मेडिकल स्टोर कैसे खोले फार्मेसी कोर्स प्रकार व योग्‍यता

आज के समय में सबसे ज्यादा कमाई मेडिकल स्टोर से हो रहा है क्योंकि यह एक ऐसा बिजनेस है जो कि कभी बंद नहीं होता है दवाई की जरूरत हर किसी को हमेशा रहती है तो  Medical Store kaise khole मेडिकल स्टोर खोलने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए

फार्मेसी बिजनेस के लिए कौन-कौन से कोर्स है फार्मेसी लाइसेंस कैसे बनवाएं मेडिकल स्टोर कितने प्रकार के होते हैं मेडिकल स्टोर खोलने के लिए किस तरह के जगह का चुनाव करना चाहिए आदि जानकारी इस लेख में प्राप्त करेंगे.

डॉक्टर के द्वारा किसी भी व्यक्ति के इलाज के बाद दवाई लिखा जाता है जो कि मेडिकल स्टोर पर से ही उपलब्ध हो पाता है या कई लोग ऐसे भी होते हैं जो कि स्थानीय मेडिकल स्टोर पर जाकर के छोटे-छोटे रोग के लिए दवाई पूछ कर भी ले लेते हैं।

मेडिकल स्टोर की जरूरत हर किसी को है क्योंकि हर किसी को किसी न किसी बीमारी के लिए दवाओं की जरूरत है उपचार का जरूरत है 

इसीलिए वर्तमान समय में सबसे ज्यादा फायदा मेडिकल स्टोर खोलने में ही हो रहा है यह एक सदाबहार व्यवसाय है जोकि छोटे से पूंजी के साथ शुरू कर सकते हैं और इसमें बहुत ही ज्यादा फायदा मिल सकता है तो आइए नीचे जानते हैं कि मेडिकल स्टोर क्या है मेडिकल स्टोर खोलने के लिए ड्रग लाइसेंस कहां से बनवाएं. होम्योपैथिक डॉक्टर कैसे बनें

Medical Store kaise khole

मेडिकल स्टोर एक ऐसा व्यवसाय है जिसके माध्यम से बहुत सारा पैसा कमाया जा सकता है क्योंकि आज के समय में मेडिकल स्टोर का जरूरत हर किसी को है।

इसीलिए कई लोग पैसा कमाने के लिए खुद का फार्मेसी बिजनेस मेडिकल स्टोर खोलना चाहते हैं तो मेडिकल स्टोर खोलने के लिए सबसे जरूरी है कि फार्मेसी कोर्स करना पड़ता है.

Medical store kaise khole

फार्मेसी कोर्स करने के बाद ही खुद का फार्मेसी बिजनेस शुरू कर सकते हैं या बिना कोर्स के भी मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं लेकिन उसके लिए किसी ऐसे व्यक्ति का चुनाव करना पड़ेगा जिसने फार्मेसी कोर्स किया है.

कोर्स करने के बाद फार्मेसी लाइसेंस बनवाना पड़ता है फार्मेसी काउंसिल में रजिस्ट्रेशन कराने के बाद ही एक मेडिकल स्टोर खोलकर कमाई कर सकते हैं. एमआरआई का फुल फॉर्म क्‍या होता हैं

मेडिकल स्टोर खोलने के लिए दो तरीके हैं पहला तरीका की फार्मेसी कोर्स करने के बाद मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं और दूसरा तरीका बिना किसी तरह के कोर्स के भी मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं तो आइए नीचे इन दोनों तरीकों के बारे में विस्तार से जानते हैं.

फार्मेसी कोर्स

अगर कोई अपना खुद का मेडिकल स्टोर खोलना चाहता है तो उसके लिए सबसे जरूरी है कि फार्मेसी कोर्स पूरा करके एक फार्मेसिस्ट बनना पड़ता हैं

उसके बाद ही फार्मेसी बिजनेस शुरू कर सकते हैं उसके लिए कई फार्मेसी कोर्स है लेकिन इनमें से कुछ प्रमुख कोर्स है जैसे कि एम फार्मा, डी फार्मा, बी फार्मा, फार्मा डी आदि.बीएससी नर्सिंग क्‍या हैं 

1. D Pharma

डी फार्मा का फुल फॉर्म डिप्लोमा इन फार्मेसी Diploma in pharmacy होता है. डी फार्मा का कोर्स 12वीं पास करने के बाद किया जा सकता है. 12वीं में फिजीक्‍स कमेस्‍ट्री और बायोलॉजी होना चाहिए 12वीं में कम से कम 35% अंक होना जरूरी हैं

इस कोर्स का अवधि 2 वर्षों का होता है. डी फार्मा का कोर्स करने के बाद 3 महीने तक किसी भी सरकारी हॉस्पिटल से प्रशिक्षण लेना पड़ता है और उसके बाद मेडिकल स्टोर खोलने के लिए फार्मेसिस्ट के तौर पर रजिस्ट्रेशन करवा सकते है.

