Teacher ka Full Form – टीचर का फुल फॉर्म क्या होता हैं

टीचर का फुल फॉर्म क्या होता हैं Teacher ka full form kya hai in hindi Teacher का क्या काम हैं टीचर्स डे कब मनाया जाता हैं।यह सारी जानकारी हम लोग इस लेख में प्राप्त करेंगे अच्छा Teacher अपने किसी भी छात्र को सही रास्ता दिखाते हैं तभी कोई  इंसान अपना भविष्य उज्जवल बनाता हैं और वह सही रास्ते पर चलता हैं तो वह एक अच्छे शिक्षक के बदौलत ही करता हैं कर पाते हैं।

किसी भी सफल व्यक्ति के सफल होने के पीछे Teacher का हाथ होता है टीचर यानी कि अध्यापक शिक्षक जो कि अपने छात्र को उसके जीवन के वास्तविक समस्याओं से लड़ने के लिए उसके समस्या से सामना करने के लिए सक्षम बनाता है Teacher की नौकरी हर नौकरी में सम्मानित नौकरी माना जाता है क्योंकि एक टीचर का कार्य अपने छात्र को शिक्षित बनाना उसे दुनिया में कैसे जीना है

अपने भविष्य को किस तरह से उज्‍जवल बनाना है के बारे में सिखाना होता है। इसीलिए शिक्षक को सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है हमारे जीवन की बेसिक जानकारी किताबी जानकारी दुनिया से बाहर की सारी जानकारी टीचर से मिलती है। हम लोग इस लेख में Teacher यानी कि टीचर का फुल फॉर्म क्या होता हैं टीचर कैसा होना चाहिए आइए नीचे जानते हैं।

Teacher ka full form kya hai in hindi

टीचर अपने छात्र को सही रास्ता दिखाते हैं माता पिता के बाद टीचर ही वह इंसान होते हैं जो सही क्या गलत हैं और आगे भविष्य में कैसा इंसान बनना हैं वह बताते हैं

हर इंसान का जो सुनहरा और उज्जवल भविष्य होता हैं वह एक टीचर के पढ़ाए गए अच्छी और बेहतर शिक्षा की बदौलत ही। Teacher ही हमें अच्छी शिक्षा देकर और उत्साहित करके हमें आगे बढ़ने में मदद करते हैं।

Teacher ka full form kya hai in hindi

टीचर यानी कि शिक्षक का कार्य होता है अपने छात्रों को सही जानकारी देना इसलिए एक अच्छे Teacher के अंदर कुछ अच्छे गुण भी होना चाहिए तभी वह आदर्श अध्यापक बन सकता है

उसे अध्यापन के प्रति रुचि होनी चाहिए निष्ठा होनी चाहिए शिक्षक अगर किसी विषय के बारे में अपने छात्र को पढ़ाता है तो उसे खुद भी उसके बारे में पूरी जानकारी प्राप्त होनी चाहिए।

 

किसी भी शिक्षक के अंदर मनोवैज्ञानिक जानकारी होना चाहिए क्योंकि कभी-कभी किसी छात्र को किसी तरह का बात दिमाग में बैठ जाता है जिससे वह पढ़ाई में मन नहीं लगाता है

तो टीचर को अगर मनोविज्ञान का ज्ञान रहेगा तो अपने छात्र को उसके मन के अनुसार पढ़ा सकेगा।टीचर का फुल फॉर्म नहीं होता हैं लेकिन टीचर के एक एक मीनिंग का एक एक मतलब निकाला जाता हैं

  • T:-talented
  • E:-educated
  • A:-attitude
  • C:-character
  • H:-harmony
  • E:-efficient
  • R:-reliable

टीचर का फुल फॉर्म और भी कई हैं कई लोग अपने अपने विचारों के मुताबिक बताए हैं जैसे कि

  • T:-talented
  • E:-excellent
  • A:-adorable
  • C:-charming
  • H:-humble
  • E:-encouraging
  • R:-responsible

टीचर को हिंदी में क्या कहते हैं

Teacher को हिंदी में अध्यापक शिक्षक गुरु कहा जाता हैं टीचर से हम शिक्षा प्राप्त करते हैं इसलिए शिक्षा देने वाला शिक्षक कहलाता हैं टीचर ही हमें पढ़ना लिखना सिखाते हैं

कैसे कौन सा वर्ड बोलते हैं कैसे उसका उच्चारण करते हैं सारी बातें शिक्षक हमें सिखाते हैं। पढ़ाई की कोई उम्र नहीं होती हैं और शिक्षक का भी कोई उम्र नहीं होता हैं

