शेयर मार्केट क्या हैं शेयर मार्केट में पैसा कैसे लगाएं

Share market in hindi, Share market kya hai शेयर मार्केट के बारे में अक्सर न्यूज़पेपर टीवी आदि में सुनते और देखते हैं लेकिन शेयर मार्केट क्या है की जानकारी ज्यादा लोगों को नहीं होता है. Share market से कब शेयर खरीदना चाहिए, शेयर मार्केट के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लेख को पूरा पढ़ें.

हर कोई बचपन से ही उज्जवल भविष्य बनाना चाहता है. उसके लिए किसी अच्छे कॉलेज से कोई अच्छा कोर्स करता है जिसके माध्यम से आगे चलकर वह अपना कैरियर अच्छा बना सके. 

कोई व्यक्ति जल्दी पैसा कमाने के लिए शेयर मार्केट में पैसा लगाता है. जिससे की बहुत जल्दी ही ज्यादा पैसा कमा सके. शेयर मार्केट में बिना जानकारी के और बिना किसी अनुभव के शेयर लगाने से कई बार नुकसान भी हो जाता हैं. इसलिए शेयर मार्केट में कब और कैसे शेयर खरीदना चाहिए. 

Share market में शेयर खरीदने के कौन-कौन से तरीके हैं. शेयर मार्केट से पैसा कैसे कमाया जा सकता है. शेयर मार्केट में कब फायदा और कब नुकसान होता है के बारे में आइए नीचे पूरी जानकारी प्राप्त करते हैं. लाईफ इंश्योरेन्स क्या हैं

Contents

शेयर मार्केट क्या हैं

Share market एक तरह का बाजार होता है. जहां पर की बड़ी-बड़ी कंपनियों के शेयर खरीदे और बेचे जाते हैं. शेयर का मतलब बांटना होता है और मार्केट का मतलब बाजार होता है. शेयर बाजार में देश के जितनी भी बड़ी-बड़ी कंपनियां होती है

वह अपनी कंपनी के कुछ हिस्सों का नीलामी करती है. खरीदती है बेचती है जिसका मोल भाव करके कई लोग अपना पैसा लगाकर शेयर खरीदते हैं. 

Share market kya hai

आइए एक उदाहरण से समझते हैं 

जैसे किसी चीज का नीलामी होता है तो वहां पर कई लोग उस नीलामी में हिस्सा लेते हैंण्‍ और एक से बढ़कर एक बोली लगाई जाती हैं. जो व्यक्ति ज्यादा बोली लगाता है वही व्यक्ति उस सामान को खरीद लेता है. 

वह उसका मालिक हो जाता है. वैसे ही शेयर बाजार में कंपनियों की शेयर की ऊंची बोली लगती है और जो व्यक्ति वह शेयर खरीदता है.

वह उस कंपनी में उतने हिस्‍सों का भागीदार हो जाता है. उस कंपनी में जो भी फायदा या नुकसान होता है तो उस व्यक्ति को भी उतना ही फायदा और नुकसान होता है.

अगर किसी कंपनी में 10 परसेंट का शेयर खरीद के अपना पैसा लगाता है और उस कंपनी को अगर फायदा होता है तो उस व्यक्ति को 10 परसेंट का दुगना फायदा होता है. लेकिन अगर उस कंपनी में नुकसान होता है तो उसको एक पैसा भी नहीं मिलता है.

पहले शेयर खरीदने के लिए बोली लगाई जाती थी. लेकिन आजकल हर काम डिजिटल होने की वजह से शेयर मार्केट से शेयर खरीदना भी आसान हो गया है. 

इंटरनेट के माध्यम से अपने घर बैठे ही स्टॉक एक्सचेंज के नेटवर्क के द्वारा अपने कंप्यूटर से शेयर मार्केट खरीद सकते हैं. कई बार तो ऐसा होता है कि इंटरनेट के माध्यम से शेयर खरीदने की वजह से शेयर बेचने वाला और खरीदने वाला एक दूसरे को बिना जाने पहचाने बिना ही शेयर का खरीद बिक्री कर लेता है. हेल्‍थ इंश्योरेंस क्या हैं

शेयर मार्केट में पैसा कैसे लगाएं

किसी भी काम को करने से पहले उस काम के बारे में पूरी जानकारी पूरा इंफॉर्मेशन लेने के बाद ही करने से कुछ काम में फायदा होता है. वैसे ही अगर कोई शेयर मार्केट से शेयर खरीदना चाहता है. तो उसके बारे में पूरी तरह से जानकारी लेने के बाद ही इन्वेस्टमेंट करने पर फायदा हो सकता है.