2. B pharma

बी फार्मा का फुल फॉर्म Bachelor of pharmacy होता है. बी फार्मा कोर्स को 12वीं करने के बाद कर सकते हैं इसे फार्मेसी में बैचलर कहा जाता हैं इस कोर्स के लिए किसी भी सरकारी संस्थान में एडमिशन ले सकते हैं।

और इसमें एक अच्छा रैंक लाना पड़ता है बी फार्मा कोर्स की अवधि 3 सालों की होती है यह कोर्स करने के बाद किसी भी औद्योगिक प्रशिक्षण में 1 महीने तब प्रशिक्षण लेना पड़ता है 

उसके बाद अगर चाहें तो मेडिकल स्टोर आसानी से खोल सकते हैं. बी फार्मा कोर्स करने के बाद अगर कोई चाहे तो मेडिकल स्टोर खोल सकता है 

इसके अलावा किसी भी प्राइवेट हॉस्पिटल या गवर्नमेंट हॉस्पिटल में एक फार्मासिस्ट के तौर पर कार्य कर सकता है मेडिकल अंडर राइटर भी बन सकता है ड्रग इंस्पेक्टर बन सकता है फूड इंस्पेक्टर बन सकता है.बी फार्मा क्या है 

3. M pharma

इन फार्मा का फुल फॉर्म Master of pharmacy होता है. यह एक फार्मेसी में पोस्‍ट ग्रेजुएशन की डिग्री हैं. मास्टर ऑफ फार्मेसी कोर्स बी फार्मा करने के बाद किया जाता है क्योंकि यह एक मास्टर डिग्री कोर्स है. या 2 साल का कोर्स होता है एम फार्मा का कोर्स करने के बाद कहीं भी मेडिकल स्टोर खोल सकते हैं लेकिन अगर कोई चाहे तो रिसर्च भी कर सकता है.

4. Pharma D

फार्मा डी का फुल फॉर्म Doctor of pharmacy होता है. फार्मा डी कोर्स एक डिप्लोमा कोर्स है इसे फार्मेसी में डॉक्‍टरेट कहा जाता हैं जोकि किसी भी स्टूडेंट को 12वीं पास करने के बाद कर सकते हैं फार्मा डी कोर्स का अवधि 6 वर्ष का होता है

लेकिन अगर कोई स्टूडेंट बी फार्मा कोर्स करने के बाद इसको करना चाहे तो वह 4 साल की अवधि में ही पूरा कर सकता है फार्मा डी का काेर्स करने के बाद एक डॉक्‍टर के सामान ही माना जाता हैं

अगर किसी को मेडिकल स्टोर खोलना है तो उसे फार्मेसी का कोर्स करना जरूरी है.अगर कोई चाहे तो इस कोर्स को करने के बाद खुद का क्लिनिक खेल सकते हैं.पॉजिटिव एटीट्यूड सोच जीवन को बनाए अनमोल

बिना कोर्स के मेडिकल स्टोर कैसे खोले

मेडिकल स्टोर खोलने के लिए कई फार्मेसी कोर्स हैं लेकिन अगर कोई फार्मेसी कोर्स नहीं किया है और वह खुद का Medical store खोलना चाहता है मेडिकल स्टोर खोलकर कमाई करना चाहते है।

तो उसके लिए भी ऑप्शन है बिना कोर्स किए मेडिकल स्टोर खोलने के लिए सबसे पहले किसी ऐसे व्यक्ति को ढूंढना पड़ता है जिसने फार्मासिस्ट का कोर्स किया हो और उसी व्यक्ति के लाइसेंस के आधार पर अपना खुद का मेडिकल स्टोर आसानी से खोल सकते हैं.

Medical Store क्या है

मेडिकल स्टोर एक ऐसा स्टोर होता है एक ऐसा दुकान होता है जहां पर स्वास्थ्य से संबंधित हर तरह के सामान बेचे जाते हैं जैसे कि दवाई बैंडेज पट्टी इंजेक्‍सन आदि.

