टीचर कैसे बने, योग्यता, कोर्स एवं कार्य Teacher kaise bane

टीचर की नौकरी एक बहुत ही सम्मानित नौकरी होता है टीचर को हिंदी में शिक्षक कहा जाता है कई लोगों का सपना होता है चाह होता है कि वह किसी स्कूल में शिक्षक के रूप में कार्य करें बच्चों को शिक्षा प्रदान करें लेकिन टीचर कैसे बने Teacher kaise bane टीचर बनने के लिए कौन-कौन से कोर्स है क्या योग्यता है

इसके लिए क्या आयु सीमा होती है क्या फायदा होता है गवर्नमेंट टीचर कैसे बन सकते हैं प्राइवेट शिक्षक कैसे बन सकते हैं के बारे में जानने के लिए इस लेख को पूरा जरूर पढ़ें.किसी भी व्यक्ति के लिए टीचर लाइन में जाना अपने पास जो भी ज्ञान है जो भी जानकारी है उसको दूसरे बच्चों को प्रदान करना बहुत ही प्रतिष्‍ठा की बात होती है जब स्टूडेंट अपना पढ़ाई पूरा कर लेते हैं तो अलग-अलग क्षेत्र में वह अपना कैरियर बनाते हैं

कोई इंजीनियर बनना चाहता है कोई डॉक्टर बनना चाहता है कोई प्रोफेसर बनना चाहता है कोई फोर्स में जाना चाहता है कोई पुलिस बनना चाहता है कोई शिक्षा के लाइन में अपना कैरियर बनाना चाहता है तो उसके लिए हर एक कोर्स के बारे में जानना आवश्यक है तो इस पोस्ट में नीचे जानते हैं की टीचर बनने के लिए क्या-क्या करना होता है. टीचर का फुल फाॅर्म के बारे में जानें। 

Teacher kaise bane

टीचर अगर बनना चाहते हैं तो उसके लिए सबसे पहले 12वीं के बाद ग्रेजुएशन को पूरा करना आवश्यक है शिक्षक बनने के लिए कई कोर्स है ग्रेजुएशन के बाद कोर्स कर सकते हैं और उसके बाद प्राइवेट टीचर गवर्नमेंट टीचर प्राइमरी टीचर जो भी बनना चाहते हैं

उसमें अपना करियर बना सकते हैं.इसके लिए सबसे बेहतर या ज्‍यादा प्रचलित कोर्स बीएड का कोर्स होता हैं जिस तरह हर नौकरी के लिए कुछ योग्यता होनी चाहिए उसके लिए कोई खास कोर्स करना चाहिए उसी तरह एक शिक्षक बनने के लिए कुछ जरूरी स्किल क्वालिफिकेशन आदि होना आवश्यक है इसके साथ ही कुछ जरूरी कला ज्ञान आवश्‍यक हैं.

Teacher kaise bane

1.बच्चों को पढ़ाने की कला

एक योग्‍य टीचर बनने के लिए सबसे जरूरी है कि पढ़ाने की कला होनी चाहिए क्योंकि बच्चे उसी Teacher से ज्यादा पढ़ना पसंद करते हैं ज्ञान लेना ज्यादा चाहते हैं जो शिक्षक अपने छात्र को जिस विषय का चैप्टर पढ़ाए तो बच्चे आसानी से समझ सके जो भी ज्ञान अपने शिक्षक से ले वह हमेशा उन्हें याद रहे. टीचर्स डे कें बारे में पूरी जानकारी पढ़ें.

2.Teacher banne ke liye course

शिक्षा के क्षेत्र में अपना कैरियर बनाने के लिए सबसे जरूरी है कि कोई ऐसा कोर्स करें जिससे कि एक टीचर बनने में आसानी हो एक अध्यापक बनने के लिए कई कोर्स है जैसे कि b.ed टीईटी सीटीईटी एग्जाम आदि.

B.ed:- यह एक डिप्लोमा कोर्स होता है. b.ed का कोर्स करने के लिए  उम्र सीमा 21 साल से लगभग 35 साल तक होता है.b.ed का कोर्स करने के लिए सबसे पहले 12वीं के बाद ग्रेजुएशन करना जरूरी है एक अध्यापक बनने के लिए बीएड का कोर्स बहुत ही अच्छा और जरूरी होता है b.ed का फुल फॉर्म बैचलर ऑफ एजुकेशन होता है. यह कोर्स करने के बाद किसी भी प्राइवेट स्कूल गवर्नमेंट स्कूल में एक शिक्षक के रूप में कार्य कर सकते हैं.