शेयर मार्केट से शेयर खरीदने के लिए दो तरीके हैं

शेयर खरीदने के लिए पहला तरीका

जिस तरह किसी कंपनी में कार्य करने से पहले किसी बैंक में अकाउंट होना जरूरी है. ताकि जब उस कंपनी से सैलरी मिले तो सीधे उस बैंक के अकाउंट में ट्रांसफर हो जाए उसी तरह शेयर मार्केट में पैसा लगाने से पहले एक डीमैट अकाउंट खुलवाना पड़ता है. 

क्योंकि जब शेयर मार्केट में फायदा होगा उससे जो पैसे मिलेंगे वो सीधे डिमैट अकाउंट में ही जमा हो जाएंगा. इसलिए शेयर खरीदने से पहले डीमेट अकाउंट खुलवाना जरूरी है.

अगर कोई अपने शेयर बेचना चाहता है तो उस शेयर के जो पैसे मिलेंगे वह डीमेट अकाउंट में जमा होता है. डिमैट अकाउंट बैंक के सेविंग अकाउंट से जुड़ा हुआ होता है. 

अगर कोई आगे चलकर डिमैट अकाउंट के पैसे अपने सेविंग अकाउंट में ट्रांसफर करना चाहता है तो बहुत ही आसानी से कर सकता है. डिमैट अकाउंट खुलवाने के लिए किसी भी बैंक में सेविंग अकाउंट होना आवश्यक है.

शेयर खरीदने के लिए दूसरा तरीका

शेयर खरीदने के लिए दूसरा तरीका जब डिमैट अकाउंट खुलवाना है तो वह अपने आप ना जा करके किसी ब्रोकर के माध्यम से अकाउंट खुलवाने पर ज्यादा लाभ होता है. 

क्योंकि Share market के जो ब्रोकर होते हैं उन्हें शेयर मार्केट के बारे में ज्यादा जानकारी होती है. किस कंपनी के शेयर खरीदने पर ज्यादा फायदा होगा, ब्रोकर अच्छी कंपनी में पैसा लगाने के लिए सजेस्ट करेगा, ऐसा करने के लिए ब्रोकर को पैसे भी देना पड़ता है.

शेयर बाजार से शेयर कब खरीदे

टीवी में हमेशा न्यूज़ में देखते हैं कि शेयर मार्केट में उछाल आया है कभी देखते हैं कि शेयर मार्केट नीचे गिर गया है. तो शेयर मार्केट से शेयर खरीदने से पहले इसकी जानकारी रखना आवश्यक है. 

कब शेयर्स खरीदने पर फायदा होगा कब खरीदने पर नुकसान हो सकता है इसमें कब पैसा इन्वेस्ट कर सकते हैं. ताकि हमें दुगना लाभ हो सके. ताकि किसी को ज्यादा फायदा नहीं भी हो तो नुकसान ज्यादा नहीं उठाना पड़े. शेयर मार्केट से शेयर खरीदने में बहुत ही ज्यादा रिस्क होता है. अगर किसी व्यक्ति का आर्थिक स्थिति अच्छा हो तभी उसे शेयर मार्केट में पैसा लगाना चाहिए. ताकि अगर आगे चलकर नुकसान भी होता है. 

तो उसे ज्यादा परेशानी ना हो. शेयर मार्केट के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए न्यूज़पेपर रोज पढ़ना चाहिए टीवी पर कई बिजनेस चैनल आते हैं.

जिस पर कि रोज शेयर बाजार के बढ़ने और घटने के बारे में जानकारी मिल जाता है. इसके साथ ही कई ऐसे बुक आते हैं जिससे कि शेयर मार्केट के बारे में जानकारी हासिल किया जा सकता है.

Share market से शेयर अगर कोई व्यक्ति पहली बार खरीद रहा है तो उसे कम ही पैसे लगाना चाहिए. जिससे कि अगर नुकसान होता है. 

तो उसे ज्यादा का नुकसान नहीं होगा. जैसे-जैसे शेयर मार्केट का एक्सपीरियंस बढ़ता जाएगा. शेयर मार्केट का नॉलेज मिलता रहेगा. वैसे वैसे आगे चलकर व ज्यादा पैसों का इन्वेस्ट करके ज्यादा पैसा कमा सकते है.

