एनईएफटी का फुल फॉर्म – NEFT Full Form In Hindi

वर्तमान समय में किसी को भी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने के लिए कई तरह के डिजिटल पेमेंट सेवा उपलब्ध है. जिसमें एक बहुत ही पुराना और प्रचलित ऑनलाइन ट्रांजैक्शन करने के लिए ऑनलाइन सर्विस उपयोग किया जाता है, जिसका नाम एनईएफटी है. एनईएफटी का उपयोग बहुत लोग फंड ट्रांसफर करने के लिए करते होंगे. क्योंकि यह एक बहुत ही सुरक्षित सेवा है. लेकिन NEFT Full Form In Hindi एनईएफटी का फुल फॉर्म क्या होता है जानने के लिए इस लेख को पूरा जरूर पढ़ें. 

2016 में जब नोटबंदी हुआ था उसके बाद डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा दिया गया. डिजिटल इंडिया बनाने के लिए हर कोई डिजिटली ट्रांसफर करने लगा और आज के समय में हर किसी के लिए यह एक बहुत ही सुरक्षित और आसान तरीका बन गया है. क्योंकि इसमें  बैंक में न ही घंटो लाइन में लगना पड़ता है और न ही समय का इंतजार करना पड़ता है कि कब बैंक खुलेगा और अपना कार्य किया जाएगा. 

डिजिटल पेमेंट करने के लिए अपने घर बैठे ही इंटरनेट के माध्यम से कभी भी किसी भी वक्त फंड ट्रांसफर कर सकते हैं. एनईएफटी के माध्यम से कितने तरीके सेेेेे पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं, NEFT से पैसे ट्रांसफर करने पर कितना समय में ट्रांजैक्शन हो जाता है, एनईएफटी का शुरुआत कब किया गया और इससे डिजिटली पेमेंट कौन से बैंक में कर सकते हैं इसके बारे में नीचे विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे.

NEFT Full Form In Hindi एनईएफटी का फुल फॉर्म क्‍या होता हैं

एनईएफटी एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में ऑनलाइन तरीके से पैसे ट्रांसफर करने का एक ऑनलाइन या ऑफलाइन सेवा है. इसकी सुविधा से पूरे देश भर में एक बैंक से दूसरे बैंक के अकाउंट में कभी भी पैसे ट्रांसफर किया जा सकता है. 

लेकिन जिस बैंक के अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करते हैं, वह बैंक भी एनईएफटी सेवा प्रदान करती हो तभी पैसे ट्रांसफर हो सकते हैं. एनईएफटी का फुल फॉर्म National Electronic Fund Transfer System होता है. इसका हिंदी राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक निधि अन्तरण या राष्ट्रव्यापी भुगतान प्रणाली होता है.

NNationalराष्ट्रीय
EElectronicइलेक्ट्रॉनिक
FFundनिधि
TTransfer अन्तरण
NEFT Full Form In Hindi

इससे पैसे भेजने पर आधे घंटे का समय लगता है. लेकिन यह सुविधा बहुत ही सुरक्षित माना जाता है. एनईएफटी का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसे ऑनलाइन अपने घर से भी फंड ट्रांसफर कर सकते हैं. अगर चाहे तो बैंक में जाकर ऑफलाइन तरीके से भी फंड ट्रांसफर किया जा सकता है.

वैसे तो ऑनलाइन फंड ट्रांसफर के कई तरीके हैं, जैसे कि आरटीजीएस,यूपीआई आदि. लेकिन एनईएफटी एक पुराना और प्रसिद्ध ऑनलाइन सिस्टम है. इसीलिए लोगों को इस पर ज्यादा भरोसा भी रहता है और इसे आरबीआई के द्वारा बढ़ावा भी दिया गया है.

एनईएफटी क्या है

पहले फंड ट्रांसफर करने के लिए बैंक में जाकर इंतजार करना पड़ता था. कभी पैसे किसी को भेजना होता था, तो बैंक के खुलने का इंतजार करना पड़ता था. लेकिन आज के समय में कई ऑनलाइन सेवाएं इंटरनेट पर मौजूद है, जिसके द्वारा घर बैठे ही ऑनलाइन किसी को भी फंड ट्रांसफर कर सकते हैं.

