पीजीडीएम का फुल फॉर्म क्या होता है PGDM क्या है

PGDM full form in hindi क्या होता है पीजीडीएम का फुल फॉर्म क्या होता है, पीजीडीएम क्या है, इसको करने के लिए क्या प्रोसेस है इस तरह की जानकारी इंटरनेट पर सर्च किया जाता है। अगर आप भी पीजीडीएम के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो इस लेख में नीचे विस्तार रूप से जानकारी प्राप्त होगी।

पीजीडीएम एक ऐसा कोर्स है जिसमें बिजनेस मैनेजमेंट से जुड़े हर तरह के जानकारी दिया जाता है। जो व्यक्ति एमबीए कोर्स ज्यादा फीस की वजह से या एंट्रेंस एग्जाम क्लियर नहीं कर पाने की वजह से नहीं कर पाते हैं, उनके लिए PGDM कोर्स एक बेहतरीन ऑप्शन है।आज के समय में जो बड़ी-बड़ी मल्टीनेशनल कंपनी है उसमें भी वैसे ही एंप्लोई को हायर किया जाता है.

जिन्हें बिजनेस मैनेजमेंट की अच्छी तरह से जानकारी हो। कई लोग अपना खुद का बिजनेस स्टार्ट करने के लिए भी बिजनेस मैनेजमेंट का कोर्स करते हैं। ताकि बिजनेस शुरू करने के लिए हर तरह के स्किल की जानकारी मिल सके।

ऐसे में एमबीए कोर्स या PGDM कोर्स आज के समय में बहुत ही ज्यादा ट्रेंड कर रहा है। पीजीडीएम कोर्स के बारे में स्टेप बाय स्टेप जानकारी नीचे दी गई है।बीसीए का फुल फॉर्म क्या होता है 

PGDM full form in hindi

P Post
G Graduate
D Diploma
M in Management

 

बिजनेस मैनेजमेंट के क्षेत्र में किया जाने वाला आज के समय का सबसे पॉपुलर कोर्स पीजीडीएम है। पीजीडीएम का फुल फॉर्म post graduation diploma in management होता है।

पीजीडीएम का फुल फॉर्म हिंदी में प्रबंधन में स्नातकोत्तर डिप्लोमा होता है। यह एक पोस्ट ग्रेजुएशन का डिप्लोमा कोर्स है। जिसमें मैनेजमेंट से जुड़े जानकारी, अर्थव्यवस्था व्यापार, मानव संसाधन, कारपोरेट कल्चर आदि हर तरह का शिक्षा दिया जाता है। भारत देश में कई कॉलेज यूनिवर्सिटी है जहां पर पीजीडीएम का कोर्स कराया जाता है।PGDM full form in hindi

इस कोर्स का शुरुआत सबसे पहले संयुक्त राज्य अमेरिका में 19वीं सदी में हुआ था। लेकिन जैसे-जैसे हर देश में बिजनेस व्यापार बढ़ने लगा हर कंपनी में अपने बिजनेस को बढ़ाने के लिए टैलेंटेड एंप्लॉय को हायर करने लगे उसके अनुसार व्यवसाय प्रबंधन में कोर्स करने के लिए भी लोग उत्सुक होने लगे।

इसीलिए बिजनेस मैनेजमेंट के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए लोग एमबीए या PGDM का कोर्स करते हैं। पीजीडीएम कोर्स का मान्यता भी लगभग एमबीए कोर्स के बराबर होता है। इसमें हर एक विषयों का प्रैक्टिकल नॉलेज दिया जाता है। नीट का फुल फॉर्म क्या होता हैं

PGDM क्या है

बिजनेस प्रबंधन के क्षेत्र में एक प्रोफेशनल कोर्स के रूप में PGDM कोर्स को जाना जाता है। यह एक पोस्ट ग्रेजुएशन का डिप्लोमा कोर्स है। जिसको ग्रेजुएशन करने के बाद किया जाता है।

PGDM कोर्स वैसे तो भारत में कई कॉलेज या यूनिवर्सिटी में कराया जाता है, लेकिन इस कोर्स को वही कॉलेज या यूनिवर्सिटी करा सकते हैं, जो एआईसीटीई के द्वारा मान्यता प्राप्त है।