जब भी किसी डॉक्टर के पास किसी रोग का इलाज कराने जाते हैं तो डॉक्टर के द्वारा दवाई लिखा जाता है तो वह दवाई किसी न किसी मेडिकल स्टोर पर पर ही मिलता है

वहां पर डॉक्टर के द्वारा दिया गया प्रिसक्रिप्शन दिखाकर दवाई खरीदते हैं Medical store पर फुटकर में दवाइयां मिल सकता है. कई मेडिकल स्टोर ऐसे भी होते हैं जहां की छोटे-छोटे रोग के लिए दवाई ले सकते हैं

किसी भी तरह के स्वास्थ्य समस्याओं के बारे में सलाह ले सकते हैं. फार्मेसी बिजनेस में कभी भी मंदी नहीं होता है यह बिजनेस हमेशा चलता रहता है. व्यायाम के 5+ लाभ महत्‍व एवं प्रकार 

फार्मेसी कोर्स के लिए योग्यता

किसी भी फार्मेसी कोर्स को करने के लिए सबसे पहले किसी मान्‍यता प्राप्‍त कॉलेज से 12वीं की पढ़ाई Science Facility के साथ होनी जरूरी है जिसमें फिजिक्‍स कमेस्‍ट्री और बायोलॉजी या मैथ सब्‍जेक्‍ट आवश्‍यक हैं. उसके बाद कई फार्मेसी कोर्स है

फार्मेसी का कोर्स करने के लिए उम्र सिमा 18 से 27 के बीच हाेना चाहिए जैसे कि बी फार्मा डी फार्मा इन फार्मा फार्मा डी आदि कोर्स को कर सकते हैं और अपना खुद का मेडिकल स्टोर खोल करके कमाई कर सकते हैं.

फार्मेसी काउंसिल में रजिस्ट्रेशन कैसे करवाएं

मेडिकल स्टोर खोलने के लिए सबसे पहले फार्मेसी कोर्स करना पड़ता है जब फार्मेसी कोर्स पूरा हो जाता है और मेडिकल के डिग्री सर्टिफिकेट कॉलेज से मिल जाता है उसके बाद फार्मेसिस्ट के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ता है.

मेडिकल स्टोर खोलने के लिए अपने राज्य के फार्मेसी काउंसिल में रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ता है अगर कोई चाहे तो यह कार्य ऑनलाइन भी कर सकता है. फार्मेसी काउंसिल में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए जो भी कोर्स किया है

उसका डिग्री और 12वीं की डीएमसी दिखाना पड़ता है जिसके बाद राज्य सरकार के तरफ से डॉक्यूमेंट को देखकर फाइनल किया जाता है और आप एक लीगली फार्मासिस्ट बन सकते हैं और खुद का मेडिकल स्टोर खोलकर बिजनेस शुरू कर सकते हैं. खेल कूद का महत्व, खेल कूद के फायदे

फार्मेसी लाइसेंस या ड्रग लाइसेंस कैसे बनवाएं

रजिस्ट्रेशन करवाने के बाद कहीं भी मेडिकल स्टोर खोलने से पहले दवाई बेचने से पहले एक ड्रग लाइसेंस बनवाना पड़ता है ड्रग लाइसेंस बनवाने के बाद ही फार्मेसी का बिजनेस शुरू कर सकते हैं

ड्रग लाइसेंस केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन या राज्य औषधि मानक नियंत्रण संगठन के द्वारा प्राप्त किया जा सकता है ड्रग लाइसेंस दो तरह के बनाए जाते हैं रिटेल ड्रग लाइसेंस और थोक विक्रेता ड्रग लाइसेंस.

1. रिटेल ड्रग लाइसेंस

रिटेल ड्रग लाइसेंस उसी व्यक्ति के नाम से बन सकता है उसी व्यक्ति को मिल सकता है जिसने फार्मेसी कोर्स किया है किसी भी मान्यता प्राप्त संस्थान से डिप्लोमा या डिग्री कोर्स किया है उस व्यक्ति को राज्य औषधि मानक नियंत्रण संगठन या केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन के द्वारा लाइसेंस प्राप्त हो सकता है.