शेयर मार्केट को कैसे सीखे

किसी भी देश के विकास के लिए उसके अर्थव्यवस्था के लिए शेयर मार्केट एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता है. कई व्यक्ति ऐसे हैं जो कि शेयर मार्केट में अपना पैसा लगाकर बहुत ही ज्यादा पैसा कमाते हैं. 

शेयर मार्केट को पहले सीखना पड़ता है. उसके बारे में पूरी जानकारी लेना पड़ता है. तभी ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं.

पहले पूरा रिसर्च करें

शेयर बाजार में पैसा लगाने से पहले शेयर बाजार के बारे में पूरी तरह से रिसर्च करना चाहिए. उसके लिए कई टीवी चैनल है जिसमें बिजनेस से जुड़े शेयर मार्केट से जुड़े बातें एक्सपोर्ट बताते हैं.

आजकल तो इंटरनेट के माध्यम से किसी भी तरह की जानकारी प्राप्त किया जा सकता है. मोबाइल, लैपटॉप कंप्यूटर में यूट्यूब चैनल गूगल आदि कई माध्यम है जिससे शेयर मार्केट के बारे में जानकारी लिया जा सकता है.

प्लानिंग के साथ कार्य करें

किसी भी कार्य को एक प्लानिंग के अनुसार जब किया जाता है तो वह कार्य जरूर सफल होता है. अगर बिना किसी रिसर्च के बिना किसी जानकारी के कोई कार्य जल्दबाजी में जब किया जाता है. 

तो उसमें ज्यादातर नुकसान ही उठाना पड़ता है. उसी तरह शेयर मार्केट शेयर लगाने से पहले एक प्लानिंग करना चाहिए कि किस कंपनी का शेयर खरीदने पर ज्यादा फायदा होगा.

ज्यादा रिस्क ना ले

Share market बहुत ही ज्यादा रिस्की होता है. इसमें जो भी अपना शेयर खरीदता है. वह रिस्क पर ही अपना कार्य करता है. 

क्योंकि कब शेयर मार्केट में उछाल आ जाए और कब शेयर मार्केट गिर जाए कोई नहीं जानता है. इसलिए शेयर खरीदने के लिए शुरू में कम ही पैसे इन्वेस्ट करना चाहिए.

शेयर खरीदने के लिए कंपनी के बारे में जानकारी

शेयर्स खरीदने के लिए किसी अच्छी कंपनी का चुनाव करना चाहिए. ज्यादातर उस कंपनी में शेयर लगाना चाहिए जिसका प्रोडक्ट यूज़ किया जाता हो. ज्यादा लोग उस प्रोडक्ट को पसंद करते हो. क्योंकि जब कंपनी का फायदा होगा तभी आपका भी फायदा हो सकता है.

Long टर्म इन्वेस्टमेंट पर ध्यान दें

कई लोग ऐसे होते हैं जो चाहते हैं कि जल्द से जल्द ज्यादा पैसा कमाना चाहते है. लेकिन जल्दबाजी में कोई भी कार्य सही नहीं होता है उसमें नुकसान ही ज्यादातर हो जाता है.

उसी तरह शेयर मार्केट में पैसा लगाने के लिए लोंग टर्म इन्वेस्टमेंट ज्यादा अच्छा होता है. अगर शॉर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट करते हैं और उस कंपनी में जल्द ही ज्यादा मुनाफा होता है तब तो मुनाफा हो सकता है. लेकिन अगर नुकसान होता है तो ज्यादा नुकसान हो सकता है. लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट का परिणाम ज्यादातर अच्छा ही होता है. क्योंकि इसमें ज्यादा फायदा होने का संभावना होता है.

शेयर मार्केट में फायदा या नुकसान कब होता है

शेयर मार्केट में फायदा

पहला किसी भी सामान का ज्यादा डिमांड होता है और दूसरा ज्यादा सामान का सप्लाई होता है. किसी कंपनी की सामान का जब ज्यादा डिमांड बढ़ जाता है और सामान उसमें कम रहता है तो ऐसे समय में उस सामान का कीमत ज्यादा बढ़ा दिया जाता है. 

जिससे कि ज्यादा लोग खरीदते हैं ज्यादा पैसे में खरीदते हैं तो उस कंपनी को फायदा होता है. साथ ही जो व्यक्ति उस कंपनी के शेयर खरीदा रहता है उसे भी मुनाफा होता है.