एआईसीटीई का फुल फॉर्म all India council for technical education होता है। अगर कोई इंस्टिट्यूट एआईयू से मान्यता प्राप्त हो तो भी पीजीडीएम का कोर्स करा सकते हैं।

AIU full form of the association of India University. यह कोर्स 2 साल का होता है। जिसमें 4 या 6 सेमेस्टर होते हैं। इस कोर्स में रणनीति कम्युनिकेशन स्किल योजना आदि सिखाया जाता है।

PGDM कोर्स के प्रकार

यह कोर्स विद्यार्थियों के सुविधा के अनुसार तीन प्रकार से कराया जाता है। हर स्टूडेंट अपनी सुविधा के अनुसार अपने बजट के अनुसार इस कोर्स को अलग-अलग तरीके से कर सकते हैं। 

1. पीजीडीएम फुल टाइम कोर्स

इसमे जो स्टूडेंट फुल टाइम PGDM कोर्स करना चाहते हैं उन्हें हर रोज कॉलेज करना पड़ता है। हर रोज अटेंडेंस बनाना पड़ता है। लेकिन अगर फुल टाइम पीजीडीएम कोर्स करते हैं तो इसमें फीस भी ज्यादा लगता है।

2. डिस्टेंस

हर रोज कॉलेज कर पाना अगर किसी स्टूडेंट के लिए मुमकिन नहीं है। इस कोर्स के साथ-साथ नौकरी करते हैं या दूसरे कार्य करते हैं तो उनके लिए डिस्टेंस PGDM कोर्स बेहतर होता है। इसमें हर रोज कॉलेज नहीं करना पड़ता है।

3. ऑनलाइन

अगर कोई चाहता है कि घर बैठे ही अन्‍य कार्यों के साथ PGDM कोर्स आसानी से कर पाए, तो उनके लिए ऑनलाइन भी इस कोर्स को करने की सुविधा मिलती है।

पीजीडीएम कोर्स के लिए योग्यता

किसी भी पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स को करने के लिए सबसे पहले ग्रेजुएशन करना पड़ता है। PGDM कोर्स भी एक पोस्ट ग्रेजुएशन डिप्लोमा प्रोग्राम है। जोकि बिजनेस मैनेजमेंट कि हर तरह के गुण को इसमें सिखाया जाता है। इस कोर्स के लिए कुछ आवश्यक योग्यता जरूरी है।

  1. किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज या यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन पास होना जरूरी है।
  2. ग्रेजुएशन में लगभग 50 परसेंट मार्क्स होना चाहिए।
  3. अगर कोई स्टूडेंट ग्रेजुएशन मैनेजमेंट स्ट्रीम यानी कि बीबीए से किया हो तो PGDM कोर्स में एडमिशन लेने में और भी आसानी हो जाता है। 
  4. वैसे किसी भी स्ट्रीम से ग्रेजुएशन करने पर इस कोर्स को कर सकते हैं।

पीजीडीएम कोर्स कैसे करें

हर कॉलेज में इस कोर्स को करने के लिए एडमिशन का अलग-अलग प्रक्रिया होता है।यह कोर्स करने के लिए किसी भी स्टूडेंट के पास दो ऑप्शन है। 

1. पहला तरीका

कई कॉलेज में मेरिट के आधार पर डायरेक्ट ऐडमिशन हो जाता है। अगर एडमिशन कराने के लिए अगर किसी कॉलेज का चुनाव करते हैं, तो वहां पर अच्छी तरह से जानकारी प्राप्त कर ले कि एडमिशन डायरेक्ट नंबर के आधार पर होता है या एंट्रेंस एग्जाम पास करने के बाद हो सकता है।

2. दूसरा तरीका

कई ऐसे इंस्टिट्यूट है जहां पर एंट्रेंस एग्जाम के पास करने के बाद ही एडमिशन होता है। एंट्रेंस एग्जाम राज्य स्तर पर या राष्ट्रीय स्तर पर कराया जाता है। जिसको अगर पास करते हैं तो किसी भी कॉलेज में एडमिशन मिल सकता है।