अगर कोई छोटा भी हैं वह कोई अच्छा ज्ञान देता हैं अच्छी बातें बताता हैं तो वह भी शिक्षक ही कहलाएगा। Teacher हमें अनुशासन में रहना सिखाते हैं। शिक्षक और छात्र के बीच एक अच्छा तालमेल रहना चाहिए

तभी शिक्षक अपने छात्रों को अच्छे से ज्ञान दे सकते हैं। टीचर अपने छात्र को एक अच्छा व्यक्ति बनना सिखाते हैं और उस व्यक्ति को अपने जीवन में अपनी समस्याओं से कैसे सामना करना हैं उस लायक शिक्षक ही बनाते हैं।

शिक्षक में कौन से आदर्श गुण होना चाहिए

किसी व्यक्ति को अगर शिक्षा प्राप्त करना है तो शिक्षक एक टीचर एक अध्यापक के बिना वह सफल नहीं हो पाएगा लेकिन किसी भी टीचर के अंदर एक आदर्श गुण होना चाहिए

तभी वह आदर्श अध्यापक कहलाएगा तो एक Teacher के अंदर उत्तरदायित्व होना चाहिए कि अपने छात्रों को पूर्ण रूप से शिक्षा देकर उसे समर्थ बना दें शिक्षक के अंदर शैक्षिक योग्यता होना चाहिए

ताकि जो भी वह सब्जेक्ट अपने छात्र को पढाये तो उसमें उसे पहले ही पूरी जानकारी हो तभी वह अपने छात्र को जानकारी दे सकता है जब कोई व्यक्ति टीचर बनता है

तो उसे अपने उस मनपसंद व्यवसाय में रुचि और निष्ठा होनी चाहिए क्योंकि कई ऐसे Teacher होते हैं जो कि शिक्षा देना एक कमाई का साधन समझते हैं तो ऐसे समय में वह छात्रों को अच्छे से शिक्षा नहीं दे सकते हैं

कई शिक्षक ऐसे हैं जो कि समय बांध के छात्रों को पढ़ाते हैं और उस समय सीमा के अंदर ही चाहे वह छात्र कुछ समझा हो या न समझा हो उनका पढ़ाई बंद कर देते हैं तो उस बच्चे को कुछ समझ में ही नहीं आएगा

तो वह पढ़ कर क्या करेगा। किसी भी Teacher में शिक्षण विधि होना चाहिए ताकि अपने जो छात्र को वह सब्जेक्ट पढ़ा रहा है या किसी भी विषय में पढ़ा रहा है तो उसको समझाने का गुण होना चाहिए

ताकि अपने छात्र को उचित शिक्षण की विधि समझा सके छोटे-छोटे बच्चों को पढ़ाने के लिए उनके साथ खेल के साथ प्रदर्शन विधि कहानी का प्रयोग करके आसानी से पढ़ाया जा सकता है

ऐसे पढ़ाई बच्चों पर प्रभावशाली भी होता है किसी भी Teacher को सहायक सामग्री का प्रयोग करके अपने छात्रों को पढ़ाना चाहिए जैसे कि किसी भी छात्र को उनके स्तर के अनुसार उनके योग्यता के अनुसार शिक्षक पढ़ा सकें

जिस छात्र के पास जितना क्षमता है जितने विषय वस्तु है उसी में उसको अच्छी शिक्षा दे सके।एक बेहतर शिक्षक का गुण एक आदर्श शिक्षक का गुण यह भी होता है कि उसमें किसी भी तरह का ज्ञान लेने का ललक हो सीखने का ललक हो

जैसे कि कोई Teacher अपने विद्यार्थी को पढ़ा रहा है तो उसे कभी न कभी ऐसा भी होता है कि अपने छात्र से भी कुछ सीखने को मिल जाता है तो वह अध्यापक अगर अपने छात्र में रुचि लेगा

उसे विकसित करने के बारे में सोचेगा प्रयत्न करेगा तभी वह एक आदर्श शिक्षक बन सकता है एक शिक्षक को समय का पाबंद भी होना चाहिए यह किसी भी अध्यापक का एक महत्वपूर्ण गुण होता है

यानी कि अगर स्कूल या ट्यूशन का समय जब से शुरू होता है उसी समय पर Teacher अपने क्लास में हाजिर हो जाए प्रार्थना सभा में उपस्थित हो जाए और जब उस क्लास का समय खत्म होता है

ठीक उसी समय अपने छात्र को भी छोड़ देना चाहिए अगर एक शिक्षक समय का पाबंद होगा अनुशासित होगा तो वह अपने छात्र को भी वही शिक्षा देगा उसका छात्र भी अनुशासन में रहना सीखेगा।

