समाजशास्त्र क्या हैं Samajshastra ki paribhasha

Samajshastra, समाज शब्द का प्रयोग आदिकाल से ही होता रहा है हिंदू धर्म के कई ग्रंथ वेद या मनुस्मृति में मनुष्य के जीवन के हर समाजिक जीवन के बारे में वर्णन किया गया है जिसमें समाज में हर व्यक्ति एक दूसरे के साथ किस तरह से रहता है किस तरह से अपना कार्य करता है समाज के हर एक महत्व समाज के नियम संस्कार संस्कृति को समझने के लिए समाजशास्त्र का अध्ययन किया जाता है.

समाजशास्त्र का क्या परिभाषा है Samajshastra ki paribhasha समाजशास्त्र क्या है समाजशास्त्र का अर्थ क्या है के बारे में जानने के लिए इस लेख को पूरा जरूर पढ़ें. विज्ञान का कई शाखा है जिसमें एक समाजशास्त्र को एक माना जाता है समाज के हर एक पहलुओं को जानने के लिए समाज के बारे में विस्तृत रूप से अध्ययन करने के लिए पूरी तरह से जानने के लिए समाजशास्त्र का अध्ययन किया जाता है

समाजशास्त्र को इंग्लिश में सोशियोलॉजी नाम से जाना जाता है सोशियोलॉजी शब्द का उत्पत्ति कब और कैसे हुआ सबसे पहले सोशियोलॉजी शब्द का प्रयोग किसने किया सोशियोलॉजी का जनक किसे कहा जाता है समाजशास्त्र का क्या महत्व है नीचे विस्तार से जानते हैं 

Smajshastra kya hai

समाजशास्त्र विज्ञान का एक ऐसा शाखा है जिसमें कि समाज के हर विभिन्न पहलुओं के बारे में अध्ययन करने को मिलता है समाज का अर्थ लोगों का वह समूह जहां कि कई व्यक्ति एक साथ रहते हैं और शास्त्र का मतलब विज्ञान होता है

समाजशास्त्र का मतलब समाज का विज्ञान होता है समाज का अध्‍ययन करने वाला विज्ञान तो समाजशास्त्र का मतलब सामाजिक समूह के बारे में अध्ययन करना होता है जिसमें की समाज में किस तरह के संगठन है किस तरह का सभ्यता है संस्कृति है आदि जानने को मिलता है.

Samajshastra ki paribhasha

क्योंकि बिना समाज का किसी भी व्यक्ति के जीवन का कोई भी अस्तित्व नहीं है मनुष्य के सामाजिक संबंधों का रहन-सहन का मनुष्य के जीवन में जन्म से लेकर मृत्यु तक कौन-कौन से संस्कार होते हैं किस समाज में किस तरह का नियम सभ्यता संस्कृति बनाया  गया है

ये सारे सामाजिक संबंधों का वर्णन समाजशास्त्र में किया गया है. समाजशास्त्र का विकास समाज के हर एक सामाजिक संबंधों को जानने के लिए लोगों को स्पष्ट रूप से समझाने के लिए ही किया गया है इसीलिए समाजशास्त्र को सामाजिक विज्ञान के नाम से भी जाना जाता है. 

Samajshastra ki paribhasha 

जिस तरह से विश्व के हर एक भौगोलिक स्थिति के बारे में जानने के लिए भूगोल का अध्ययन किया जाता है पृथ्वी के हर एक प्राणी के जीवन के बारे में जानने के लिए जीव विज्ञान यानी के बायोलॉजी का अध्ययन किया जाता है

उसी तरह सामाजिक संबंधों को जानने के लिए समाज के बारे में जानने के लिए समाजशास्त्र का अध्ययन करना आवश्यक होता है क्योंकि कई विद्वानों का मानना है कि जब एक अच्छा समाज विकसित करना है

समाज का विकास करना है तो सबसे पहले समाज के बारे में जानना जरूरी होता है समाजशास्त्र को कई विद्वानों ने अलग-अलग तरह से परिभाषित किया है.

गिड्डिंग्स ने समाजशास्त्र को वैज्ञानिक अध्ययन करने वाला विज्ञान माना है.

वार्ड ने समाजशास्त्र को समाज का विज्ञान कहा है क्योंकि समाजशास्त्र में समाज के बारे में ही उल्लेख किया गया है.

एंथोनी गिडेंस ने समाजशास्त्र को आधुनिक समाज का विज्ञान माना है क्योंकि उनका मानना है कि समाजशास्त्र में जो दो शताब्दियों से कई क्रांति होते आ रहे हैं उनका परिणाम और स्वरूप को जान पाए हैं.