कई कॉलेज ऐसे भी हैं जहां पर एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करने के बाद ग्रुप डिस्कशन कराया जाता है। इंटरव्यू लिया जाता है। अगर इन सभी प्रक्रिया को पास कर जाते हैं तभी एडमिशन होता है।

2.1 पीजीडीएम कोर्स एंट्रेंस एग्जाम
  • MAT
  • CAT
  • GMAT
  • NMAT
  • ATMA
  • SNAP
  • IBSAT
  • XAT
  • MAH CET
  • CMAT

PGDM कोर्स सब्जेक्ट

पीजीडीएम कोर्स में वही सब्जेक्ट पढ़ाए जाते हैं जिसके द्वारा व्यवसाय ज्ञान कारपोरेट कैरियर के लिए पूरी तरह से तैयार हो जाते हैं। इसमें बिजनेस मैनेजमेंट से जुड़े हर तरह के पढ़ाई कराया जाता है।

उससे जुड़े हर तरह के आवश्यक कौशल और ज्ञान को विकास करने पर ध्यान दिया जाता है। ताकि आप आगे चलकर उस विषय से संबंधित क्षेत्र में आसानी से नौकरी कर पाए।

  • फाइनेंस 
  • इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी 
  • मार्केटिंग 
  • अकाउंट 
  • ऑपरेशन मैनेजमेंट 
  • सप्लाई चैन मैनेजमेंट 
  • ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट

PGDM कोर्स के लिए बेस्ट कॉलेज

भारत में कई बेहतरीन इंस्टिट्यूट है जहां पर इस कोर्स को कराया जाता है। इस कोर्स को वही कॉलेज कंप्लीट करा सकते हैं जो कि ऑल इंडिया काउंसिल आफ टेक्निकल एजुकेशन या एसोसिएशन ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटी के द्वारा मान्यता प्राप्त है।

  • AIMS institutes Bangalore
  • MDI Gurgaon management development institutes
  • ITM Navi Mumbai
  • Indira institute of management Pune
  • Banaras Hindu vishwavidyalay
  • Hindu College Delhi
  • Guru Govind Singh indraprasth vishwavidyalay
  • Indian institute of management
  • Management development institute gurugram
  • SP Jain institute of management and research Mumbai
  • SIES College of management studies Mumbai
  • Ramchandran international institute of management Pune
  • NL Dalmia institute of management studies and research Mumbai

पीजीडीएम कोर्स करने के फायदे

  • इस कोर्स को करने के बाद एक से बढ़कर एक मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब प्राप्त करने में आसानी हो जाता है। 
  • छात्रों में एक बेहतर संचार कौशल विकसित होता है। 
  • उनमें मार्केटिंग के हर एक कौशल को विकसित किया जाता है। ताकि किसी भी कंपनी में अगर नौकरी करें तो उस कंपनी को आगे बढ़ाने के लिए हर तरह के मार्केटिंग कर पाए।
  • पीजीडीएम कोर्स करने के बाद हर स्टूडेंट में कम्युनिकेशन स्किल का विकास होता है। क्योंकि इस कोर्स में ज्यादातर नॉलेज प्रैक्टिकली करके ही दिया जाता है।
  • इस कोर्स में कई सब्जेक्ट है तो अपने सुविधा के अनुसार अपने चॉइस के अनुसार किसी भी कोर्स को करके उसी क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं।
  • आगे अगर डॉक्टर के फील्ड में डिग्री प्राप्त करना चाहते हैं तो पीएचडी जैसा कोर्स कर सकते हैं।
  • कई स्टूडेंट ज्यादा पैसों की वजह से या एंट्रेंस एग्जाम पास नहीं कर पाते हैं इसलिए एमबीए नहीं कर पाते हैं। एमबीए में बिजनेस मैनेजमेंट के ज्ञान लेने के लिए स्टूडेंट एडमिशन लेते हैं लेकिन जो एमबीए नहीं कर पाते उनके लिए PGDM कोर्स कम पैसों में करने के लिए बेहतर होता है। जिसमें बिजनेस से जुड़े हर तरह के स्किल प्राप्त होता है।