अपने मोबाइल से कंप्यूटर से नेट बैंकिंग के द्वारा किसी भी एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक के अकाउंट में NEFT सिस्टम के द्वारा ऑनलाइन फंड ट्रांसफर किया जा सकता है. यह सिस्टम एक राष्ट्रीय स्तर पर भी प्रसिद्ध सिस्टम माना जाता है. देशभर में लोग सबसे ज्यादा उपयोग इसी सिस्टम को करते हैं.

एनईएफटी का शुरुआत

वैसे तो ऑनलाइन पेमेंट करने का शुरुआत सबसे ज्यादा 2016 के बाद हुआ है. डिजिटल इंडिया को बढ़ावा देने के लिए डिजिटल पेमेंट करने के लिए नोटबंदी के बाद कई तरह की सुविधाएं हमें मिलने लगी है.

लेकिन NEFT एनईएफटी का शुरुआत 2005 नवंबर से ही हुई है. इस सिस्टम के द्वारा अगर चाहे तो ऑनलाइन कार्य कर सकते हैं या बैंक अकाउंट में जाकर ऑफलाइन तरीके से भी कार्य करने की सुविधा मिलती है.

इसका स्थापना इंस्टिट्यूट फॉर डेवलपमेंट एंड रिसर्च बैंकिंग टेक्नोलॉजी के द्वारा किया गया था. इसका जो भी मेंटेनेंस का प्रक्रिया होता है वह रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के द्वारा किया जाता है.

एनईएफटी से कार्य करने का तरीका

नेट बैंकिंग के द्वारा फंड ट्रांसफर करने के लिए कई प्रक्रिया है. कई सिस्टम है. लेकिन उसका उपयोग अधिकतर ऑनलाइन ही किया जाता है. लेकिन NEFT एक ऐसा सिस्टम है जिसके द्वारा ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरीके से फंड ट्रांसफर कर सकते हैं.

1. ऑनलाइन

अगर NEFT से ऑनलाइन नेट बैंकिंग के माध्यम से पैसा अपने अकांउट से दूसरे के अकाउंट में भेजना चाहते हैं, तो उसके लिए जिस बैंक में अकाउंट है, उसका सबसे पहले नेट बैंकिंग सुविधा प्रदान करना है.

उसके बाद ही दूसरे बैंक अकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर सकते हैं. लेकिन जिस बैंक अकाउंट में आप फंड ट्रांसफर करना चाहते हैं, वह बैंक भी NEFT सुविधा प्रदान करने वाला होना चाहिए.

नेट बैंकिंग के द्वारा अगर एक बार किसी व्यक्ति को इंटरनेट बैंकिंग से जोड़कर फंड ट्रांसफर करते हैं, तो उसे आगे भविष्य में भी कभी भी फंड ट्रांसफर कर सकते हैं. NEFT के द्वारा ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करने की वैसे कोई ज्यादा लिमिटेशंस नहीं है.

2. ऑफलाइन

अगर ऑफलाइन तरीके से NEFT के माध्यम से फंड ट्रांसफर करना चाहते हैं, तो उसके लिए सबसे पहले अपने बैंक में जाना पड़ता है. बैंक में जितना भी अमाउंट ट्रांसफर करना है उसका चेक और एक एनईएफटी का फॉर्म मिलता है, उसको फिलअप करके जमा करना पड़ता है.

बैंक से फंड ट्रांसफर करने में आधा घंटा का समय लगता है. ऑफलाइन पैसे ट्रांसफर करने के लिए हर अमाउंट पर कुछ चार्जेस भी लिया जाता है.

NEFT से फंड ट्रांसफर करने का टाइमिंग

नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर सिस्टम के द्वारा पैसे एक बैंक के अकाउंट से दूसरे बैंक के अकाउंट में भेजने के लिए पहले टाइमिंग का लिमिटेसन किया गया था.