रिटेल ड्रग लाइसेंस एक छोटा मोटा साधारण सा Medical store खोलने के लिए बनवाया जाता है जहां थोड़ा बहुत दवाइयों को बेचा जाता है या स्वास्थ्य देखभाल से संबंधित सामान बेचे जाते हैं. रिटेल ड्रग लाइसेंस लेने के लिए कुछ शुल्क भी जमा करना पड़ता है.

2. थोक विक्रेता ड्रग लाइसेंस

कई ऐसे बड़े-बड़े मेडिकल स्टोर होते हैं जहां की स्वास्थ्य संबंधित अन्य कई तरह के समान या दवाइयां थोक में बेचा जाता है वैसे मेडिकल स्टोर खोलने के लिए थोक विक्रेता ड्रग लाइसेंस बनवाना पड़ता है.

Medical Store खोलने के लिए क्‍या करें

मेडिकल स्टोर खोलने के बाद उस स्टोर पर दवाइयां लेने के लिए कई लोगों से संपर्क करना पड़ता है या अपने Medical store को चलाने के लिए स्थानीय थोक विक्रेता से संपर्क कर सकते हैं स्थानीय डॉक्टर से संपर्क कर सकते हैं या ऐसे किसी लोकेशन का चयन कर सकते हैं जहां की ज्यादा लोग दवाई लेने के लिए आपके स्टोर पर आए.

1. स्थानीय थोक विक्रेता से संपर्क

जब एक Medical store खोल लेते हैं तो उस पर दवाइयां या स्वास्थ्य संबंधित सामानों का सप्लाई करने के लिए किसी थोक विक्रेता से संपर्क करना पड़ता है ताकि जो भी सामान मंगाना हो वह एक जगह से ज्यादा मात्रा में मंगा सके अगर चाहे तो सीधे दवाई बनाने वाली या स्वास्थ्य प्रोडक्ट उत्पादन करने वाली कंपनी से भी संपर्क कर सकते हैं

कंपनी से संपर्क करने से सामान लेने में डील करने में आसानी होता है और उसमें पैसों की भी बचत हो सकती है किसी भी कंपनी से दवाई या हेल्थ प्रोडक्ट लेने के लिए ज्यादा पैसों का जरूरत होता है

या वह कंपनी उन्हीं लोगों को सामान देना चाहती हैं जो कि ज्यादा मात्रा में आर्डर करते हैं तो अगर अपने Medical store के लिए कम पैसों में या थोड़ा सा सामान मंगाना है तो किसी भी स्थानीय थोक विक्रेता से संपर्क करके सभी सामान खरीद सकते हैं.

2. स्थानीय डॉक्टर से संपर्क

अगर अपने मेडिकल स्टोर से ज्यादा कमाई करना चाहते हैं मेडिकल स्टोर खोलकर एक सफल व्यक्ति बनना चाहते हैं तो उसके लिए अपने आसपास या Medical store से नजदीक में जो भी डॉक्टर का हॉस्पिटल है उस डॉक्टर से संपर्क करके टाई अप कर सकते हैं.

अक्सर हम देखते हैं कि जब भी किसी हॉस्पिटल में जाते हैं और डॉक्टर के द्वारा जो भी दवाई लिखा जाता है वह दवाई किसी न किसी मेडिकल स्टोर पर लेने की सलाह दी जाती है तो ऐसे Medical store उस हॉस्पिटल से उस डॉक्टर से टाइप किए रहते हैं 

उससे ज्यादा पैसे की कमाई करते हैं वैसे तो आज के समय में कई ऐसे बड़े बड़े हॉस्पिटल हैं जहां के हॉस्पिटल के अंदर ही मेडिकल स्टोर उपलब्ध होता  है.

3. लोकेशन का चयन

Medical store खोलने के लिए कोर्स करने के बाद रजिस्ट्रेशन करवाते हैं ड्रग लाइसेंस बनवाते हैं और उसके बाद सबसे पहला कार्य होता है लोकेशन का चयन करना फार्मेसी का बिजनेस करने के लिए उसमें सफलता हासिल करने के लिए सही लोकेशन का चुनाव करना जरूरी है

Medical store किसी ऐसे जगह पर खोलना चाहिए जहां की ज्यादा मेडिकल स्टोर न हो या किसी रोड पर सामने हो जहां कि लोगों के आने-जाने पर सीधा नजर उस स्टोर पर ही पड़ें और उन्हें जो भी दवाई खरीदना है उसी मेडिकल स्टोर पर जाकर के खरीद सकते हैं.

