SMS ka full form एसएमएस का फुल फॉर्म क्या होता हैं

SMS ka full form kya hai एस एम एस का फुल फॉर्म क्या होता हैं के बारे में जानने के लिए अगर आप लोग उत्सुक हैं इसके बारे में आपको कोई भी जानकारी नहीं हैं तो इस लेख में S.M.S. के बारे में पूरी जानकारी मिलेगी.

तो आप लोग इस लेख को पूरा जरूर पढ़ें और एसएमएस का पूरा नाम क्या होता हैं इसको हिंदी में क्या कहते हैं इसके बारे में जानकारी प्राप्त करें.SMS का  प्रयोग लगभग हर कोई प्रतिदिन जरूर करता हैं. क्योंकि इसके द्वारा किसी को भी हम लोग अपना संदेश बिना  किसी को बताए और किसी को पता भी नहीं चल पता हैं.

और अपना संदेश हम दूसरे व्यक्ति के पास बहुत ही आसानी से अपने मोबाइल फोन के जरिए पहुंचा सकते हैं. S.M.S. का नाम लगभग बच्‍चा बच्‍चा भी जानता होगा लेकिन इसके फुल फॉर्म के बारे में कम ही लोगों को पता होगा.SMS आजकल कोई भी अपने मोबाइल से दूसरे के मोबाइल पर टाइपिंग करके भेज सकता हैं तो आइए हम लोग इस लेख में जानते हैं कि SMS क्या होता हैं और इसको हिंदी में और इंग्लिश में क्या कहते हैं s.m.s. का क्या उपयोग हैं. 

SMS ka full form kya hai

आजकल लगभग हर किसी के पास मोबाइल हैं और SMS से हर व्यक्ति चाहे वह मोबाइल से डायरेक्ट एसएमएस भेजें या कोई मैसेजिंग ऐप के जरिए जैसे कि व्हाट्सएप और भी कई तरह के ऐप हैं उससे किसी को जरूर करते हैं. SMS ka full form शार्ट मैसेजिंग सर्विस.

  • S:-Short
  • M:-Messaging
  • S:- Service

SMS ka full form kya hai

शर्ट मैसेजिंग सर्विस इसलिए कहते हैं क्योंकि हमें कोई भी जरूरी बात यह कोई छोटा बात किसी के पास पहुंचाना होता हैं तो बहुत ही आसानी से हम अपने मोबाइल में टाइप करके किसी दूसरे के मोबाइल पर भेज सकते हैं. एसएमएस द्वारा अपनी बात दूसरे को बहुत ही छोटे वाक्य में आसानी से समझा भी सकते हैं.

एस एम एस  को हिंदी में क्या कहते हैं

SMS ka full form  SMS को हिंदी में संक्षिप्त संदेश सेवा कहते हैं इसलिए कहा जाता हैं क्योंकि हम लोग s.m.s. के द्वारा कोई बात बहुत ही संक्षिप्त में लिख कर के मैसेज करते हैं. एसएमएस को कई लोग मैसेज भी कहते हैं तो यह भी सही हैं क्योंकि यह मैसेज का मतलब या SMS ka full form संदेश होता हैं. एसएमएस एक संदेश की तरह ही हैं.

एसएमएस क्या हैं 

SMS टेक्स्ट मैसेजिंग सर्विसे हैं. जिसके द्वारा हम किसी को भी अपना संदेश बहुत ही आसानी से कह सकते हैं. और किसी को भी इसके बारे में पता भी नहीं चल पाएगा.

क्योंकि अगर किसी को अपना कोई सीक्रेट बात बताना हो ताकि दूसरा कोई व्यक्ति नहीं जान पाए तो हम लोग फोन से भी बात करेंगे तो कोई ना कोई हमारी आवाज सुन लेगा. लेकिन अपने मोबाइल से वही बात टाइप करके S.M.S. के द्वारा  भेजेंगे तो कोई दूसरा सुन भी नहीं पाएगा और जान भी नहीं पाएगा और हमारा सीक्रेट बहुत ही आसानी से जिसके पास भेजना हैं भेज सकते हैं.

आजकल हर स्मार्टफोन या जो कीपैड वाला मोबाइल फोन रहता हैं चाहे वह किसी भी कंपनी का हो किसी की नोकिया सैमसंग माइक्रोमैक्स एम आई उसमें एसएमएस का ऑप्शन जरूर रहता हैं.

SMS का आविष्कार कब हुआ

आजकल तो कई ऐसे मैसेजिंग ऐप आ गए हैं जिसमें कि हम लोग s.m.s.के साथ-साथ फोटो वीडियो और कई तरह के इमोजी भी आते हैं मैसेजिंग ऐप में भेज सकते हैं. पहले लगभग सभी लोग अपना कोई भी संदेश दूसरे को भेजना होता था तो सिर्फ मैसेज ही यानी कि s.m.s. ही  करते थे.

s.m.s. का आविष्कार  1984 में दो व्यक्तियों के द्वारा किया गया था जिनका नाम Friedhelm Hillbrand और Bernard Ghillebeart था. सबसे पहला एस एम एस नोकिया कंपनी का मोबाइल फोन से किया गया था.