पहले जब जो बैंक के खुलने का समय होता था, उसी समय में एनईएफटी के द्वारा पैसे ट्रांसफर किया जा सकता था. सोमवार से शनिवार तक ही पैसे ट्रांसफर किया जाता था.

सुबह 8:00 बजे से बैंक के बंद होने के समय तक पैसे ट्रांसफर करने की सुविधा मिलती थी. लेकिन वर्तमान समय में आरबीआई की गाइडलाइन के द्वारा इसे बदलकर समय सीमा समाप्त किए कर दिया गया है.

एनएसटी के द्वारा अब कभी भी 24 घंटे सातों दिन जब भी मन करे किसी भी समय ऑनलाइन फंड ट्रांसफर NEFT के द्वारा कर सकते हैं.

NEFT का उपयोग

  • यह एक इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर सिस्टम है. जिसे नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर भी कहा जाता है. 
  • इस सिस्टम का उपयोग सबसे ज्यादा एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक के अकाउंट में फंड ट्रांसफर करने के लिए किया जाता है. 
  • एनईएफटी का उपयोग ट्रांसफर करने के लिए ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरीके से किया जा सकता है. 
  • इसमें जिसके पास पैसे ट्रांसफर करना होता है उसका अकाउंट नंबर आईएफएससी कोड एड्रेस आदि डॉक्यूमेंट की आवश्यकता होती है. 
  • एनएफटी के द्वारा पैसे ट्रांसफर करने के लिए बैंकों में 30 मिनट के अंतराल का एक बैच होता है. 
  • वैसे ज्यादा से ज्यादा 2 घंटे का समय सीमा रखा गया है. 
  • अगर किसी तरह की गड़बड़ी की वजह से इंटरनेट में किसी भी तरह की असुविधा होने से आधे घंटे में पैसा ट्रांसफर नहीं हो पाता है, तो उस 2 घंटे के अंदर में ही फंड ट्रांसफर हो जाता है.
  • एनईएफटी का उपयोग फंड ट्रांसफर के साथ-साथ अपने लोन की ईएमआई भरने के लिए भी कर सकते हैं.
  • अगर क्रेडिट कार्ड का उपयोग करते हैं, तो उसका भी बकाया जमा करने के लिए NEFT का उपयोग कर सकते हैं.
  • इसके अलावा किसी भी तरह का पैसों का लेनदेन करने के लिए एनईएफटी का उपयोग किया जा सकता है.

एनईएफटी का लाभ

  • इससे ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरीके से बहुत ही आसानी से और सुविधा पूर्वक फंड ट्रांसफर हो जाता है.
  • जब ऑनलाइन या ऑफलाइन फंड ट्रांसफर होता है तो मोबाइल पर बैंक के द्वारा मैसेज के माध्यम से जानकारी प्रदान किया जाता है.
  • NEFT से फंड ट्रांसफर करने के लिए समय सीमा समाप्त कर दिया गया है.
  • ऑनलाइन पैसे ट्रांसफर करने पर कुछ ही समय में पैसे एक बैंक के अकाउंट से दूसरे बैंक के अकाउंट में ट्रांसफर हो जाते हैं.
  • अगर ऑफलाइन बैंक में जाकर पैसे ट्रांसफर करना चाहते हैं तो उसमें आधा घंटा का समय लगता है. लेकिन वह भी बहुत ही सुरक्षित और सुविधा पूर्वक होता है.
  • इसमें किसी भी तरह का फ्रॉड चोरी आदि का खतरा नहीं होता है.
  • कभी-कभी इंटरनेट स्लो होने की वजह से फंड ट्रांसफर किया जाता है लेकिन उस समय नहीं हो पाता है, तो भी एनईएफटी से किसी भी तरह का खतरा नहीं होता है. 
  • NEFT से सेफ और सिक्योर तरीके से ट्रांजैक्शन हो जाता है. 
  • अगर उसी समय ट्रांसक्शन नहीं होता है, तो भी किसी का खतरा नही हो सकता है कुछ ही में आपके बैंक अकाउंट में पैसे वापस जुड़ जाते हैं.