अगर कोई चाहे तो Medical shop किसी हॉस्पिटल के अंदर या किसी डॉक्टर के क्लीनिक के सामने भी खोल सकते हैं ऐसे मेडिकल स्‍टोर खोलने पर ज्यादा फायदा भी होगा क्योंकि जो डॉक्टर के द्वारा लिखा हुआ दवाई होगा वह उसी मेडिकल स्टोर से ले सकते हैं.

Medical Store पर जरूरी सामान

फार्मेसी लाइसेंस प्राप्त करने के बाद जगह का चुनाव करने के बाद जब Medical store खोला जाता है तो उस मेडिकल स्टोर में कई जरूरी सामान भी उपलब्ध रहना आवश्यक होता है जहां भी मेडिकल स्टोर खोलें वह किसी खुला जगह पर हो लगभग 10 स्क्वायर मीटर में होना चाहिए

Medical store पर हमेशा साफ सफाई का ध्यान रखना चाहिए क्योंकि स्वास्थ्य से संबंधित सामान को जितना सुरक्षित और साफ रखा जाए उतना ही फायदेमंद होता है कई ऐसे दवाई होते हैं

जिसे फ्रीज में रखना जरूरी होता है तो ऐसे में Medical store पर एक फ्रिज रखना भी आवश्यक है और सबसे जरूरी है कि Medical store के लिए जो लाइसेंस बनवाया गया है

उस लाइसेंस को फ्रेम करवाकर हमेशा Medical store पर ही रखें क्योंकि कभी-कभी जांच के लिए अधिकारी आते हैं तो वह लाइसेंस देखते हैं अगर आपके पास लाइसेंस नहीं रहेगा तो अब Medical store पर किसी भी तरह का कार्यवाही भी कर सकते हैं.

इंफ्रास्ट्रक्चर

Medical store पर सभी मेडिसन को सही तरीके से रखने के लिए एक इंफ्रास्ट्रक्चर भी रखना पड़ता है ताकि जो भी दवाई रखें सीधी से सामने से दिखाई पड़े इसमें कई छोटे-छोटे बॉक्स होते हैं कंप्यूटर होते हैं कर्नर रैंक होता है टेबल होता है कुर्सी होता है आदि के द्वारा आसानी से Medical store पर सभी सामान सुरक्षित और सही तरीके से रखकर सकते हैं.

Medical Store के प्रकार

मेडिकल स्टोर कई तरह के होते हैं Medical store खोलने से पहले उसके प्रकार के बारे में जानना आवश्यक है कि इस तरह का मेडिकल स्टोर खोल कर ज्यादा कमाई कर सकते हैं.

1. स्टैंड अलोन मेडिकल स्टोर

यह एक ऐसा Medical store होता हैं जो कि स्थानीय क्षेत्रों में या आवासीय क्षेत्रों में होता है जहां की छोटे-छोटे जनरल जरूरतों के लिए दवाई या स्वास्थ्य संबंधित प्रोडक्ट को बेचा जाता है कई बार ग्राहक बिना डॉक्टर के सलाह लिए उस मेडिकल स्टोर पर से सलाह लेकर किसी भी रोग के लिए दवाई ले लेते हैं.

2. हॉस्पिटल के पास मेडिकल स्टोर

आज के समय में कई बड़े-बड़े हॉस्पिटल हैं जो कि अंदर ही Medical store उपलब्ध रहता है या कई हॉस्पिटल ऐसे भी हैं जो हॉस्पिटल के सामने मेडिकल स्टोर उपलब्ध होता है ताकि उस हॉस्पिटल के डॉक्टर किसी भी रोगी को अगर दवाई लिखें तो उसी Medical store पर से दवाइयां ले सकते हैं.

3. चेन फार्मेसी / फ्रेंचाइजी आउटलेट

कई Medical store ऐसे होते हैं जिस पर की एक ही ब्रांड के दवाई या स्वास्थ्य संबंधित प्रोडक्ट मिलते हैं और अगर किसी दूसरे मेडिकल ब्रांड के दवाई बेचना चाहते हैं तो उसके लिए कई तरह के नियम होते हैं उसी नियम के अनुसार वह दवाई बेच सकते हैं.बीएससी नर्सिंग क्‍या हैं योग्‍यता व फायदे

Medical Store से फायदा

आज के समय में कई बिजनेस है जिसको लोग करके ज्यादा से ज्यादा फायदा कमाना चाहते हैं लेकिन सबसे ज्यादा फायदेमंद ज्यादा लाभ मेडिकल स्टोर से प्राप्त हो सकता है क्योंकि Medical store कभी भी बंद होने वाला बिजनेस नहीं है.