Teacher का चरित्र का प्रभाव उसके छात्रों पर पड़ता है तो एक अध्यापक को अपने छात्र के सामने अच्छे चरित्र के साथ अच्छे रूप में आना चाहिए कभी भी अपने छात्रों के सामने गलत या अनैतिक हरकत के साथ नहीं रहना चाहिए।

एक अध्यापक को धैर्यवान होना चाहिए धैर्य का गुण होना आवश्यक है और अपने छात्रों को भी धैर्य से रहना धैर्य के साथ सोच समझकर किसी भी कार्य को करना सिखाना चाहिए।

टीचर का क्या काम हैं

टीचर का काम यह होना चाहिए कि वह अपने छात्र को आत्मनिर्भर बनाएं अपने छात्र को अनुशासन में रहना सिखाएं ताकि आगे चलकर छात्र को अगर कठिन समय भी आए

तो उससे निकलने के लिए किसी की मदद नहीं लेनी पड़ेगी टीचर ही हर इंसान के शुरुआती जीवन में पढ़ना लिखना सही से अध्यापन करना सिखाते हैं टीचर का हमारी जिंदगी में एक बहुत ही अनमोल रिश्ता और एक बहुत ही बड़ा योगदान होता हैं

भले ही वह स्कूल का टीचर हो कॉलेज का कोचिंग का किसी भी तरह का ट्रेनिंग देने वाला शिक्षक हो। Teacher जब अच्छा और बेहतर शिक्षा अपने छात्र को देंगे

तभी एक छात्र आगे चलकर अच्छा इंसान बनकर एक सफल और होनहार व्यक्ति बन सकता हैं टीचर छात्र के लिए आदर्श होना चाहिए क्योंकि शिक्षक के बताएं हुए ज्ञान के वजह से ही कोई भी छात्र आगे चलकर एक अच्छा इंसान बनता हैं।

Teacher को अपने छात्रों को अनुशासन में रखना सिखाना चाहिए क्योंकि बिना अनुशासन के कोई भी विकास नहीं कर सकता हैं।शिक्षक छात्र का दोस्त होना चाहिए और उसके साथ ही उसे सख्त भी होना चाहिए

ताकि अपने छात्र को अनुशासन में रहना सिखा सकें और जब कभी समय पड़े शख्ति से पढ़ना लिखना सिखाएं ताकि छात्र आगे चलकर एक आदर्श समाज का निर्माण कर सकता।

टीचर्स डे कब और क्यों मनाते हैं 

Teacher’s डे 5 सितंबर को हर साल मनाया जाता हैं क्योंकि इसी दिन भारत के पहले उपराष्ट्रपति सर्वपल्ली डॉ राधाकृष्णन का जान्म हुआ था। सर्वपल्ली डॉ राधाकृष्णन का जन्म 1888 में हुआ था।

राधा कृष्णा बहुत ही अच्छे इंसान थे और वह बहुत ही अच्छे शिक्षक भी थे। सर्वपल्ली डॉ राधाकृष्णन विवेकानंद के विचारों से प्रभावित थे और वह अपने छात्रों को बहुत अच्छा ज्ञान देते थे।

इतने अच्छे शिक्षक थे कि उनके कुछ मित्रों ने और कुछ छात्रों ने मिलकर उनके जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाना शुरू कर दिया 1962 में राधाकृष्णन जब उपराष्ट्रपति बने उसके बाद उनके जन्मदिन को शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाने लगा।

सारांश 

शिक्षक छात्र का एक सच्चा मित्र होता हैं और अपने छात्र के लिए आदर्श होता हैं क्योंकि माता-पिता के बाद टीचर ही ऐसे इंसान होते हैं जो किसी भी इंसान को सही से शिक्षित करके

उन्हें अच्छा भविष्य बनाने के लिए प्रेरित करते हैं। किसी भी इंसान को एक शिक्षक ही आत्म निर्भर बनना सिखाते हैं। आप लोगों को टीचर का फुल फॉर्म से जुड़े कोई सवाल में मन में हैं तो हमें कमेंट करके जरूर पूछें।

इस लेख में टीचर का फुल फॉर्म क्या होता हैं के बारे में पूरी जानकारी दी गई हैं आप लोगों को यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं और अपने दोस्त मित्रों और रिश्तेदारों को शेयर जरूर करें।

2 thoughts on “Teacher ka Full Form – टीचर का फुल फॉर्म क्या होता हैं”

  1. आपने टीचर के बारे में पूरा फुल फॉर्म बताया है हमने भी टीचर का फुल फॉर्म अपने आर्टिकल में बताया है इसके साथ ही 800+ General Full Forms लिस्ट दी है जिसे आप यहाँ से देख सकते हो|

    Reply

Leave a Comment