इसको करने के लिए ग्रेजुएशन में कम से कम 50 परसेंट अंक होना चाहिए इसके बाद ही इस कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं b.ed का कोर्स 2 साल का होता है भारत में कई ऐसे सरकारी और प्राइवेट कॉलेज है जहां पर इस कोर्स का पढ़ाई होता है b.ed में एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम भी दे सकते हैं या किसी भी प्राइवेट कॉलेज में डायरेक्ट भी एडमिशन ले सकते है.

टीईटी :- एक अध्यापक बनने के लिए बहुत ही बेहतर और बहुत ही अच्छा एग्जाम टीईटी का होता है अगर किसी को टीचिंग लाइन में अपना करियर बनाना है तो बीएड की पढ़ाई पूरी करने के बाद टीईटी का एग्जाम देकर अगर उसमें पास हो जाते हैं तो किसी भी स्कूल में नौकरी कर सकते हैं टीईटी का फुल फॉर्म टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट होता है.

सीटीईटी:- एक अध्यापक के रूप में किसी भी स्कूल में पढ़ाने के लिए सीटीईटी का एग्जाम भी दे सकते हैं सीटीईटी का फुल फॉर्म सेंट्रल टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट होता है यह परीक्षा सीबीएसई बोर्ड के द्वारा लिया जाता है सीटीईटी पास करने के बाद किसी भी केंद्रीय स्कूल में एक शिक्षक की नौकरी कर सकते हैं.

3. टीचर ट्रेनिंग करें

कोर्स करने के बाद एक योग्‍य Teacher बनने के लिए टीचर ट्रेेेेनिंग करना पड़ता है जिसमें बच्‍चों को कैसे पढ़ाते हैं बच्‍चों को पढ़ाने के कौन कौन तरीके हैं आदि के बारे में समझाया जाता हैं.

4.टीचर वैकेंसी का फॉर्म अप्‍लाई करें  

बीएड कोर्स करने के बाद Teacher के लिए जब वैकेंसी  निकलता हैं तो फॉर्म भरें.Teacher बनने के लिए कई एग्‍जाम होते हैं जैसे टीईटी, एसटीईटी और सीटीईटी आदि पास करनाा पड़ता हैं जिसके बाद प्राईमरी स्‍कूल,मिडिल स्‍कूल या हाई स्‍कूल में टीचर की नौकरी लग सकती हैं.

5.सब्जेक्ट के बारे में जानकारी

हर स्कूल में हर सब्जेक्ट के अलग-अलग Teacher होते हैं वह टीचर उसी एक सब्जेक्ट के बारे में विस्तार से ज्ञान देते हैं पढ़ाते हैं तो इसलिए अगर किसी को टीचर बनना है तो उसके लिए जिस सब्जेक्ट में ज्यादा रूचि है जिस सब्जेक्ट में ज्यादा ज्ञान है उसी विषय के बारे में ज्यादा ध्यान देना चाहिए ताकि वह अगर अपने स्टूडेंट को उस विषय के बारे में पढ़ाए तो अपने अच्छे से समझा सके. इस तरह से वह अपने छात्र के लिए एक बेस्ट टीचर के रूप में अपनी छवि बना सकते हैं.

6.बच्चों को अच्छे संस्कार दें

एक शिक्षक का फर्ज होता है कि अपने छात्र को डिसिप्लिन में रहना सिखाएं हर कार्य को समय के साथ करने के बारे में अनुशासन में रहकर हर कार्य करने के बारे में शिक्षा दें बच्चे अपने शिक्षक से कई संस्कार भी सीखते हैं.

Teacher kaise bane

टीचर के लिए योग्यता

किसी भी स्कूल में पढ़ाने के लिए Teacher की नौकरी करने के लिए कई कोर्स है जोकि करने के बाद शिक्षक बन सकते हैं 

  • उसके लिए सबसे पहले 12वीं के बाद किसी भी सब्जेक्ट से ग्रेजुएशन पास करना जरूरी है उसके बाद ही कोई कोर्स कर सकते हैं
  • ग्रेजुएशन में कम से कम 50 परसेंट मार्क जरूरी है तभी b.ed में या किसी भी कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते हैं 
  • जिस विषय का शिक्षक बनना चाहते हैं उसके बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए और उसी विषय से ग्रेजुएशन होना जरूरी है.

प्राइमरी टीचर कैसे बने

1 से लेकर पांचवी क्लास तक की पढ़ाई जिस स्कूल में होती है उस स्कूल को प्राइमरी स्कूल कहा जाता है और उसमें जो शिक्षक पढ़ाते हैं उन्हें प्राइमरी टीचर के नाम से जाना जाता है प्राइमरी टीचर बनने के लिए 12वीं पूरी करने के बाद ग्रेजुएशन करना जरूरी है 12वीं में किसी भी विषय से 50 परसेंट मार्क्स होना जरूरी है प्राइमरी टीचर बनने के लिए 18 से 35 वर्ष तक एज लिमिट होता है ग्रेजुएशन करने के बाद टीचर ट्रेनिंग का कोर्स करके किसी भी प्राइमरी स्कूल में पढ़ा सकते हैं.

