जेक्ट को चुनकर के कोर्स किया जा सकता है।यह डिग्री बहुत ही सम्मानित और प्रचलित डिग्री हैं। एमए का फुल फॉर्म मास्टर ऑफ आर्ट्स होता हैं।

  • M:- master of
  • A:- arts

एमए का कोर्स करने के बाद छात्र को कहीं भी अच्छी नौकरी मिल जाती हैं। M.A. का डिग्री प्राप्त करने के बाद बहुत सारे सरकारी नौकरी का तैयारी भी छात्र कर सकते हैं।

MA full form in hindi – एमए को हिंदी में स्नातकोत्तर कहा जाता हैं। एमए का फुल फॉर्म इंग्लिश में मास्टर ऑफ आर्ट्स या पोस्ट ग्रेजुएशन कहा जाता हैं।

एमए क्या हैं

एमए एक कोर्स हैं जो कि ग्रेजुएशन करने के बाद किया जाता हैं M.A. पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री हैं कोई भी छात्र जब 12th पास करता हैं उसके बाद ग्रेजुएशन यानी कि बीए करता हैं

जो कि 3 साल का कोर्स होता हैं। ग्रेजुएशन करने के बाद लगभग सभी छात्र पोस्ट ग्रेजुएशन करना चाहते हैं यानी कि M.A.करते हैं। M.A. 2 साल का कोर्स होता हैं। M.A. करने वाले छात्र जिस सब्जेक्ट से M.A. करते हैं

उनको उस सब्जेक्ट में मास्टर माना जाता हैं। M.A. करने के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना पड़ता हैं ।उसके बाद M.A. में किसी भी छात्र का एडमिशन होता हैं।

कोई जरूरी नहीं हैं कि हर कॉलेज या यूनिवर्सिटी में M.A. में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना पड़ता हैं। लेकिन कुछ कॉलेज या यूनिवर्सिटी ऐसे भी हैं जहां की एंट्रेंस एग्जाम देने के बाद ही M.A. में एडमिशन हो सकता हैं।

हर कॉलेज या यूनिवर्सिटी का अलग-अलग रूल होता हैं उसी के अनुसार छात्र को एडमिशन मिलता हैं। इंटर करने के बाद जो छात्र बैचलर ऑफ आर्ट्स करते हैं

वही M.A. में एडमिशन ले सकते हैं जो भी सब्जेक्ट में उनको रूचि हैं। उसी सब्जेक्ट से वह M.A. कर सकते हैं। M.A.करने के बाद कहीं भी अच्छी नौकरी मिल सकती हैं M.A.करने के बाद छात्र कई सरकारी नौकरी का भी तैयारी करना चाहे तो कर सकते हैं जैसे कि

  • बैंक की नौकरी का तैयारी कर सकते हैं।
  • टीचर की नौकरी के लिए भी छात्र तैयारी करके नौकरी कर सकते हैं।
  • पब्लिक सेक्टर में भी कई ऐसे नौकरी हैं जिसकी तैयारी करना चाहे तो कर सकते हैं।
  • मीडिया की तैयारी कर सकते
  • मेडिकल से संबंधित जॉब की तैयारी कर सकते हैं।
  • प्रोग्रामर और की नौकरी।
  • प्रोजेक्ट असिस्टेंट के नौकरी।
  • कहीं भी अपना कोचिंग इंस्टिट्यूट खोलकर अन्य बच्चों को पढ़ा सकते हैं।
  • किसी भी स्कूल में प्रोफेसर या शिक्षक की नौकरी भी कर सकते हैं।
  • घर पर बच्चों को ट्यूशन पढ़ाकर अच्छी कमाई कर सकते हैं।

इस तरह M.A.करने के बाद बहुत सारे सरकारी नौकरी और प्राइवेट नौकरी मिल सकती हैं जिससे कि अच्छा पैसा कमा कर कोई भी छात्र अपना भविष्य सुरक्षित कर सकता हैं।

एमए कब किया जाता हैं

एमए करने के लिए पहले ट्वेल्थ पास होना चाहिए। 12th पास करने के बाद 3 साल का ग्रेजुएशन होता हैं। जिसे की बैचलर ऑफ आर्ट्स कहा जाता हैं वह होना चाहिए

उसके बाद ही M.A. में एडमिशन मिल सकता हैं M.A. में एडमिशन लेने के लिए किसी भी अच्छा और मान्यता प्राप्त कॉलेज यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन पास होना चाहिए और ग्रेजुएशन में 50% मार्क्स भी होना चाहिए। उसके बाद M.A. में अच्छे से एडमिशन मिल जाएगा।

M.A.किस किस सब्जेक्ट से किया जाता हैं

एमए करने के लिए कुछ सब्जेक्ट लेना पड़ता हैं। अगर ग्रेजुएशन आर्ट्स से जो छात्र किए हैं वह M.A. कर सकते हैं M.A. में कोई भी एक सब्जेक्ट जिसमें छात्र को रूचि हो उस सब्जेक्ट से कर सकता हैं

ताकि आगे चलकर उस सब्जेक्ट से संबंधित जानकारियों के आधार पर अच्छा जॉब कर सके। कोई भी छात्र अगर M.A. करना चाहता हैं तो इन सब्जेक्ट में उनका जानकारी रहना चाहिए जैसे कि

  • History
  • Economics
  • Sanskrit
  • English
  • Hindi
  • Psychologist
  • Sociology
  • Geography
  • Political science

आदि विषयों का ज्ञान अच्छे से होना चाहिए तो कोई भी छात्र इन विषयों में से कोई भी एक विषय से M.A. कर सकता हैं। एमए 2 साल का डिग्री होता हैं

सारांश 

जब छात्र इंटर करके ग्रेजुएशन करते हैं उसके बाद उन्हें M.A. करना होता हैं तो उन्‍हें समझ में नहीं आता हैं कि कौन सा कोर्स करें और कब किया जाता हैं और यह कितने दिनों का होता हैं

तो इस बारे में हमने इस लेख में पूरी जानकारी दी हैं आप इसे पूरा जरूर पढ़ें और इस जानकारियों के आधार पर एमए में एडमिशन ले सकते हैं। M.A.करने के बाद किसी भी स्टूडेंट को अच्छे-अच्छे नौकरी अच्छे से अच्छे कंपनी में जॉब किया जा सकता हैं।

अच्छे से सरकारी नौकरी भी मिल जाएगी जिसके आधार पर अपना फ्यूचर सुरक्षित कर सकते हैं।इस लेख में  एमए का फुल फॉर्म क्या होता हैं के बारे में पूरी जानकारी दी हैं आप लोगों को यह जानकारी कैसा लगा

हमें कमेंट करके जरूर बताएं और शेयर भी जरूर करें और महान महापुरुषों के बायोग्राफी से संबंधित अनेक अविष्कार और उनके अविष्कारक के बारे में जानने के लिए कई नॉलेजेबल फुल फॉर्म के बारे में जानने के लिए इस वेबसाइट को विजिट करते रहें।

Leave a Comment