किसी विद्वानों ने माना है कि जिस तरह समाज में मनुष्य के समूह का व्यवहार होता है वह समाजशास्त्र में उल्लेख किया गया है समाजशास्त्र में किसका अध्ययन किया जाता है 

वेनेट एवं ट्यूमिन के अनुसार मनुष्य के सामाजिक जीवन में जो कार्य होते हैं ढांचा होता है उसका विज्ञान समाजशास्त्र को माना है. मनुष्य के जीवन में जितने भी संबंध है उन संबंधों का व्यवहार कार्य घटना आदि के बारे में उल्लेख सोशियोलॉजी में किया गया है. 

सोशियोलॉजी का उत्पत्ति और विकास 

जब से मनुष्य का उत्पत्ति हुआ तभी से समाज का भी उत्पत्ति माना जाता है समाजशास्त्र का उत्पत्ति फ्रांसीसी क्रांति और औद्योगिक क्रांति के बाद माना जाता है कुछ विद्वानों का मानना है कि समाजशास्त्र का उत्पत्ति के कारण यूरोप में पुनर्जागरण और वाणिज्य क्रांति का जन्म हुआ.

जिस तरह समाज में कई आंदोलन हुए क्रांति हुए, धार्मिक परिवर्तन, सामाजिक परिवर्तन, सांस्कृतिक परिवर्तन, आर्थिक परिवर्तन और समाज में कई तरह के बदलाव हुए उसको समझने के लिए एक विषय का जरूरत होने लगा तभी समाजशास्त्र का उत्पत्ति हुआ.

फ्रांस के एक वैज्ञानिक अगस्त कॉम्टे ने समाजशास्त्र का शुरुआत किया सबसे पहले उन्होंने इस विषय का नाम समाजिक भौतिकी रखा था लेकिन 1838 में नाम बदलकर अगस्त कॉम्टे ने सामाजिक भौतिकी को सोशियोलॉजी नाम रख दिया. 

अगस्त कॉम्टे ने ही सोशियोलॉजी को एक सब्जेक्ट के रूप में विकसित किया शुरुआत किया इसीलिए अगस्त कॉम्टे को समाजशास्त्र का जनक कहा जाता है.

भारत में सोशियोलॉजी का शुरुआत 1919 में मुंबई विश्वविद्यालय से माना जाता है और सबसे पहले समाजशास्त्र विभाग का शुरुआत पैट्रिक गेडिस के द्वारा किया गया था जिसके बाद ही भारत में कई विश्वविद्यालयों में समाजशास्त्र का अध्ययन किया जाने लगा भारत के कई प्रमुख समाजशास्त्री है जैसे कि

  • राधा कमल मुखर्जी
  • एस सी दुबे
  • के एम कपाड़िया
  • एमएन श्रीनिवास
  • डी एन मजूमदार
  • जी एस घुरिए
  • इरावती कर्वे
  • योगेंद्र सिंह
  • ए के सरन
  • पीएच प्रभु
  • ए आर देसाई

सोशियोलॉजी शब्द किन शब्दों से मिलकर बना है

Sociology समाजशास्त्र का अंग्रेजी शब्द है लेकिन सोशियोलॉजी शब्द दो भाषाओं के शब्दों से मिलकर बना है. Socius शब्द लैटिन भाषा का एक शब्द है जिसका मतलब समाज होता है और Logos शब्द ग्रीक भाषा का एक शब्द है जिसका अर्थ विज्ञान का अध्ययन करना होता है तो सोशियोलॉजी शब्द का शाब्दिक अर्थ समाज का अध्ययन करने वाला विज्ञान कहा जाता है.

सोशियोलॉजी शब्द 2 भाषा के शब्दों से मिलकर के बना है इस वजह से एक विद्वान जॉन स्टूअर्ट मिल ने इसे 2 भाषाओं की अवैध संतान माना है और सोशियोलॉजी का नाम इन्होंने इथोलॉजी रखने का सुझाव दिया लेकिन इनके इस सुझाव को किसी भी विद्वानों ने नहीं माना उन्होंने अस्वीकार कर दिया.

समाजशास्त्र का सबसे पहला किताब हरबर्ट स्पेंसर ने प्रिंसिपल ऑफ सोशियोलॉजी नाम से लिखा था जिसमें उन्होंने समाज के बारे में पूरी तरह से वर्णन किया है उन्होंने समाज के क्रमबद्ध और व्यवस्थित रूप से उल्लेख किया है प्रिंसिपल ऑफ सोशियोलॉजी किताब को समाजशास्त्र का पहला पाठ्यपुस्तक के रूप में जाना जाता है.