हमेशा स्वास्थ्य से संबंधित दवाइयां या प्रोडक्ट खरीदने के लिए हर व्यक्ति Medical store पर ही जाता है मेडिकल स्टोर खोलने के लिए कोर्स करने के बाद ज्यादा इन्वेस्टमेंट भी नहीं करना पड़ता है

अगर किसी गांव में मेडिकल स्टोर खोलना चाहते हैं तो वहां कम इन्वेस्टमेंट में स्टोर खोल सकते हैं और ज्यादा से ज्यादा फायदा कमा सकते हैं Medical store से कई लोग लाखों की कमाई कर लेते हैं.

अगर किसी हॉस्पिटल के सामने यह हॉस्पिटल के अंदर Medical store खोलते हैं तो हॉस्पिटल में जितना ही ज्यादा मरीज आएंगे डॉक्टर के द्वारा दवाई लिखा जाएगा उतना ही ज्यादा लोग दवाई खरीदने के लिए आएंगे और ज्यादा से ज्यादा कमाई होगा तो यह आप पर निर्भर करता है कि आप किस तरह के मेडिकल स्टोर खोलकर ज्यादा फायदा कमा सकते हैं.

FAQ

मेडिकल स्टोर

Medical store खोलने के लिए कई फार्मासिस्ट कोर्स है उस कोर्स को करने के बाद रजिस्ट्रेशन कराकर ड्रग लाइसेंस बना कर Medical store खोल सकते.

मेडिकल स्टोर खोलने के लिए मुख्य डिग्री कौन-कौन

मेडिकल स्टोर खोलने के लिए कई कोर्स है लेकिन उसमें सबसे प्रसिद्ध डी फार्मा बी फार्मा एम फार्मा और फार्मा डी होता है.

बिना डिग्री के मेडिकल स्टोर कैसे

अगर कोई बिना डिग्री का मेडिकल शॉप खोलना चाहता है तो वह किसी ऐसे व्यक्ति का चुनाव करता है जिसने फार्मेसिस्ट का कोर्स किया है और उसी व्यक्ति के डिग्री के माध्यम से वह मे Medical store खोलकर पैसा कमा सकता है.

फार्मेसी लाइसेंस कितने प्रकार के होते हैं

फार्मेसी लाइसेंस दो तरह के होते हैं एक रिटेल ड्रग लाइसेंस और दूसरा थोक विक्रेता ड्रग लाइसेंस.

मेडिकल स्टोर के लिए जरूरी काम क्या है.

Medical Store खोलने के लिए सबसे जरूरी है कि किसी सप्लायर से संपर्क करें और मेडिकल स्टोर पर दवाइयां लेने के लिए उस सप्लायर से उचित दामों में दवाई ले सकते हैं

किसी डॉक्टर से संपर्क करके या उससे कांटेक्ट करके अपने मेडिकल स्टोर पर दवाई बेच सकते हैं. मेडिकल स्टोर पर एक फ्रिज रखना जरूरी है जिसमें दवाइयां रख सकते हैं और जिस लाइसेंस के माध्यम से वह मेडिकल स्टोर खोले हैं वह लाइसेंस हमेशा स्टोर पर रखना जरूरी है.

ये भी पढ़ें

सारांश

Medical Store kaise khole इस लेख में मेडिकल स्टोर के बारे में पूरी जानकारी दिया गया है जिसमें कौन-कौन से फार्मेसी कोर्स है मेडिकल स्टोर क्या है फार्मेसी लाइसेंस कैसे बनवाएं बिना डिग्री के मेडिकल स्टोर कैसे खोल सकते हैं फार्मेसी काउंसिल रजिस्ट्रेशन कैसे कराएं मेडिकल स्टोर कितने प्रकार के होते हैं और मेडिकल स्टोर से क्या फायदा है.

अगर कोई सवाल या सुझाव है तो कृपया कमेंट करके जरूर बताएं और इस जानकारी को अपने दोस्त मित्रों को या अन्य सोशल साइट्स पर शेयर जरूर करें ताकि अगर किसी को मेडिकल स्टोर कैसे खोले से संबंधित जानकारी प्राप्त करना हो तो इस लेख के माध्यम से आसानी से जानकारी प्राप्त कर सके.

Leave a Comment