पहली बार जब नोकिया के मोबाइल से SMS किया गया था तो उस समय GSM यूजर के लिए ही यह सुविधा था लेकिन वर्तमान समय में हर मोबाइल में और हर टेलीकॉम कंपनी यह सुविधा देते हैं.

SMS कितने करैक्टर तक भेजा जा सकता हैं

S.m.s. तो किसी के पास कभी भी किसी भी मोबाइल से भेजा जा सकता हैं. लेकिन उसके लिए भी एक लिमिट होता हैं कि कितना तक हम लोग टेक्स्ट लिख कर भेज सकते हैं. किसी के पास अगर हमें मैसेज भेजना हैं तो 160 करैक्टर तक अपना s.m.s. लिख कर भेज सकते हैं.

पहले जो कीपैड वाला मोबाइल फोन आता था उसमें हम सिर्फ मैसेज भेज सकते थे. लेकिन वर्तमान समय में कई तरह के स्मार्टफोन आ गए हैं. जिसमें कि कई तरह के मैसेजिंग एप भी रहते हैं तो उसमें मैसेज के साथ-साथ फोटो वीडियो और किसी भी तरह के डाक्यूमेंट्स या फाइल आसानी से भेज सकते हैं.

वैसे भी मोबाइल से एसएमएस भेजने पर हर s.m.s. का पैसा लगता हैं लेकिन जो मैसेजिंग एप होते हैं उनमें अगर आपके मोबाइल में इंटरनेट हैं तो आप जितना मन करें उतना मैसेज भेज सकते हैं. उसका पैसा नहीं लगता हैं.

एस एम एस का प्रयोग कहां कहां हैं

आजकल हर फील्ड में हर जगह एसएमएस का प्रयोग होता हैं. किसी भी स्कूल या कॉलेज में अगर बच्चों के होलीडे के बारे में या उनके किसी भी तरह के फीस के बारे में उनके माता-पिता को बताना होता हैं.

तो एस एम एस के द्वारा ही सूचित किया जाता हैं. किसी भी कंपनी में अपने एंप्लॉई को किसी भी तरह की अगर सूचना देना हैं तो वह कंपनी ज्यादातर एसएमएस के द्वारा अपने हर एंप्लॉई को सूचना देती हैं.

एस एम एस का क्या फायदा हैं

SMS भेजने का बहुत सारे फायदे हैं कभी-कभी ऐसा समय होता हैं कि कोई ऐसी बात होती हैं कि हमें किसी खास व्यक्ति को हीं बताना होता हैं वह बात कोई दूसरा व्यक्ति नहीं सुन पाए तो बहुत परेशानी होती हैं. मोबाइल फोन से भी अगर बात करके बताएंगे तो कोई सुन लेगा तो एसएमएस बहुत ही अच्छा तरीका हैं.

जिससे कि हम अपनी बात बहुत ही आसानी से किसी के पास पहुंचा सकते हैं. अगर हम किसी भी मैसेजिंग एप यानी कि व्हाट्सएप और कई तरह के जो मैसेजेस ऐप हैं उस पर मैसेज भेजना हो तो तभी भेज सकते हैं.

जब दूसरे व्यक्ति के पास हैं वह मैसेजिंग एप उसके मोबाइल में इंस्टॉल होगा.लेकिन अगर मोबाइल से किसी के पास मैसेज भेजना हैं तो उसके लिए किसी भी जरह के ऐप जरूरी नहीं हैं. हम किसी भी मोबाइल स्मार्टफोन हो या कीपैड वाला मोबाइल फोन हो उससे किसी के भी मोबाइल पर बहुत ही आसानी से भेज सकते हैं.

और यह एस एम एस बहुत ही जल्दी और बहुत ही आसानी से पहुंच जाता हैं. s.m.s. से किसी को अपना संदेश देने में समय का भी बचत होता हैं क्योंकि एस एम एस से हम लगभग शॉर्टकट में ही बातें किसी से भी करते हैं.

ये भी पढ़े

सारांश 

एसएमएस एक तरह का टेक्स्ट मैसेज सर्विस हैं जिसके द्वारा हम बहुत ही कम समय में और कम वाक्य में किसी के पास अपना संदेश भेज सकते हैं. इसमें किसी के जानने का भी डर नहीं रहता हैं.

तो हम आशा करते हैं आप लोगों को एसएमएस का फुल फॉर्म के बारे में पूरी जानकारी मिल गई हैं. अगर इससे जुड़े कोई भी सवाल आपके मन में हैं तो हमें कमेंट के द्वारा पूछ सकते हैं.

इस लेख में  एसएमएस का फुल फॉर्म क्या होता हैं. एसएमएस क्या हैं इसका फायदा क्या हैं. इसका प्रयोग हम लोग कहां-कहां कर सकते हैं. s.m.s. किसी के पास अगर भेजना हैं तो कितने कैरेक्टर तक भेज सकते हैं. यह सारी जानकारी दी गई हैं.

यह आर्टिकल आप लोगों को कैसा लगा हमें कमेंट के द्वारा अपना राय जरूर दें और एसएमएस का फुल फॉर्म के बारे में अपने दोस्त मित्रों को शेयर जरूर करें.

Leave a Comment