NEFT फंड ट्रांसफर करने पर शुल्क

एनईएफटी सिस्टम के द्वारा पैसे ट्रांसफर करने पर बैंक को कुछ शुल्क देना पड़ता है. लेकिन जिस बैंक में आप फंड ट्रांसफर कर रहे हैं उस बैंक को किसी भी तरह का शुल्क नहीं देना पड़ता है.

जो व्‍यक्ति पैसे दूसरे के अकाउंट में भेतजा हैं, उसे हर ट्रांजैक्शन पर कुछ पैसे जीएसटी के साथ चार्जेस देना पड़ता है. एनईएफटी के माध्यम से लगभग 1रू से लेकर 1000000 रू तक का फंड ट्रांसफर किया जा सकता है.

अगर आप नेट बैंकिंग की सुविधा से एनईएफटी से फंड ट्रांसफर करते हैं, तो किसी भी तरह का शुल्क नहीं लगता है. लेकिन वहीं अगर बैंक में जाकर ऑफलाइन तरीके से फंड ट्रांसफर करते हैं, तो उसके लिए सर्विस चार्ज देना पड़ता है.

अगर 10,000 रू ट्रांसफर करते हैं, तो उस पर जीएसटी के साथ 2. 50 रुपए का शुल्क लगता है. ऐसे ही हर एक फंड ट्रांसफर पर कुछ शुल्क निर्धारित किए गए हैं.

अगर आप बैंक से जाकर NEFT से ऑफलाइन फंड ट्रांसफर करते हैं, तो अपने बैंक में जाकर हर एक फंड ट्रांसफर पर कितना शुल्क लगता है, इसके बारे में बेहतर तरीके से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. बैंक के द्वारा सही और सटीक जानकारी दिया जाता है.

एनईएफटी फैसिलिटी उपलब्ध कराने वाली बैंक

भारत में आरबीआई के अलावा और भी कई बैंक है, जो कि NEFT फैसिलिटी उपलब्ध कराती है. इस बैंक के जो भी उपयोग करने वाले उपभोक्ता है, वह एनईएफटी के द्वारा फंड ट्रांसफर कर सकते हैं.

  • एसबीआई 
  • सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया 
  • नेशनल बैंक ऑफ इंडिया
  • आईसीआईसीआई 
  • इंडियन ओवरसीज बैंक 
  • यूनियन बैंक 
  • सिंडिकेट बैंक 
  • बैंक ऑफ बड़ौदा 
  • एक्सिस बैंक

FAQ

एनईएफटी क्या है.

एनईएफटी एक इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर करने का सिस्टम है.

NEFT Ka Full Form क्या है.

एनईएफटी का फुल फॉर्म नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर सिस्टम होता है.

एनईएफटी से पैसे ट्रांसफर करने में कितना समय लगता है.

इससे पैसे एक बैंक अकाउंट से दूसरे बैंक अकाउंट में ट्रांसफर ऑनलाइन करने में कुछ ही समय लगता है. लेकिन ऑफलाइन बैंक से फंड ट्रांसफर करने पर आधे घंटे का समय लगता है.

इसे भी पढ़ें

सारांश

NEFT Full Form In Hindi अपने बैंक अकाउंट से दूसरे के अकाउंट में पैसे भेजने के लिए कई इंटरनेट बैंकिंग सुविधा का उपयोग किया जाता है. लेकिन एनईएफटी एक ट्रस्टेड और यूज़फुल तरीका है इसलिए ज्यादा लोग भारत में इसका इस्तेमाल करते हैं.

एनईएफटी से फंड ट्रांसफर करने का कौन-कौन सा तरीका है, इससे कौन से बैंक में फंड ट्रांसफर किया जा सकता है, इसका क्या लाभ है के बारे में ऊपर इस लेख में विस्तार तरीके से जानकारी दिया गया है.

Leave a Comment