पीजीडीएम कोर्स फीस

इस कोर्स को प्राइवेट कॉलेज या गवर्नमेंट कॉलेज से कर सकते हैं। लेकिन दोनों कॉलेज में अलग-अलग फीस निर्धारित किया गया है। वैसे भारत में जितने भी इंस्टिट्यूट है जहां पर PGDM का कोर्स कराया जाता है हर कॉलेज का अपना अलग-अलग फीस और प्रवेश प्रक्रिया होता है।

इस कोर्स को एंट्रेंस एग्जाम पास करके गवर्नमेंट कॉलेज से कर सकते हैं। गवर्नमेंट कॉलेज में प्राइवेट कॉलेज के मुकाबले फीस कम लगता है। वैसे अनुमानित आधार पर इस कोर्स को करने के लिए लगभग 1 लाख से 20 लाख तक का फीस लग सकता है।

इसमें फीस एक अनुमान के आधार पर बताया गया है। अगर आपको एडमिशन लेना है तो उस कॉलेज में जाकर अच्छे तरीके से प्रवेश प्रक्रिया और फीस के बारे में जानकारी प्राप्त कर ले उसके बाद ही एडमिशन करायें।

पीजीडीएम करने के बाद जॉब प्रोफाइल

आज के समय में कई बड़ी बड़ी कंपनी है जहां पर बिजनेस मैनेजमेंट सलाहकार प्रबंधन के तौर पर एंप्लॉय को हायर करते हैं। वहां पर अच्छे वेतन पर एंप्लोई हायर करते हैं।

जिनमें बेहतर अनुभव और कौशल का गुण हो। इसलिए वर्तमान समय में लगभग कई युवा PGDM का कोर्स करना चाहते हैं। ताकि उनका कैरियर आगे चलकर सिक्योर हो जाए । इस कोर्स को करने के बाद कई कंपनियों में बेहतर पोस्ट पर नौकरी मिल जाते हैं।

  • टीचर
  • प्रोफ़ेसर 
  • अकाउंटेंट 
  • मैनेजर 
  • एक्सक्यूटिव डायरेक्टर एंड हेड 
  • रिटेलिंग मैनेजर 
  • टूरिज्म मैनेजर 
  • सेल परचेज असिस्टेंट मैनेजर 
  • डिजिटल मार्केटिंग मैनेजर 
  • वेब डेवलपर डिजाइनर 
  • एक्सपोर्ट मैनेजर 
  • ऑपरेशन मैनेजर 
  • मैनेजर 
  • ट्रेनर मैनेजर 
  • ब्रांड मैनेजर

पीजीडीएम कोर्स सिलेबस

Semester 1 Human resource management
Management functions and behaviour Financial management
Economic and social environment International business
Human resource management Operations management
Introduction to information technology Information systems
Semester 2 Insurance management
operation management Semester 4
Marketing management Management information systems
Strategic management Research methodology
Managerial economics International business
Quantitative techniques for managers Business law and corporate governance
Semester 3 Project work
Marketing management  

 

पीजीडीएम करने के बाद जॉब क्षेत्र

पीजीडीएम कोर्स करने के बाद भारत में कई प्राइवेट कंपनियां है जहां पर नौकरी कर सकते हैं। बड़े से बड़े मल्टीनेशनल कंपनी में बड़े पोस्ट पर नौकरी करने का मौका मिलता है साथ ही कई गवर्नमेंट सेक्टर में भी नौकरी कर सकते हैं।

  • कॉलेज यूनिवर्सिटी
  • बैंक
  • होटल
  • अकाउंटिंग
  • रिसर्च एंड एजुकेशनल इंस्टीट्यूट
  • सॉफ्टवेयर सॉल्यूशन कंपनी
  • मार्केटिंग
  • डिजिटल मार्केटिंग
  • वेब डेवलपर कंपनी

इसे भी पढ़ें

निष्कर्ष

PGDM एक MBA के समान मैनेजमेंट कोर्स है। जिसको मार्केटिंग बिजनेस मैनेजमेंट आदि संबंधित विषयों के द्वारा कराया जाता है।

PGDM full form in hindi PGDM कोर्स अगर करना चाहते हैं उसके बारे में अगर बेहतर जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं इसमें ऊपर पूरी जानकारी दी गई है। इस लेख से संबंधित अगर किसी तरह का सवाल या सुझाव है तो कृपया कमेंट करके जरूर बताएं।

Leave a Comment