समाजशास्त्र का अर्थ

समाजशास्त्र को एक स्वतंत्र रूप से समाज के बारे में अध्ययन करने वाला जानने वाला विज्ञान कहा जाता है जिसमें समाज में जितने भी पहलू होते हैं एक व्यक्ति के दूसरे व्यक्ति के साथ किस तरह का संबंध होता है और समाज के हर एक सामाजिक घटनाओं, सामान्य लक्षणों का अध्ययन समाजशास्त्र में किया जाता है

क्योंकि समाज में रहने वाले हर एक व्यक्ति के बीच सहयोग संबंध और सामाजिक क्रिया का अध्ययन करना आवश्यक हो जाता है और यह सारी बातें समाजशास्त्र का अध्ययन करने से ही जाना जा सकता है. समाजशास्त्र को समाज के हर एक व्यवस्था उसके प्रगति को जानने वाला विज्ञान कहा जाता है.

समाज के हर एक बुराइयों अच्छाइयों को समाजशास्त्र का अध्ययन करने के बाद जाना जा सकता है इसलिए समाजशास्त्र का शाब्दिक अर्थ समाज का विज्ञान या समाज का अध्ययन करने वाला विज्ञान कहा जाता है.

समाजशास्त्र का प्रकार 

समाज के बारे में पूरी तरह से अध्ययन करने के लिए जानने के लिए समाजशास्त्र को 5 श्रेणियों में बांटा गया है समाजशास्त्र के हर एक पहलू स्वरूप विषय क्षेत्र को पूरी तरह से जानने के लिए समझने के लिए समाजशास्त्र के पांच प्रकार है 

समाजशास्त्र मानव समाज का अध्ययन है 

समाजशास्त्र को सामाजिक विज्ञान का एक शाखा माना जाता है जिसमें की मानव के हर एक सामाजिक संरचना का विकास विवेचनात्मक विश्लेषण सामाजिक कल्याण का अनुसरण विषय वस्तु आदि का अध्ययन किया जाता है

समाजशास्त्र के अध्ययन से समाज में किस तरह का भाषा बोला जाता है किस तरह का सामाजिक परिवर्तन हो रहा है विकास हो रहा है आदि के बारे में जाना जा सकता है.

समाजशास्त्र समाजिक समुह का अध्‍ययन

पृथ्वी पर हर एक व्यक्ति एक सामाजिक समूह का सदस्य होता है और जिस समाज में रहता है उस समाज के रीति रिवाज के अनुसार ही अपना कार्य करता है समाजशास्त्र को सामाजिक समूह का अध्ययन करने वाला विज्ञान माना गया है

सामाजिक समूह में हर एक व्यक्ति का दूसरे व्यक्ति के साथ व्यवहार बात करने का तरीका लक्ष्य क्या है उद्देश्य क्या है वह एक दूसरे से किस तरह से प्रभावित होते हैं उनके बीच कैसा सामाजिक संबंध स्थापित होता है का अध्ययन किया जाता है.

समाजशास्त्र सामाजिक संबंधों का अध्ययन है 

समाज में पति पत्नी के बीच का संबंध पिता पुत्र का संबंध माता और पुत्र का संबंध भाई बहन का संबंध अध्यापक और छात्र के बीच का संबंध किस तरह का होना चाहिए

किस तरह का होता है समाजशास्त्र में पूरी तरह से वर्णन किया गया है इसीलिए समाजशास्त्र को सामाजिक संबंधों का अध्ययन करने वाला विज्ञान कहा जाता है. 

समाजशास्त्र अंत:क्रिया का अध्ययन है 

हर समाज में हर एक व्यक्ति एक दूसरे के ऊपर निर्भर रहता है किसी भी कार्य को करने के लिए किसी व्यवस्थाओं को आपूर्ति करने के लिए एक दूसरे का सहयोग करते हैं

समाज में सामाजिक समूह में कई तरह के नीति नियम निर्धारित किए जाते हैं और इस नियम को हर एक व्यक्ति मानता है और उसी अनुरूप अपना कार्य करता है समाजशास्त्र का अध्ययन करने वाला विषय है. 

समाजशास्त्र सामाजिक जीवन का अध्ययन है

कई विद्वानों ने समाजशास्त्र को सामाजिक जीवन का व्यवहार घटनाओं कार्य का अध्ययन करने वाला एक विषय माना है. 

समाजशास्त्र का जनक किसे कहते हैं 

427 से 347 ईसा पूर्व यूनान के दार्शनिक प्लेटो ने सबसे पहले समाज के स्वरूप की व्याख्या करने का कोशिश किया था उसके बाद प्लेटो के शिष्‍य अरस्तु ने 384 से 322 ईसा पूर्व में समाज में हर एक व्यक्ति या सामाजिक प्राणी के बीच में आपसी संबंधों का अध्ययन करने का शुरुआत किया.