शेयर मार्केट में नुकसान

Share market में फायदा और नुकसान का दूसरा कारण समान का ज्यादा सप्लाई होता है. जैसे कि किसी कंपनी में किसी सामान का बहुत ही ज्यादा सप्लाई हो जाता है और बाजार में खरीदने वालों की कमी होती है.

जिससे कि उस सामान का कीमत कम करके बेचा जाने लगता है. इससे शेयर में उस कंपनी का नुकसान तो होता ही है साथ ही शेयर मार्केट भी नीचे गिर जाता है.

आइए एक उदाहरण से समझते हैं

भारत की रिलायंस कंपनी का शेयर 2016 से पहले बहुत ही कम दामों में बेचा जाता था. 

लेकिन जब रिलायंस का जिओ 4G सिम आया और मोबाइल आया. उसके बाद इस कंपनी का शेयर ज्यादा दामों में बेचा जाने लगा क्योंकि जब जिओ 4g लॉन्च हुआ.

उसे खरीदने वालों की संख्या देश में बहुत ही ज्यादा होने लगी. हर कोई दूसरी टेलकम कंपनियां छोड़कर जिओ 4g का ही इस्तेमाल करने लगा. इससे रिलायंस कंपनी को बहुत ही ज्यादा फायदा हुआ. और यह कंपनी भारत की नंबर वन कंपनी बन गई.

शेयर मार्केट से पैसा कैसे कमाए

शेयर मार्केट से पैसा कमाने की कई तरीके हैं. जिससे कि कम समय में ही ज्यादा पैसा कमाया जा सकता है. कई कंपनी अपना शेयर बेचते हैं तो अगर कोई वस्तु खरीदा है और जैसे-जैसे उस कंपनी को ज्यादा फायदा होता है. 

वैसे ही उस आदमी को भी ज्यादा फायदा मिलता है. Share market में पैसा लगाने के लिए शर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट और लोंग टर्म इन्वेस्टमेंट है तो कई बार शर्ट टर्म इन्वेस्टमेंट में ज्यादा फायदा हो जाता है.

शेयर मार्केट में शेयर खरीदने से पहले जिस कंपनी का शेयर खरीद रहे हैं उस कंपनी के बारे में यह जानकारी ज्यादा आवश्यक होता है कि वह कंपनी ज्यादा पॉपुलर हैं या नही ताकि ज्यादा फायदा हो.

भारत में कितने शेयर मार्केट हैं

भारत में दो शेयर मार्केट हैं

  1. BSE – Bombay Stock Exchange Bombay स्टॉक एक्सचेंज
  2. NSE – National Stock Exchange नेशनल स्टॉक एक्सचेंज

भारत में शेयर मार्केट में पैसा लगाने के लिए 2 Share market है एक Bombay स्टॉक एक्सचेंज जिसे BSE के नाम से जाना जाता है. और दूसरा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज जिसको NSE के नाम से जानते हैं.

Bombay स्टॉक एक्सचेंज

मुंबई स्टॉक एक्सचेंज एक बहुत ही पुराना Share market है जो कि भारत और एशिया का सबसे पहला शेयर मार्केट है. मुंबई स्टॉक एक्सचेंज का स्थापना 1857 में किया गया था. 417 शहरों में इस शेयर मार्केट का एक्सचेंज है.

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज

1992 में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का स्थापना किया गया था. जो कि भारत का सबसे बड़ा स्टॉक एक्सचेंज है. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज भारत के मुंबई में स्थित है. विश्व में जितने भी स्टॉक एक्सचेंज है उसमें इसका स्थान तीसरे नंबर पर है. भारत के 320 शहरों में नेशनल स्टॉक एक्सचेंज कार्य करता है.

स्टॉक एक्सचेंज से कभी भी डायरेक्ट शेयर नहीं खरीदा जा सकता है. उसके लिए ब्रोकर का आवश्यकता होता है इससे कभी भी आम जनता अपना पैसा निवेश करने के लिए ब्रोकर का सहायता लेते हैं.

 

ये भी पढ़े

सारांश

शेयर मार्केट में किसी भी कंपनी के शेयर खरीदने और बेचने के लिए बोली लगाया जाता है. वैसे आजकल इंटरनेट के माध्यम से घर बैठे भी कोई शेयर मार्केट से शेयर खरीद और बेच सकता है.

भारत में कितने Share market है के बारे में पूरी जानकारी दी गई है. अगर इस लेख से संबंधित कोई सवाल यह सुझाव मन में है तो कृपया कमेंट करके जरूर बताएं और अपने दोस्त मित्रों को शेयर जरूर करें.

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

Leave a Comment