प्राइवेट टीचर कैसे बने

एक प्राइवेट स्कूल में पढ़ाने के लिए प्राइवेट शिक्षक बनने के लिए सबसे जरूरी है कि 12वीं पास करने के बाद ग्रेजुएट होना जरूरी है ग्रेजुएशन के बाद बीएड टीईटी सीटीईटी कोर्स को पूरा करें और उसके बाद एक प्राइवेट टीचर बनने के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

Teacher banne ke liye age limit

किसी भी शिक्षक पात्रता परीक्षा को पास करने के लिए इस कोर्स के लिए अप्लाई करने के लिए एक एज लिमिट होता है जिस तरह हर परीक्षा में हर कोर्स में उम्र सीमा रहता है उसी तरह एक शिक्षक बनने के लिए भी उम्र सीमा है टीचर की बनने के लिए b.ed की पढ़ाई करने के बाद या कोई भी दूसरा कोर्स करने के बाद से लेकर अधिक से अधिक 35 साल तक उम्र सीमा होती है.

टीचर बनने के फायदे

कई ऐसे व्यक्ति होते हैं जिन्हें बच्चों को पढ़ाने में रूचि होता है किसी स्कूल में एक शिक्षक के रूप में कार्य करना चाहते हैं अपने पास जो भी ज्ञान है वह दूसरों के साथ साझा करना चाहते हैं दूसरों को ज्ञान देना चाहते हैं तो शिक्षक बनने के बाद कई फायदे होते हैं.

  • शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करना एक प्रतिष्ठित सम्मान की बात होती है.
  • किसी भी व्यक्ति के आगे बढ़ने में सही राह दिखाने में एक शिक्षक का ही अहम भूमिका होता है.
  • इस नौकरी में अच्छी सैलरी के साथ साथ कई सुख सुविधाएं भी मिलती है और शिक्षक की नौकरी में छुट्टी भी ज्यादा रहती है.
  • बच्चों में अच्छे संस्कार बेहतर ज्ञान और अनुशासन के साथ कार्य करने के लिए शिक्षा दे सकते हैं उन्हें सही मार्ग पर चलना सिखा सकते हैं 
  • प्रगति की राह पर चलकर अपने भविष्य को उज्जवल बनाना सिखा सकते हैं.
  • हर व्यक्ति के पहले गुरु और भगवान माता पिता को माना जाता है लेकिन दूसरे गुरु या एक पथ प्रदर्शक के रूप में अध्यापक को ही जाना जाता है क्योंकि एक अध्यापक के द्वारा ही सिखाएं ज्ञान शिक्षा आदि के बल पर कोई भी व्यक्ति आगे चलकर एक सफल इंसान बनता है.
  • समाज में प्रतिष्ठित व्‍यक्ति के रूप में पहचाना जाता हैं.

शिक्षक का कार्य

एक शिक्षक का सबसे महत्वपूर्ण और जरूरी कार्य बच्चों को पढ़ाना होता है बच्चों को सही ज्ञान देना होता है अपने छात्र को जीवन में अच्छे कार्य करने के लिए प्रेरित करना होता है किस तरह से अनुशासन में रहकर समय के अनुसार अपना कार्य करना चाहिए लोगो को सम्मान देना चाहिए इस तरह का ज्ञान एक शिक्षक के द्वारा ही दिया जाता है.

हर शिक्षक का सबसे प्रथम कार्य अपने बच्चों को सही मार्ग पर चलते हुए एक बेहतर इंसान बनने के बारे में शिक्षा देना होता है.

FAQ

Teacher banne ke liye course in Hindi

स्कूल में अध्यापक बनने के लिए कई कोर्स हैं जिनमें सबसे प्रमुख बीएड सीटीईटी आदि होता है.

टीचर का फुल फॉर्म

टीचर का फुल फॉर्म टैलेंटेड एजुकेटेड एटीट्यूट कैरेक्टर हारमोनी एफिशिएंट रिलीवल होता है.

टीचर के लिए उम्र सीमा

ग्रेजुएशन करने के बाद से लेकर लगभग 35 साल की उम्र तक एक शिक्षक बनने के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

निष्कर्ष

इस लेख में एक योग्य शिक्षक बनने के लिए शिक्षा के क्षेत्र में कार्य करने के लिए कई सारे कोर्स के बारे में बताए गए हैं एक टीचर कैसे बने से संबंधित सभी जानकारियों को ऊपर दिया गया है जिसमें शिक्षक बनने के लिए क्या उम्र और योग्‍यता होनी चाहिए. इस लेख से जुड़े या अगर किसी तरह का सवाल आपके मन में है तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं.

Leave a Comment