लेकिन समाजशास्त्र को एक स्वतंत्र विषय के रूप में किसी ने नहीं माना था समाजशास्त्र का विकास करने का श्रेय फ्रांस के दार्शनिक अगस्त कॉम्टे को दिया जाता है उन्होंने ही सबसे पहले समाज के बारे में अध्ययन करने के लिए एक विषय बनाया और उसका नाम समाज भौतिकी रखा.

लेकिन बाद में 1838 में उन्होंने इसका नाम बदलकर समाजशास्त्र रखा. समाजशास्त्र को विषय के रूप में स्थापित किया 1876 में अगस्त कॉम्टे ने प्रिंसिपल ऑफ सोशियोलॉजी नाम का एक किताब लिखा

इस किताब को समाजशास्त्र का पहला पाठ्यपुस्तक के रूप में जाना जाता है इसीलिए अगस्त कॉम्टे को समाजशास्त्र का जनक या पिता कहा जाता है इन्हें Father of sociology के नाम से जाना जाता है. 

समाजशास्त्र का महत्व

समाजशास्त्र का अध्ययन हर एक व्यक्ति के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है क्योंकि हर मनुष्य के सामाजिक संबंधो के बारे में जानने के लिए समाज के आधार के बारे में जानने के लिए उसका अस्तित्व के बारे में जानने के लिए समाजशास्त्र का अध्ययन बहुत ही महत्वपूर्ण होता है.

किसी भी समाज का विकास करने के लिए बढ़ाने के लिए हर एक व्यक्ति को सामाजिक ढांचे के बारे में  कुछ जानना जरूरी है समाजशास्त्र के अध्ययन से समाज का विकास समाज की उत्पत्ति उसकी विशेषताओं के बारे में अध्ययन करने को मिलता है.

किस वैज्ञानिक ने समाज के बारे में अपना किस तरह का राय दिया है यह जाना जा सकता है समाज के हर एक आदर्श उद्देश्य और संपूर्ण मानव और समाज का परिचय जाना जा सकता है समाजशास्त्र का अध्ययन करने से सामाजिक जीवन के हर एक सामान्य समस्याओं का ज्ञान हो जाता है.

मनुष्य के जीवन में जन्म से लेकर मृत्यु तक कौन-कौन से संस्कार होते हैं समाज में किस तरह का धर्म पारस्परिक संबंध होता है किस तरह का धार्मिक एकता स्थापित करना चाहिए समाजशास्त्र के अध्ययन से ही जाना जा सकता है समाज में कई तरह के सामाजिक समस्याएं होती है.

बाल अपराध बारे में समस्या का हल खोजा जा सकता है समाज का विकास किया जा सकता है सोशियोलॉजी के अध्ययन से परिवारिक जीवन की समस्याओं को हल किया जा सकता है पति पत्नी के बीच किस तरह का संबंध होना चाहिए वैवाहिक जीवन में परिवारिक जीवन में कई तरह की समस्याएं होती हैं

जिसे सोशियोलॉजी का अध्ययन करने के बाद परिवारिक जीवन को सफल बनाया जा सकता है समाजशास्त्र का अध्ययन व्यवसायिक जीवन के लिए भी महत्वपूर्ण है समाज को सही बनाने के लिए कई तरह के सामाजिक कार्य भी किया जाता है.

समाज का कल्याण करने के लिए समाज सेवा कार्य, ग्रामीण पुनर्निर्माण, परिवार नियोजन, जनगणना आदि कई तरह के सामाजिक कार्य है जिसको समाजशास्त्र में अध्ययन किया जाता है.

ये भी पढ़ें

सारांश

समाज के हर एक संबंधों का व्यावहारिक रूप से व्यवस्थित रूप से संगठित रूप से अध्ययन करने वाला एक आधुनिक विज्ञान समाजशास्त्र को कहा गया है इस लेख में समाजशास्त्र के बारे में पूरी जानकारी दी गई है जिसमें समाजशास्त्र क्या है स

समाजशास्त्र का अर्थ क्या है परिभाषा क्या है सोशियोलॉजी शब्द किन-किन भाषा से मिलकर बना है सोशियोलॉजी शब्द का उत्पत्ति कैसे हुआ समाजशास्त्र के जनक के रूप में किसको जाना जाता है के बारे में पूरी जानकारी दी गई है इससे संबंधित किसी भी तरह का सवाल हैं या सुझाव हैं तो कृपया कमेंट करके जरूर बताएं और अपने दोस्तों को शेयर जरूर करें. Gyanitechtopskill

Leave a Comment